सफल बच्चों के माता-पिता के 7 लक्षण

आदित्य मित्तल, सिएफो, आर्सेलर मित्तल पिता लक्ष्मी मित्तल के साथ

AR-60518048

एक माँ बाप के तौर पर हम अपने बच्चों के लिए सब कुछ चाहते हैं .पेनसिलवेनिया स्टेट यूनिवर्सिटी और ड्यूक यूनिवर्सिटी के 20 साल लम्बे रिसर्च से ये पता चलता है की एक सफल बच्चे के माता पिता  में ख़ास कर के 7 गुण पाए जाते हैं . इस रिसर्च में यूनाइटेड स्टेट के 3 से 25 साल तक के 700 बच्चों को शामिल किया गया . आइये जानते हैं क्या हैं वो गुण .

ऊँची उम्मीद

सुन्दर पिचई , सीईओ , गूगल

sundar-pichai

एक सफल बच्चे के पालन पोषण में उनके लिए ऊँची गोला का निर्माण करना बहुत जरूरी हो जाता है . इसे प्य्ग्मलिअन इफ़ेक्ट कहते हैं . जिसमे एक व्यक्ति दुसरे के आकर काम करनी की उम्मीद रखता है .

इसके सबसे बेहतर उदाहरण है गूगल के सीईओ सुन्दर पिचई . उसकी अछि पधिया को द्केहते हुए उनके माता पिता ने उन्हें स्टैनफोर्ड भेजना चाहा अच्छी पढ़ाई के लिए. इसके लिए जहाँ उन्होंने अपनी सारी सेविंग तोड़ कर उन्हें पढने भेजा जब उन्हें लोन नहीं मिला . उनकी कोशिश रंग लाइ .

अच्छे सामाजिक कौशल

सचिन तेंदुलकर

Winning-Captain-Press-Conference-2011-ICC-Y9LahLciNPil

अच्छा सामाजिक कौशल हमेशा काम में आते हैं और आसानी से आपके बच्चे के पसंदीदा बन सकते हैं। वास्तव में, बच्चों के सामाजिक और भावनात्मक कौशल विकसित करने में माता-पिता उनकी मदद कर सकते हैं .

सचिन तेंदुलकर ऐसे ही एक केस हैं . क्रिकेट का भगवान् कहे जाने वाले सचिन को उनकी अच्छी सामाजिक भावनाओं और व्यवहार के लिए जाना जाता है . एक बार चेन्नई में वो शारीरिक रूप से अक्षम बच्चों से मिलें . उनमे से एक बच्चे ने कहा की वो सचिन का सबसे बड़ा फैन है . सचिन ने उस बच्चे को अपने साथ क्रिकेट खेलने के लिए आमंत्रित किया . बच्चा इतना ज्यादा खुश हुआ की वो अचानक अपने पैरों पर खड़ा हो उठा .

कामकाजी माएँ

डिज़ाइनर मसाबा गुप्ता अपनी माँ नीना गुप्ता के साथ

i0vb5afl1i25en4u.D.0.Neena-Gupta-with-daughter-Masaba

हर्वेर्ड बिज़नस स्कूल के एक रिसर्च के मुताबिक कामकाजी माँ के बच्चों को बहुत फाएदा होता है . इस रिसर्च में ये भी पाया गया की इनके बेटियाँ भी ज्यादा पढ़ती हैं  और बाकिओं के मुकाबले ज्यादा कमाती हैं . जानी मानी डिज़ाइनर मसाबा गुप्ता इसकी एक परफेक्ट उदहारण हैं . विवियन रिचर्ड और नीना गुप्ता की बेटी नीना गुप्ता ने फैशन इंडस्ट्री में ओपनी ही एक पहचान हासिल कर ली है .

उच्च शिक्षा पर ध्यान दें

रोहन मूर्ती , जूनियर फेलो, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी

rohan-U17035072070417b-621x414@LiveMint

जिन माता पिता ने उच्च शिक्षा प्राप्त की है वो अपने बच्चों को बेहतर समझ पाते हैं . नतीजतन उनके बच्चे ज्यादा मोटीवेट होते हैं और जयादा आगे बढ़ते हैं . 2014 में मिशिगन यूनिवर्सिटी द्वारा किये गये एक अध्ययन में पाया गया है जो माता पिता उच्च शिक्षा हासिल करते हैं उनके बच्चे भी उच्च शिक्षा आसानी से हासिल कर पाते हैं .

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के जूनियर फेलो रोहन मूर्ती भी कुछ ऐसे ही हैं .उनकी माँ ने अपना करियर एक कंप्यूटर वैज्ञानिक के तौर पर शुरू किया . अभी वो इनफ़ोसिस फाउंडेशन की चेयरमैन हैं . इसके अलावा वो कन्नड़, इंग्लिश आदि भाषाओं में लिखती भी हैं .इनके पिता  नारायण मूर्ति इनफ़ोसिस के संस्थापक रहे हैं . उन्होंने अपने मास्टर्स की डिग्री आई.आई.टी कानपुर से हासिल की थी .

बच्चों के साथ एक रिश्ता बनाएं

शाहरुख़ खान

Shahrukh Khan family pictures smart stylish looks from romantic movies

जीवन के पहले तीन वर्षों में अपने माता पिता से बहुत जरूरी देखभाल और सहायता प्राप्त करने वाले बच्चे पढ़ाई में बेहतर करने के लिए और उनके जीवन में बाद में स्वस्थ संबंधों का निर्माण करने में बहुत ज्यादा सक्षम होते हैं ।

शाहरुख खान का नाम इस मामले में सबसे फिट बैठता है  . शाहरुख़ ज्यादातर समय फिल्मों में बिताने के बावजूद बच्चों के लिए पर्याप्त समय निकाल लेते हैं . वास्तव में, अपने कई साक्षात्कार में , खान ने माना है की उनके पिटा उनके लिए एक दोस्त की तरह थे । कई विशेषज्ञ बताते हैं जो माँ बाप अपने बच्चों के साथ समय से पहले अच्छे रिश्ते बना लेते हैं उनका करियर भी बेहतर होता है .

काम और अपने जीवन में संतुलन बनाएं

इंद्रा के नूयी, सीईओ पेप्सी

family_recent

वाशिंगटन पोस्ट में ब्रिगिड शुल्ते द्वारा एक नए शोध में बताया गया है की जब माताओं के काम और जीवन में संतुलन प्राप्त करने के लिए जोर दिया जाता है , तो वे अपने बच्चों पर नकारात्मक प्रभाव डालती हैं . ये पिता के लिए भी उतना ही सही साबित हो सकता है .

इस तरह के परफेक्ट संतुलन के लिए एक उदाहरण है। इंद्र कुमार नूयी , पेप्सी कंपनी के सीईओ ने अपने कर्मचारियों के लिए एक तनाव मुक्त विकास क्षेत्र बना कर आदर्श उदाहरण स्थापित किया है। ऐसा इसीलिए है की वो समझती हैं की घहर पर टेंशन रहित जीवन करियर को बहुत आगे तक ले जा सकता है .  वो अपनी कामयाबी का श्री अपने घर और परिवार को देती हैं जिनकी वजह से ये सब संभव हो पाया है .

.

उच्च सामाजिक-आर्थिक स्थिति

ज्योतिरादित्य एम.स्सिन्डिया, सांसद

jyotiraditya-madhavrao-scindia-member-of-parliament

एक उच्च सामाजिक-आर्थिक स्थिति वाले माता-पिता अपने बच्चों को स्वतः ही प्रभावित करने हैं और उनके लिए प्रेरणा बन जाते हैं . अधिकांश भारतीय माता-पिता इन दिनों उच्च शिक्षा के लिए विदेश में अपने बच्चों को भेजने के वित्तीय जोखिम ले रहे हैं। सांसद और ग्वालियर ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया के महाराजा ऐसा ही एक उदाहरण है । उन्हें  सिंधिया हार्वर्ड विश्वविद्यालय से स्नातक और बिजनेस के स्टैनफोर्ड स्कूल से एमबीए समाप्त हो गया। उन्हें अच्छी पढ़ाई के लिए विदेश भेजा गया . स्सिन्डिया ने हार्वर्ड से ग्रेजुएशन और स्टैनफोर्ड स्कूल ऑफ़ बिज़नस से MBA किया .

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें  

HindiIndusaparent.com   द्वारा ऐसी ही और जानकारी और अपडेट्स  केलिए हमें Facebook पर  Like करें