Shocking..असम का यह स्कूल शिक्षक लेता है छात्राओं के साथ अश्लील तस्वीरें

lead image

बिना किसी निष्कर्ष के !!!!

हम बच्चों को स्कूल इस विश्वास के साथ भेजते हैं कि वो अपने शिक्षकों के साथ सुरक्षित रहेंगे। लेकिन इस स्कूल शिक्षक ने साफ तौर पर ना सिर्फ पैरेंट्स का विश्वास तोड़ा है बल्कि कुछ ऐसा किया है जो आप सपने में भी नहीं सोच सकते हैं।

इस कृत्य को घिनौना और शर्मसार करार देना गलत नहीं होगा। असम के इस स्कूल शिक्षक ने छात्राओं के साथ अश्लील तस्वीरें ली हैं और इन तस्वीरों को सोशल मीडिया पर पोस्ट भी की है।

जाहिर है कि इन तस्वीरों को शेयर करने के बाद पैरेंट्स और बाकी लोगों ने उसे जमकर लताड़ा।

ये दिल दहला देने वाली तस्वीरें जल्द ही वायरल भी हो गईं और आप देख सकते हैं कैसे शिक्षक ने अश्लील तरीके से स्टूडेंट के साथ तस्वीरें पोस्ट की हैं जिसमें वो किस कर रहा है और आपत्तिजनक स्थिति में भी है। इस शिक्षक की पहचान फैजउद्दीन लकसर के नाम से हुई है।

 
creepy school teacher copy 1 Shocking..असम का यह स्कूल शिक्षक लेता है छात्राओं के साथ अश्लील तस्वीरें

सीरियल अपराधी है लक्सर

यह घटना मॉडल हाई स्कूल कतलीचेरा, हैलकांडी (असम) में हुई है। रिपोर्ट्स की मानें तो इस शख्स की पहचान सीरियल अपराधी के रूप में हुई है जिसका अर्थ है कि इसने पहली बार ऐसी घटना को अंजाम नहीं दिया है।

पहले भी कथित रूप से उसपर महिला से छेड़छाड़ और भीड़ द्वारा पीटे जाने का आरोप है। एक स्थानीय न्यूज चैनल DY365 के रिपोर्ट के अनुसार भीड़ ने इस शख्स को बुरी तरह पीटा था और इसकी उंगलियां काटकर अलग कर दी थी।

निर्भीक हो घूम रहा अपराधी!

आखिर ये संभव है कि ऐसे कृत्य के बाद भी इस शिक्षक के खिलाफ कोई कड़ी कार्रवाई नहीं की गई। शिक्षक द्वारा फेसबुक पेज पर इन तस्वीरों को पोस्ट करते ही बच्ची के मां-बाप ने शिक्षक के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज की। लक्सर से इस मामले में पूछताछ जरूर की गई लेकिन गिरफ्तार नहीं किया गया।  

 
creepy school teacher copy 2 Shocking..असम का यह स्कूल शिक्षक लेता है छात्राओं के साथ अश्लील तस्वीरें

इस घटना के बाद हैलकांडी जिले के लोगों में काफी गुस्सा भर आया है। लोग पुलिस से सवाल कर रहे हैं कि पुलिस क्यों इसे बचाने की कोशिश कर रही है। इस शिक्षक ने सीधे तौर पर बच्ची को उकसाने की कोशिश की है ताकि वो फोटोशूट करवा सके जो साफ पता चल रहा है कि क्लास में किया गया है।

लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये है कि जब लक्सर ऐसी तस्वीरें ले रहा था तो स्कूल के बाकी शिक्षक और अधिकारी कहां थे? क्या उन्हें शिक्षक को जॉब देने से पहले बैकग्राउंड नहीं देखना चाहिए था। वो इस स्कूल को ज्वाइन करने से पहले एक महिला के साथ छेड़छाड़ कर चुका था और अब ऐसी तस्वीरें लेना भी क्या स्कूल प्रशासन को गलत नहीं लगी। दुख की बात है कि ये स्कूल में उत्पीड़न की पहली घटना नहीं है।

एक बात तो तय है कि इस शिक्षक को कानून का डर नहीं है। पहले एक महिला के साथ छेड़छाड़ के बाद भी वो निर्भय होकर स्कूल की छात्राओं के साथ ऐसी अश्लील हरकतें कर रहा है।

हर दूसरा बच्चा स्कूल में यौन शोषण का शिकार है। NCRB (National Crime Records Bureau ) के अनुसार बलात्कार की सभी घटनाओं में से 12.5% घटनाएं भारत में बच्चियों के साथ ही होती हैं।

बाल उत्पीड़न के बढ़ते मामले को देखते हुए पैरेंट्स को क्या कदम उठाने चाहिए

ये खबर माता-पिता को सचेत करती है कि बच्चों को बाल उत्पीड़न के बारे में बताना कितना जरूरी है ताकि वो जागरूक रहें और समय पर खतरे को भांप सकें।

बतौर माता-पिता ये संभव नहीं है कि आप हमेशा अपने बच्चों के साथ रहें इसलिए उन्हें समय पर जागरूक करना बेहद जरूरी है। इसके लिए आपको क्या करना चाहिए:

  • बच्चों में यौन शोषण से जुड़ी चेतावनी को पहचानें जैसे चोट के निशान आदि।
  • ध्यान दें कि क्या बच्चा किसी को खोज रहा होता है या किसी को देखकर डरता है।
  • अपने बच्चों के प्राइवेट पार्ट पर भी ध्यान दें।
  • ध्यान दें कि क्या आपका बच्चा अजनबियों से भी डरता है
  • इस बात को नोटिस करें कि क्या आपका बच्चा स्कूल जाने के नाम पर गुस्सा होता है या स्कूल जाने से कतराता है।

ये सभी लक्षण यौन शोषण के हैं और आपको इन बातों का ध्यान रखना चाहिए ताकि आप समय रहते बच्चों के साथ कुछ भी गलत ना होने दें और सबसे बड़ी बात कि बच्चे भी इसे समझें और हर बात आपके साथ शेयर करें।