Mums, क्या आप इन 6 parenting fear के बारे में जानती हैं ?

Mums, क्या आप इन 6 parenting fear के बारे में जानती हैं ?

हाल ही में हुए एक इंटरव्यू में रेणुका शहाणे ने बताया " जब आप माँ बन जाती हैं, तो चिंता और ख़ुशी दोनों एक साथ आपकी ज़िन्दगी का हिस्सा बनती हैं।"सारी माएँ इस बात से सहमत होंगी । साढ़े 4 साल की बेटी की माँ होने के नाते मेरा सबसे बड़ा डर child Saftey को लेकर है । मेरी ही तरह मुझे यकीन है की हर माँ की अपनी पेरेंटिंग फियर होती होगी । बच्चे जन्म से लेकर जब वो औने दो नन्हे पैरों पर चलने लगता है तब तक या जब वो कुछ सॉलिड फ़ूड खाने लगता है तबतक माएँ लगातार एक चिंता में रहती हैं की कहीं कुछ गलत न हो जाए ।यही कारण था की हमने कुछ माओं से बात की और जानना छह की उन्हें क्या लगता है ।

#1 सुरक्षा
4 साल की बच्ची की माँ और Legal officer प्रिया आश्विन बताती हैं की उनका सबसे बड़ा डर है बच्चों की सुरक्षा । "मेरे विचार में आज के पेरेंट्स की सबसे बड़ी टेंशन है उनके बच्चों की सुरक्षा। चाहे वो स्कूल हो या स्कूल जाने वाली बस या किसी भीड़ भाड़ वाली जगह जाना । बढ़ती हिंसक घटनाओं, यौन शोषण, और बच्चों के प्रति बढ़ते अपराध ने आज के पेरेंट्स के लिए ये मुद्दा सबसे चिंताजनक बना दिया है ।
भले ही इन घटनाओं की रिपोर्टिंग मीडिया में अच्छे से होती हो लेकिन ये अपराधियों में किसी तरह का डर पैदा कर पाने में नाकामयाब रहा है जो छोटे बच्चों के साथ घृणित अपराध करते है "
इससे बचने के लिए प्रिया अपने बच्ची को उसके आसपास के बारे में जितना हो सके सचेत रखने की कोशीश करती हैं । " यहाँ बच्चों से बातचीत करते रहना बहुत जरूरी हो जाता है ताकि वो आपके साथ खुलकर सभी तरह की बातें बता सकें । छोटी छोटी बहादुरी के कहानियां सुनाते रहने से भी उन्हें इस मुद्दे को समझने में आसानी होती है।".
#2 ज्यादा लाड़ प्यार
कई पेरेंट्स ने जरूरत से ज्यादा पैंपरिंग यानी लाड़ प्यार को भी एक डर बताया है ।
"मेरी बेटी का नेचर बहुत ही joyful है । मैं एक working mum हूँ इसीलिए मेरी बेटी को daycare की जरूरत होती है ।  पिछले साल हमने उसके daycare को बदला । अब क्योंकि ये बेटी के लिये बिलकुल नया माहौल था तो हमने उसे थोड़े ज्यादा गिफ्ट देने शुरू कर दिए और मेरे हस्बैंड ने उन्हें अपने हाथों से खिलाना शुरू कर दिया । कुछ दिनों बाद मुझे एहसास हुआ की हमारी बेटी हमपर जरूरत से ज्यादा आश्रित रहने लगी । वो खुद से खाना नहीं खाने लगी ।" - 4 साल की बेटी की माँ और प्रोजेक्ट हेड मोनालिसा मंडल
"इससे बचने के लिए हमने उसे गिफ्ट देना बंद कर दिया, शाम में 6 बजे daycare से लौटने के बाद उसे आइसक्रीम, चॉकलेट वगेरा देना बंद कर दिया । धीरे धीरे जब भी उसे भूख लगे उसने खुद से खाना शुरू कर दिया । अब हम सब साथ में डिनर को एन्जॉय करते हैं।"
# 3 Peer Pressure
आज के समय में बच्चे अपने दोस्तों से भी बहुत ज्यादा प्रभावित हिट हैं जिनके पेरेंट्स उन्हें खुश रखने के लिए अलग अलग चीजें देते रहते हैं ।
"मेरे हिसाब से सबसे बड़ा डर ये है की हमारे बच्चे मेहनत से कमाए गए पैसों की कीमत नही समझेंगे ।  उनके दोस्तों के प्रेशर के वजह से हमे उनके लिए उनके डिमांड पर नई नई चीजें खरीदनी पड़ती हैं। पेरेंट्स भी इतने बिजी होते हैं की उनके पास बच्चों के लिए टाइम ही नही होता है । इसीलिए उन्हें भी बच्चों के लिए महंगे गिफ्ट खरीदने से कोई परहेज नहीं होता है ।" - 5 साल की बेटी की माँ तृष्णा सिंहदेव
# 4 बाल शोषण (child abuse)
बाल यौन शोषण के बढ़ते मामलों के वजह से ये आज के पेरेंट्स के लिए एक बहुत बड़ा डर बन गया है ।
"मेरा बेटा बहुत ज्यादा नटखट है इसलिए मुझे हमेशा डर लगा रहता है की कहीं वो खुद को कोई नुकसान न पंहुचा ले । मुझे यौन शोषण का भी डर लगा रहता है जिस वजह से मैं उसे अपने दिनभर की एक्टिविटी बताने रहने के लिए प्रेरित करती हूँ ताकि पता चले अगर वो किसी अजनबी से मिला हो या बात की हो । - 4 साल के बेटे की माँ अंकुर ममगेन
हालाँकि बाल यौन शोषण की बात बाकी माओं के ज़हन में भी थी क्योंकि भारत में इसके मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। हालाँकि यूट्यूब पर ऐसी कई वीडियो हैं जिनके सहारे आप औने बच्चे को इससे सचेत रख सकते हैं । उनमे से एक ये देखें :

#5 बुरी संगत
थोड़े बड़े बच्चों की माएँ उनके बुरी संगत को लेकर चिंतित रहती हैं । उन्हें लगता है की कहीं उनका बच्चा भी ब्यूटी आदतों का शिकार न हो जाए ।"12 साल के बेटे की माँ होने के नाते, मुझे हमेशा डर लगा रहता है की कहीं वो बुरी संगति में पड़ कर खुद को नुकसान न पंहुचा ले । अच्छे से अच्छे बच्चे बुरी संगत का शिकार हो जाते हैं और ड्रग्स वगेरा इस्तेमाल करने लगते हैं । वो भी किशोरावस्था में प्रवेश करने वाला है और उसके आसपास के बच्चे बहुत तेज़ हैं ।" - पेशे से टीचर शिवांगी कौशिक दीक्षित

हालांकि शिवांगी बताती हैं की वो अपने बेटे से स्कूल में या कहीं और भी होने वाली हर तरह की जानकारी लेती रहती हैं "बातचीत के दौरान वो बहुत सी नई बातें बताता है"

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें  

Hindi.indusparent.com द्वारा ऐसी ही और जानकारी और अपडेट्स के लिए  हमें  Facebook पर  Like करें 

Any views or opinions expressed in this article are personal and belong solely to the author; and do not represent those of theAsianparent or its clients.