OMG..10 महीने के तैमूर अली खान की हमशक्ल..वो भी इतनी क्यूट

lead image

उनका जन्म 5 दिसंबर 2016 को हुआ था। उनकी नीली आखें हर किसी का दिल जीत चुकी है और हम भी सोच में पड़ गए कि क्या इस परफेक्ट हमशक्ल का कभी भविष्य में आमना-सामना होगा।

हमें अपने फेवरिट बॉलीवुड सेलिब्रिटी के साथ समानताएं ढूंढना अच्छा लगता है। लेकिन अगर बात सबके चहेते स्टार किड तैमूर की हो तो आपको आश्चर्य होगा कि उनका भी हमशक्ल असल में मौजूद है।

 

??

A post shared by saif ali khan (@saif_alikan) on

अपने जन्म के कुछ ही घंटो बाद से तैमूर इंटरनेट के चहेते बन गए थे। उनके जीन के परफेक्ट कॉम्बिनेशन ने हमें भी यह यकीन दिला दिया था कि उनकी क्यूटनेस को इस पृथ्वी पर कोई और टक्कर नहीं दे सकता है लेकिन हम गलत थे।

UAE की इनाया शोएब के पैरेंट्स काफी समय से अपनी बेटी की तस्वीरें तैमूर के साथ डाल रहे थे ताकि लोगों को यह पता चल सके कि दोनों किस हद तक एक जैसे दिखते हैं।

इनाया का जन्म 5 दिसंबर 2016 को हुआ था। उनकी नीली आखें हर किसी का दिल जीत चुकी है और हम भी सोच में पड़ गए कि क्या इस परफेक्ट हमशक्ल का कभी भविष्य में आमना-सामना होगा!

कुछ दिनों पहले ही एक इंटरव्यू में सैफ अली खान ने कहा है कि उन्होंने और करीना कपूर ने फैसला किया है कि वो तैमूर को लंदन में बॉर्डिंग स्कूल में पढ़ने भेजेंगे ताकि उन्हें मीडिया की बेवजह अटेंशन नहीं मिले।

सैफ अली खान ने कहा कि "तैमूर की आखों में मासुमियत नजर आती है। मैं उसके लिए काफी चिंतित हूं। मैंने और करीना ने पहले ही तैमूर के स्टारडम पर बात की है और हमने उसे इंग्लैंड में अच्छे बोर्डिंग स्कूल में भेजने का फैसला किया है। ये आइडिया मेरे परिवार में हमेशा काम आया है। करीना एक बहुत ही अच्छी मां बनेगी और वो तैमूर के बिगड़ैल स्वभाव को कभी पसंद नहीं करेंगी।"

जो पैरेंट्स लाइमलाइट में रहते हैं उनके लिए बच्चों को मीडिया से दूर रखना बेहद मुश्किल होता है। यहां तक कि दूसरे प्रोफेशन के पैरेंट्स जिन्हें धमकियों आदि का सामना करना पड़ता है वो भी बच्चों को अपने लाइफस्टाइल से दूर रखते हैं।

यहां हम आपको कुछ जरूरी बातें बता रहे हैं कि कैसे बच्चों की परवरिश में कुछ बातों का ख्याल रखें ताकि वो आपकी चकाचौंध भरी दुनिया से प्रभावित ना हों।

  1. 5 स्टार वेकेशन: आप हो सकता है जन्मदिन की पार्टी के लिए यॉट बुक कर लें या फिर यूरोप ट्रिप पर चलें जाएं लेकिन बच्चों को जब तक आप हर तरह के अनुभव नहीं देंगे वो हर स्थिति में खुद को नहीं ढाल पाएंगे। ये एक टेन्ट में रहने से लेकर अच्छे साफ सुथरे ट्रेन में सफर करने  का भी अनुभव हो सकता है। हमेशा याद रखें कि आप बच्चों को 5 स्टार वेकेशन पर ले जाएं लेकिन उन्हें सच्चाई भी दिखाएं ताकि वो जिंदगी में हो रही अच्छी चीजों को अपनाएं और अगर जरूरत पड़े तो अपने पैरों पर खड़ा हो सकें और हर तरह की स्थिति को संभाल सकें।
  2. पर्यावरण के अनुकूल उत्सव: आजकल ट्रेंड चार्ट में थीम आधारित पार्टी, पटाखे आदि शामिल हैं। लेकिन यह समझना भी जरूरी है कि अगर हमने समय रहते जरूरी कदम नहीं उठाया तो आने वाली पीढ़ियों को ग्लोबल वार्मिंग का सामना करना पड़ेगा। उन्हें खास पलों को पर्यावरण अनुकूल तरीके से मनाना सिखाएं जैसे प्लास्टिक बैग का या किसी भी ऐसी चीज का इस्तेमाल ना करना जिससे पर्यावरण प्रदूषित हो आदि।
  3. परिवहन के विभिन्न तरीके: हो सकता है आप राष्ट्रीय स्पोर्ट्स टीम के कप्तान, जाने माने नेता हो लेकिन अगर बचपन से आपका बच्चा परिवहन के हर साधन को पसंद करता है तो वो हमेशा आम लोगों की समस्याओं को समझेगा। 
  4. इतिहास और परंपरा की जुड़ा हुआ: हमारे गौरवशाली इतिहास में कई ऐसी बातें हैं जिनसे हम बहुत कुछ सीख सकते हैं। बच्चे जितना अधिक अपनी परंपरा और इतिहास से जुड़े रहेंगे उतना अधिक वो अपनी गलतियों से सीखेंगे और खुद का प्रोत्साहन कर पाएंगे। 
  5. शेयर करना और दान करना: ऐसा कहा गया है कि बांटने से दुख कम होता है और खुशी दुगनी होती है। शेयर करने और दान करने से व्यवहार में कृतज्ञता आती है।

 

 

इससे चीजों को गारंटी के तौर पर नही लेने में मदद नहीं मिलती है। एक बार बच्चों को अगर ये समझ आ जाए कि जिंदगी में कुछ भी स्थिर नहीं है तो खुद ही अपने आप को शेयर करने और दान करने के लिए सक्षम बना लेंगे।