OMG… जब सहमी सुहाना ने किया पापा को कॉल...शाहरुख को आया गुस्सा

फोटोग्राफर्स ने सुहाना को प्रीमियर स्थल पर बुरी तरह घेर लिया और बेचारी सुहाना इतनी घबरा गईं कि उन्होंने तुरंत पापा को फोन किया। जी हां ये बिल्कुल सच है।

स्टार किड्स चाहें या ना चाहें लेकिन वो हमेशा मीडिया की नजरों में होते हैं और बेवजह ही उन्हें प्रेस द्वारा अधिक अटेंशन दिया जाता है।

जब स्टार किड्स पार्टी या किसी इवेंट में अपने सुपरस्टार पैरेंट्स के साथ जाते हैं तो कभी कभी स्थिति काफी मुश्किलों भरी हो जाती है। कुछ समय पहले ऐसा ही शाहरुख खान की 17 साल की बेटी सुहाना के साथ हुआ जब वो सलमान खान की फिल्म ट्यूबलाइट के प्रीमियर पर पहुंची थीं।

फोटोग्राफर्स ने सुहाना को प्रीमियर स्थल पर बुरी तरह घेर लिया और बेचारी सुहाना इतनी घबरा गईं कि उन्होंने तुरंत पापा को फोन किया। जी हां ये बिल्कुल सच है।

जब मीडिया ने सुहाना को घेरा 

फोटोग्राफर्स ने सुहाना को कुछ इस तरह घेर लिया था कि उन्हें जाने ही नहीं दे रहे थे, ऐसा लग रहा था जैसे सुहाना फंस गई हों। सहमी हुई सुहाना के पास पापा शाहरुख खान को कॉल करने के अलावा और कोई रास्ता नहीं बचा था। उन्होंने शाहरुख खान को मैसेज कर कहा कि पापा प्लीज मुझे आकर ले जाइए, मैं फंस गई हूं।

शाहरुख खान ने ये बातें नेटवर्क 18 के होस्ट राजीव मसंद से एक इंटरव्यू के दौरान की। उन्होंने इस इंटरव्यू में कहा कि ट्यूबलाइट स्क्रीनिंग के दौरान वो मेरे साथ नहीं आई, मुझे कहा कि मैं खुद जाऊंगी। मैंने उसे कहा भी कि मैं सलमान से मिलने जा रहा हूं तुम्हें वहां से ले लूंगा और बाद में खुद उसने मुझे कॉल किया क्या आप मुझे आकर ले जा सकते हैं, मैं फंस गई हूं।

इस घटना के बाद शाहरुख खान काफी नाराज हुए। उन्होंने कहा कि मुझे बच्चों की तस्वीरें लिए जाने से कोई समस्या नहीं है लेकिन मेरा बस इतना आग्रह है कि कुछ तस्वीरें लेकर बच्चों को जाने दें, उन्हें मीडिया हैंडल करने की आदत नहीं है। मैंने अपने बच्चों से भी कहा है कि फोटोग्राफर्स आएं तो कुछ तस्वीरें दो और खुद उनसे बोलो कि क्या मैं अब जा सकता हूं?“

 
Shah Rukh Khan

आप खुद भी देख सकते हैं कि सुहाना की आखों में लगभग आंसू आ गए थे और उनके आसपास खड़े फोटोग्राफर्स उन्हें जाने ही नहीं दे रहे थे।

एक ओर जहां शाहरुख खुद विनम्र हैं और उन्हें बच्चों की तस्वीरें लिए जाने से समस्या नहीं है तो वहीं फोटोग्राफर्स को भी पता होना चाहिए कि कहां सीमा रेखा खिंची जानी चाहिए। क्या आप इस बात से सहमत नहीं हैं?