MUST WATCH: 43 साल में IVF की मदद से मां बनने का फराह खान का अनुभव

फराह खान को ये कहने में बिल्कुल संकोच नहीं होता कि वो IVF तकनीक अपनाकर मां बनी हैं।

कई कपल ऐसे होते हैं तो नैचुरल तरीके से मां-बाप नहीं सकते लेकिन उन्हें IVF (In vitro fertilisation) जैसे तरीकों को अपनाने में भी संकोच होता है। इसका कारण स्पष्ट है कि वो इस महंगे तरीके में सुरक्षा और रिस्क दोनों से डरते हैं। लेकिन हाल फिलहाल ऐसे दम्पति की संख्या बढ़ी है जो IVF जैसे तरीकों को अपना रहे हैं।

तुषार कपूर, शाहरुख खान आमिर खान और फराह खान जैसे सेलिब्रिटी खुलकर सामने आए और कहा कि उन्होंने इस तरीके को अपनाया है। उन्होंने माना कि IVF तकनीक उनके लिए किसी वरदान से कम नहीं है।

जानी मानी डायरेक्टर और कोरियोग्राफर फराह खान शायद बॉलीवुड की पहली सेलिब्रिटी हैं जिन्होंने खुलकर कहा कि कैसे IVF की मदद से वो तीन क्यूट बच्चों की मां बनीं।

फराह खान को ये कहने में बिल्कुल संकोच नहीं होता कि वो IVF तकनीक अपनाकर मां बनी हैं। हाल में आए एक नए वीडियो में फराह खान ने IVF के दौरान हुए परेशानी के बारे में भी अपने अनुभवो को साझा किया।

farah1

"मैं अपने काम में इतना व्यस्त रहती थी कि मुझे मस्ती करने के लिए भी समय नहीं था रोमांस तो छोड़ ही दीजिए। जब मेरी और शिरिष की शादी हुई थी तब मैं 40 साल की थी इसलिए हमने तुरंत ही अपनी फैमिली बढ़ाने का सोचा। दो साल बाद भी जब हमें अच्छा रिज्लट नहीं मिला तो हमने डॉक्टर से संपर्क किया।"

फराह खान ने आगे बताया कि डॉक्टर ने उनसे IVF को अपनाने की सलाह दी। IVF का पहला स्टेप होने के बाज जब डॉक्टर ने बुलाया तो फराह को लगा शायद कोई 'गुड न्यूज' मिलने वाली है लेकिन वो गलत थीं। डॉक्टर ने कहा कि उनका पहला प्रयास सफल नहीं रहा और उन्हें फिर से कोशिश करनी होगी। ये फराह और शिरिष के लिए किसी झटके से कम नहीं था।।

screen-shot-2017-01-11-at-11-50-33-am

फराह ने आगे कहा कि "मैं वापस घर आई और दो दिन तक बस रोती रही। लेकिन आखिरकार हमारा प्रयास सफल रहा और जब हमारे परिवार को पता चला तो वो भी काफी खुश हुए और हमेशा हमारी मदद की"

फराह ने आगे कहा कि 43 साल में मां बनना जब हमारे देश में इस उम्र में मां दादी मां बनने की तैयारी करती हैं। लेकिन लोगों ने उनकी इस कदम की काफी सराहना की। वो समय के साथ और जवां होती जा रही हैं। इसका श्रेय वो अपने बच्चों को देती हैं जिनकी वजह से वो हमेशा एनर्जिटिक महसूस करती हैं।

पैरेंट्स जो IVF अपनाना चाहते हैं

IVF किसी भी दम्पति के लिए वरदान साबित हो सकता है अगर वो सही डॉक्टर और क्लिनिक में जाएं। सबसे जरूरी किसी भी कपल के लिए है कि वो विश्वास रखें और आशा ना छोड़ें। नकारात्मक बातें छोड़कर आगे आने वाली खुशियों पर ध्यान दें।

फराह खान ने आगे कहा कि "मेरे बच्चे मुझे जवान रखते हैं। उनकी वजह से मैं हमेशा खुश रहती हूं। IVF अपनाना आसान नहीं होता खासकर वो मां जो कई तरह के हॉर्मोनल इंजेक्शन ले चुकी हैं।इनका शरीर पर बुरा प्रभाव भी पड़ता है। लेकिन जब आप अपने बेबी को अपने हाथों में लेते हैं आप हर कष्ट को भूल जाते हैं और सिर्फ खुशियां ही खुशियां नजर आती हैं"।

आप भी फराह खान के इस वीडियो को देखिए कि उनका ये सफर कैसा रहा।

 

फराह खान ने ये भी कहा कि ये बहुत जरूरी है कि IVF को अपनाने वाले गर्व से इसे स्वीकारें और दूसरे लोगों को इसके लिए प्रोत्साहित करें जिन्हें इनकी जरूरत है।
फराह खान के अनुसार "ये जरूरी है कि हम आगे आएं और गर्व से कहें कि हां हमने ये किया है क्योंकि उन लोगों को हिम्मत और आशा दे सकती है जो इसे अपनाना चाहते हैं लेकिन अपनाने से डरते हैं।मैं गर्व से कहती हूं कि मेरे बच्चे IVF की मदद से इस दुनिया में आए हैं"

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent