9 बातें जो एक माँ को अपने बच्चे के साथ नहीं करनी चाहिए

lead image

बच्चे अपने साथ खुशियाँ लेकर आते हैं । अचानक आपके घर के सभी काम आपके बच्चे के आस पास घुमने लगते हैं, घर में हर जगह बच्चे की ही बात होती है । लेकिन बच्चे बहुत ही ज्यादा कोमल होते हैं और इन्हें ध्यान देने की सबसे ज्यादा जरूरत भी होती है । बच्चों के किसी भी गतिविधि की नजरंदाज करना बहुत ही खतरनाक और भयानक रूप ले सकता है । इसीलिए एक माता पिता के तौर पर आपके अपने बच्चे का और उसके आस पास के माहौल का पूरा-पूरा ध्यान रखना चाहिए ।

अपने बच्चे को कभी अकेला न छोडें

किसी भी भयानक घटना को होने में केवल कुछ सेकंड ही लगते हैं । इसीलिए कभी भी अपने बच्चे को अकेला न छोडें । इससे उनके उपर खतरा बहुत ज्यादा बढ़ जाता है । अगर आप कहीं व्यस्त भी हैं या कोई काम है तो उसे किसी बड़े की निगरानी में ही रखें ।

किसी भी मेडिकल  समस्या को नजरंदाज न करें

एक माता पिता के लिए बच्चे हमेशा सबसे पहले आते हैं । अगर आपको अपने बच्चे से कोई भी अजीब संकेत मिलें तो उसे नजरंदाज बिलकुल भी न करें । आपको बहुत से लोग घरेलू उपचार बताएंगे लेकिन किसी विशेषज्ञ की सलाह जरुर ले लें ।

stock-footage-nurse-and-doctor-reassuring-cute-indian-child-in-a-wheelchair-waiting-in-hospital-corridor-for

बच्चों के रोने को न नकारें

बच्चे बहुत रोते हैं ख़ासकर के शुरू के कुछ सालों में । ज्यादातर इसका मतलब होता है की उन्हें भूख लगी है या कहीं कोई चोट लगी है या डायपर बदलना है । लेकिन अगर उसके रोने में आपको कोई अजीब बात लगे तो डॉक्टर से मिलना न भूलें । हो सकता है की कोई गम्भीर समस्या न हो लेकिन फिर भी इगनोर नहीं करना चाहिए ।

अपने बच्चे की भावनाओं को कभी इगनोर न करें

बच्चे बात नहीं करते इसका मतलब ये नहीं है की वो अपनी भावनाओं को सामने नहीं रख सकते । माता पिता को अपने बच्चे के एक्शन पर उसके एक्सप्रेशन पर ध्यान देना चाहिए और उसे समझने की कोशिश करनी चाहिए । इससे आपका आपके बच्चे के साथ रिश्ता भी मजबूत होता है ।

बच्चे को कभी भी बाहर बाइक पर न ले जाएँ

बच्चे को बाइक पर बहार ले जाना खतरनाक साबित हो सकता है । बच्चे नाज़ुक होते हैं और अपना बैलेंस नहीं बना पाते हैं ।इसीलिए इस बात की पूरी संभावना है की वो बाइक से गिर जाएँ इसीलिए ऐसे हादसे से बचने की कोशिश करें ।

कभी भी बच्चे के सामने झगड़ा न करें

बच्चे बहुत ज्यादा संवेदनशील होते हैं । अगर आप उसके सामने लड़ते रहेंगे तो उनपर इसका नकारात्मक प्रभाव पड़ता है । इससे उनकी नींद और बर्ताव पर भी फर्क पड़ सकता है ।

babyproofing

कभी भी अपने बच्चे को न डरायें

बच्चों को डराना सबसे आसान काम होता है अगर माता पिता अपने बच्चे को कोई बात सुनाना चाहते हों या उनका ध्यान अपनी ओर खींचना चाहते हों । लेकिन ये अच्छी आदत नहीं है । आपका बच्चा सच में डर सकता है और इसके दूरगामी परिणाम हो सकते हैं ।

अपने घर को बेबी प्रूफ बनाएं

ये बहुत जरुरी है की आप अपने घर के सभी उन सामानों को अपने बच्चे से दूर रखें जो उन्हें किसी भी तरह से नुकसान पहुंचा सकती है । अपने आलमीरा को बंद रखें , मोबाइल फ़ोन और लैपटॉप आदि को अपने बच्चे की पहुँच से दूर रखें । ध्यान रखें की आसपास कोई प्लग पॉइंट न हों ।

कभी भी अपने बच्चे को लापरवाही से न पकड़ें

बच्चे बहुत नाज़ुक होते हैं इसीलिए उन्हें उसी नाज़ुक अंदाज़ में गोद में लें या उन्हें पकड़ें । बच्चे की गर्दन और सर को ध्यान से पकड़ें । किसी दूसरे बच्चे को उसे गोद में न लेने दें चाहे वो उसका कोई भाई या बहन ही क्यों न हो ।

 

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें ।
Hindi.indusparent.com द्वारा ऐसी ही और जानकारी और अपडेट्स के लिए हमेंFacebook पर Like करें ।