Happy Republic Day: इस गणतंत्र दिवस बच्चों के साथ आप भी लें एक ज़िम्मेदार नागरिक बनने का संकल्प

साल की शुरुआत में ही गणतंत्र दिवस को लेकर हमारी देशभक्ति की भावनाएं जागृत हो जाती हैं लेकिन अफसोस उत्सव का माहौल ख़त्म होते ही हम देश से जुड़ी गंभीर बातों पर विचार करना भी भूल जाते हैं और साथ ही अपनी नैतिक ज़िम्मेदारियों से भी पीछे हटने लगते हैं ।

ऐसा नहीं है कि हमें देश से प्रेम नहीं, बस इस डिजिटल युग में हमारी भावनाएं सोशल मीडिया पर जाहिर होती हैं । देशभक्ति गाने एक दो दिन हमारी ज़हन में गूंजते तो हैं लेकिन फिर हम अपने आप में मशगूल हो जाते हैं ।

जिनके घरों में स्कूली बच्चे हैं या जिनके दफ्तर में इस पर्व को उत्सव का रुप देने का प्रचलन है उन्हें इस राष्ट्रीय पर्व को और भी करीब से मनाने का , महसूस करने का अवसर प्राप्त होता है और बांकि तो इस दिन छुट्टी पाकर आनंदित हो रहे होते हैं ।  

इस वर्ष हम अपने संविधान के लागू होने का 69 वां वर्षगांठ मना रहे हैं । 26 जनवरी 1950 को हमारा संविधान लागू हुआ और भारत एक लोकतांत्रिक देश के रुप में स्थापित हो सका । हमारा संविधान हमारे लिए एक रुल बुक की तरह है जिसके ज़रुरी एवं उपयोगी नियमों के विषय में हम सभी को पता होना चाहिए ।

आज समय-समय पर संविधान में भी कई संसोधन हो रहे हैं, सामाजिक बदलाव को देखते हुए कई तरह के नए अध्यादेश लाए जा रहे हैं।

बदलाव हर तरफ जोर पकड़ रही है, आज़ादी के मायने भी बदल रहे हैं तो क्या इस बीच आपको भी अपने मूल अधिकारों का पता नहीं होना चाहिए... क्या आपको भी अपनी जिम्मेदारियों को बखूबी निभाकर देश के प्रति सम्मान दिखाने का संकल्प नहीं लेना चाहिए... ।

देशहित में ऐसे निभाएं अपनी ज़िम्मेदारी

सप्ताह में एक दिन या कम से कम महीने के दो दिन गरीब, बेसहारा लोगों की मदद के लिए लगाएं । ऐसा करने से समाज में समानता आएगी और आप नई पीढ़ी के लिए उदाहरण बनेंगे । अपने साथ बच्चों को भी ले जाएं इससे वो दूसरों के लिए कुछ करने की कला सीख पाएंगे ।

छोटी-छोटी बातों का ध्यान रख कर आप देश के निर्माण में अपनी भागीदारी निभा सकते हैं । जैसे-

ट्रैफिक के निय़मों का कतई उल्लंघन ना करें, सीट बेल्ट लगाना ना भूलें ।आस-पास सफाई रखें आदि ।

किसी-किसी दिन पब्लिक ट्रांसपोर्ट का उपयोग करें ताकि सड़क पर प्रदूषण एवं भीड़ कम हो सके ।

अगर हो सके तो गणतंत्र एवं स्वतंत्रता दिवस के मौके पर साल में दो बार वृक्षारोपण करें और उसकी देखभाल करें  

महिलाओं के अधिकारों का सम्मान करें और यह बात घर के अंदर भी लागू करें ।

जहां तक हो सके सामाजिक कुरीतियों को मिटाने के लिए तत्पर रहें ।

बच्चों को दें अच्छी सीख

  • अपने बच्चों को स्कूल के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए प्रोत्साहित करें
  • बच्चों में सिविक सेंस विकसित करें
  • उन्हें समझाएं कि वो भी अपने स्तर से देश को बेहतर बनाने में योगदान दे सकते हैं ।
  • वीर सपूतों की गाथाएं उन्हें पढ़ने के लिए ज़रुर दें ।
  • स्कूल में एनसीसी, या सोशल एक्टिविटी में उन्हें हिस्सा लेने के लिए प्रोत्साहित करें ।
  • बच्चों में क्षमा करने की आदत विकसित करें ।
  • बच्चों को यह बताना अनिवार्य है कि इस उम्र में गांधी बनना या भगत सिंह बन जाना काल्पनिक होगा इसलिए जरुरी ये है कि वो एक अनुशासित जीवनशैली अपनाएं और अपने कर्तव्यों का ईमानदारी से पालन करें ।

गणतंत्र दिवस की शुभकामनाय़ें....