Good news! सरोगेट मॉम को अब 6 महीने की maternity leave मिलेगी ।

एक लीडिंग टीवी चैनल के मुताबिक केंद्र सरकार के द्वारा बनाये गए नए नियमों के आधार पर सरोगेट और commissioning माओं को अब 6 महीने की maternity leave मिलेगी।

डिपार्टमेंट ऑफ़ पर्सनेल एंड ट्रेनिंग के दिए गए सुझाव के आधार पर पहली बार surrogacy के मामलों में paternity leave भी मिलेगी । अभी तक सरोगेट माओं के लिए या commissioning माओं के लिए इस तरह की व्यवस्था नहीं थी ।
प्रपोजल में कहा गया है की सरोगेट या कमीशनिंग माओं को 180 दिन की maternity leave दी जाएगी अगर इनमे से कोई एक या दोनों सरकारी कर्मचारी हैं तो।
"Commissioning mother को भी बच्चे के साथ अपना बांड बनाने और उसकी देखभाल के लिए समय चाहिए होता है । इसीलिए उन्हें भी चाइल्ड केअर लीव दी गयी है । " - प्रस्तावित नियमों के मुताबिक ।
नया नियम क्या कहता है ?

अभी के नियमों के मुताबिक सरकारी महिला कर्मचारी को 135 दिन की maternity leave दी जाती हैं मतलब 4 महीने 15 दिन । केंद्र ने स्पेशल बच्चों के होने पर बच्चे की केअर करने की उम्र सीमा हटा दी है क्योंकि ऐसे बच्चों की देखभाल बढ़ती उनर के साथ ज्यादा करनी पड़ती है। ऐसे मामलों में बच्चों की उम्रसीमा तय नहीं की जाएगी और चाइल्ड केअर के लिए 730 दिन तक की छुट्टी ली जा सकती है ।

अभी चाइल्ड केअर leave 18 वर्ष से कम बच्चों वाली महिलाओं को 2 साल तक के लिए दिया जाता है । अभी के नियमों के मुताबिक बच्चा अगर 18 साल से बड़ा हो तो छुट्टी नहीं दी जाती है।महिला कर्मचारी leave travel concession  भी ले सकती हैं अगर उन्हें कहीं जाना हो तो। अभी child care leave के दौरान या हेडक्वार्टर छोड़ने की स्थिति में leave travel concession नही लिया जा सकता है ।
सरकार को ये तय करना चाहिए की सरोगेट और commisioning मदर्स को उनके बच्चे के साथ सही समय मिले ताकि पेरेंट्स और बच्चों में बीच बॉण्ड बन सके ।ये नियम दोनों पेरेंट्स के लिए लागू होने चाहिए क्योंकि दोनों बच्चों के पालन पोषण में अहम रोल अदा करते हैं ।
इस मामले को और बेहतर समझने के लिए ये वीडियो देखें।
इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें  

Hindi.indusparent.com द्वारा ऐसी ही और जानकारी और अपडेट्स के लिए  हमें  Facebook पर  Like करें