Attention Please: बच्चों की यादाश्त बढानी है तो इन खानों को रखें बच्चों से दूर

lead image

theindusparent ने डाइटिशियन पवित्रा के. राज से बात की जो कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल, बैंगलोर में हैं और हमने ये समझने की कोशिश की बच्चों की मेमोरी के लिए क्या गलत खाना होता है।

माता पिता अक्सर अपने बच्चों के लिए सही खाने को लेकर चिंतित रहते हैं। ये आपके बच्चे के लिए जरूरी भी है कि आप उन्हें जितना हो सके पोषक तत्व भरा खाना दें। इसके साथ ही ये भी जरूरी है कि उसे सही तरीके से खाना दिया जाए क्योंकि इससे उनके दिमाग और यादाश्त को भी फायदा पहुंचता है।

जी हां ये सच है कि हम माता पिता खाने के न्युट्रिशन को लेकर चिंतित रहते हैं लेकिन हम ये नहीं सोचते कि कुछ ऐसे भी खाने की चीजें होती हैं जो सोचने की शक्ति और मेमोरी पॉवर कमजोर करती है।

theindusparent ने डाइटिशियन पवित्रा के. राज से बात की जो कोलंबिया एशिया हॉस्पिटल, बैंगलोर में हैं और हमने ये समझने की कोशिश की बच्चों की मेमोरी के लिए क्या गलत खाना होता है।

1.
कैसा खाना आपके बच्चे के दिमाग को प्रभावित करता है? क्या ऐसा खाना होता है जो बच्चों कि मेमोरी बढ़ा सके?

बच्चों को सही तरीके से खिलाना और इस बात का ध्यान रखना कि उन्हें क्या दिय़ा जाए जिससे उनका शारीरिक और मानसिक विकास के साथ बच्चों की एनर्जी बनी रहे और दिमाग भी मजबूत हो। बच्चों के मूड का भी रिलेशन उनके खाने से जुड़ा हुआ होता है। 

src=http://www.theindusparent.com/wp content/uploads/2016/12/indian foods.jpg Attention Please: बच्चों की यादाश्त बढानी है तो इन खानों को रखें बच्चों से दूर

अगर बच्चों को शुरूआती तीन साल में सही न्युट्रिशन ना मिले तो उनकी बुद्धि पर भी इसका असर पड़ सकता है इसलिए जितना जल्दी हो सके बच्चों को सही तरीके से खिलाने की आदत माता-पिता में होनी चाहिए और जितना हो सकते वसा और मीठे से दूर रखने की कोशिश करनी चाहिए। 

2. न्यूट्रिशन से भरपूर क्या-क्या Brain Food बच्चों को दिया जा सकता है?

अपने बच्चों के खाने मेन्यू में नीचे दिए गए इन खानों को जरूर शामिल करें

  • अंडा: आप भी जानते होंगे कि अंडा प्रोटीन का सबसे बड़ा स्त्रोत है। अंडे में Choline पाया जाता है जो दिमाग विकसित करने में मदद करता है।
  • दूध और Yogurt: डेयरी के खाद्य पदार्थ में विटामिन बी और प्रोटीन की भरपूर मात्रा होती है जो ब्रेन टिशू के लिए जरूरी होता है। दूध और Yogurt से बच्चों को कार्बोहाइड्रेट की पूरी मात्रा मिलती है।
  • सब्जी: टमाटर, आलू, लौकी, गाजर, कोहरा , पालक जो भी गहरे रंग के होते हैं वो एंटीऑक्सिडेंट के सबसे अच्छे स्त्रोत माने जाते हैं जो ब्रेन के सेल्स को    मजबूत और स्वस्थ रखते हैं।
  •  दाल और फलियां: दाल और फलियां भी बच्चों के लिए बहुत जरूरी होती हैं क्योंकि इसमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है। फाइबर के अलावा इसमें विटामिन और मिनरल भी होते हैं इसलिए वो ब्रेन के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। फलियों में ओमेग 3 का ALA भी पाया जाता है जो ब्रेन के विकास और फंक्शन के लिए अच्छा माना जाता है। 
  •   बेरी फ्रूट:  स्ट्रॉबेरी, चेरी, ब्लूबेरी, ब्लैकबेरी में अधिक मात्रा में एंटी ऑक्सिडेंट होते हैं जो कैंसर नहीं होने में मदद करते हैं।
  •   नट्स : मुंगफली विटामीन ई का सबसे बढ़िया स्त्रोत माना जाता है जो दिमाग के नर्वस मेंमब्रेन के लिए काफी फायदेमंद होता।
  •   जौ: ब्रेन को ग्लूकोज की जरूरत होती है और जौ इसके लिए सबसे अच्छा होता है। जौ में विटामिन बी भी पाई जाती है।
  •   मीट: मछली में ओमेगा 3 DHA और EPA भरपूर मात्रा में होती है जो दिमाग के विकास के लिए अच्छा माना जाता है।

3. बच्चों का ना दे कभी ये खाना...

  •  पैक्ड फूड: चिप्स, कुरकुरे, लेज, पिज्जा, नूडल्स को जितना हो सके बच्चों से दूर रखें। इनमें MSG( Monosodium Glutamte) होती है जो खाने के स्वाद को बढ़ाते हैं लेकिन इनसे बच्चों के मूड और व्यवहार पर असर पड़ता है। जितना ज्यादा बो सरते फास्ट फूड से बच्चों को दूर रखें।
  •  आर्टिफिशियल कलर : कई देशों में खानों में रंगो के प्रयोग को बैन कर दिया गया। आर्टिफिशियल रंगो का बच्चों पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इससे बच्चों में चिंता, हाइपरसेंसिटिविटी बढ़ती है। आर्टिफिशल रंगो के ज्यादा प्रयोग से बच्चों के शारीरिक विकास पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

src=http://www.theindusparent.com/wp content/uploads/2016/12/burger.jpg Attention Please: बच्चों की यादाश्त बढानी है तो इन खानों को रखें बच्चों से दूर

  •  सोडा, कोल्ड ड्रिंक, चाय, काफी: कैफीन चॉकलेट, Ice tea में प्राकृतिक रूप से पाए जाते हैं लेकिन कई कंपनी सोडा और कोल्ड ड्रिंक मे भी इसका प्रयोग करते हैं। कोल्ड ड्रिंक के एक केन में36-46 ग्राम तक कैफीन पाई जाती है। टोरंटो के पब्लिक हेल्थ ऑर्गनाईजेशन के आर्टिकल Nutrition Matters के मुताबिक कैफीन के कारण बच्चों में आलस्य, नींद ना आना, सर दर्द, पेट दर्द जैसी समस्या बढ़ सकती है। 
  •  मीठा: अधिक मीठा खाने से बच्चों के मूड और व्यवहार पर गलत असर पड़ता है।

4. क्या अधिक वसा के खाने बच्चों के ब्रेन के लिए गलत हैं?

अधिक वसा युक्त खाना बच्चों के विकास में सबसे बड़ा बाधा होती है जबकि अगर एक लिमिट तक वसा नुकसान नहीं करती ।दिमाग के विकास के लिए MUFA (Mono Unsaturated Fatty Acis) और PUFA (Poly Unsaturated Fatty Acids) फैट बच्चों के खाने के लिए सबसे अच्छा माना जाता है।PUFA सफेद सरसों के तेल, ग्रेपसीड तेल, सोयाबीन के तेल, अखरोट का तेल, मुंगफली का तेल में पाया जाता है। ऑलिव ऑयल, फलियां, बादाम, काजू, सफेद सरसो तेल में MUFA में पाया जाता है। 

5. बच्चों के यादाश्त बढ़ाने वाले खाने...

बच्चों के दिमाग के लिए Choline और Acetylcholine काफी फायदेमंद होता है जो बच्चों के मेमोरी पॉवर को बढ़ाता है। खाने जिसमें Choline की मात्रा अधिक होते हैं जैसे अंडा, मछली का तेल, मीट, लीवर, सोयाबनी, मुंगफली, पत्तागोभी, ओट्स में पाया जाता है।

हॉवॉर्ड में एक स्टडी के अनुसार Anthocyanin और Querecetin मेमोरी के लिए ब्लैक करेंट, चेरी, बेरी, लाल, पर्पल और ब्लैक अंगूर, लाल   सेव,चुकंदर, टमाटर, ब्रोकली में पाया जाता है। फोलिक एसिड भी बच्चों की यादाश्त के लिए काफी अच्छा माना जाता है। सोयाबीन, पालक, हरी मटर, ब्रोकली, संतरा में फोलिक एसिड पाया जाता है।

6. नखरे करने वालों बच्चों को कैसे खिलाए?

कई बच्चे ऐसे होते हैं जिनका मूड काफी जल्दी बदलता है। आप हमेशा अपने बच्चो के खाने की आदत पर नजर रखें क्या वो खाना पसंद करते हैं और क्या नहीं। बच्चों के खाने से वैसी चीजों को दूर रखें रखें जिनसे उनके मेमोरी और व्यवहार को ना बदले। हमेशा ख्याल रखना चाहिए कि बच्चों को कोई ऐसी खाने की लत ना लगे जो उनके स्वास्थ्य के लिए सही नहीं हो।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें |