7 बातें जो अपनी बहुओं से कभी ना कहें...

अगर आप अपनी बहु के साथ अच्छा रिलेशनशिप चाहती हैं तो ये बातें कहने से परहेज करें ताकि आपका रिश्ता बहु से हमेशा अच्छा बना रहे।

कुछ सास और बहुएं एक दूसरे के साथ काफी अच्छे से घुल मिल जाती हैं जबकि कुछ ज्यादा क्लोज नहीं आ पाते। आज के समय की सास हर चीज को अच्छे से समझती हैं लेकिन कभी कभी वो थोड़ा बॉस बन जाती हैं और तभी सबकुछ गड़बड़ हो जाता है।

अगर आप अपनी बहु के साथ अच्छा रिलेशनशिप चाहती हैं तो ये बातें कहने से परहेज करें ताकि आपका रिश्ता बहु से हमेशा अच्छा बना रहे।

#1 “मैं होती तो ऐसा करती”

आपकी बहु बच्ची नहीं है। वो अपने काम अच्छे से कर सकती है।जबतक कि वो आपकी सलाह ना मांगे आप ना दें। उसे ये कहना कि इस चीज को आप इस तरह से करती जैसी बातें उसे सिर्फ ये एहसास देगी कि वो अच्छे से नहीं कर रही है।

#2 “तुम्हें अपने बच्चे को ऐसा नहीं करने देना चाहिए”

इस बात का ख्याल रखना बेहद जरुरी है कि वो आपके बच्चे नहीं है।आपके पोते पोतियां कैसे बडे होंगे ये निर्णय आपके बेटे और बहुओं के हाथों में होना चाहिए और आपको उनके निर्णय का सम्मान करना चाहिए जबतक कि बच्चे की जिंदगी खतरे में ना पड़ जाए।

#3 “अच्छा लेकिन मेरा बेटा मैं ऐसे करती हूं तो पसंद करता है”

आपके बेटे की शादी आपकी बहु से हुई है। उसे अपने पति की पसंद और नापसंद का ख्याल है। उसे ये बोलना कि आप कुछ चीजों को कैसे करती हैं तो बेटा पसंद करता है आपकी बहु को शिवाय कॉम्पिटिशन की फीलिंग के और कुछ नहीं देगा।

#4 "तुमने ऐसा क्यों किया?"

बजाय कि ज्यादा कड़क होने उसे ये बताकर कि वो क्या गलत कर रही है आप अपनी बहु का ज्यादा प्यार पा सकती हैं। कोई औरत ये नहीं चाहती कि उसका घर उसके कंट्रोल में ना रहे।उसे कभी ये नहीं अच्छा लगेगा कि आप उसे उसके घर में बताएं कि उसे क्या करना चाहिए।

#5 "पोते पोतियां देने के लिए तुम क्या कर रही हो?"

किसी भी कपल को बच्चा कब चाहिए ये उनका निर्णय होना चाहिए। उसे बार बार बच्चे के लिए बोलने या दवाब डालने से सिर्फ उसे झुंझलाहट होगी। हमेशा याद रखिए कि भले आप बच्चे का ख्याल रखने के लिए तैयार हो लेकिन वो अभी नहीं है इसलिए पैरेंट्स बनने का निर्णय उनके उपर छोड़ दें।

#6 " तुम बच्चों को जंक फूड देती हो?मैं ऐसा कभी नहीं करती थी..जब मेरे बच्चे छोटे थे मैंने उन्हें कभी जंक फूड नहीं दिया।"

हमेशा अपनी बहु को ऐसी बातें कहने से बचें। आप याद रखें कि जब परवरिश की बात आती है तो ये आपके बेटे और बहु का निर्णय होगा कि बच्चों की परवरिश कैसी होनी चाहिए। आप उन्हें सलाह दे सकती हैं लेकिन वो मानेंगे या नहीं ये उनके उपर है3

#7 "मुझे पता है कि उनके सोने का समय 8 बजे है, लेकिन मेरे साथ थे तो मुझे लगा 10 बजे तक जाग सकते हैं।"

बच्चों के लिए कुछ नियम सोच समझकर बनाए जाते हैं और ये आपकी ड्यूटी है कि आप उनका सम्मान करें। अगर बच्चों के इन नियमों को तोड़ेंगी तो आपकी बहु धीरे धीरे बच्चों का आपके साथ बिताया जाने वाला समय कम कर सकती है और बेशक आप ऐसा कभी नहीं चाहेंगी।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent