महिलाओं में प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाले 15 सबसे असरदार व्यंजन

lead image

ये हैं सबसे आसानी से मिल जाने वाले और प्रजनन क्षमता बढ़ाने वाले 15 भारतीय आहार ।आज है आपके लिए ऐसी खबर जो उन कपल के लिए बहुत महत्त्वपूर्ण है . हार्वर्ड स्कूल ऑफ़ पब्लिक हेल्थ में हुए एक शोध के मुताबिक वो महिलाएं जो ट्रांस फैट, पशुओं के प्रोटीन और कार्बोहायड्रेट का डीन करने वाली महिलाओं में बच्चेदानी की सम्सस्याएं होने की संभावना ज्यादा होती है . शोध के मुताबिक महिलाओं को लहसुन, कस्तूरी और जिमीकंद का सेवन भी नहीं करना चाहिए . साबुत अनाज, प्रोटीन वाले आहार, स्वस्थ वसा, प्रजनन क्षमता बढाने का काम करते हैं .

प्रजनन क्षमता बढाने वाले आहारों की परिभाषा 
प्रजनन क्षमता बढाने वाले आहार में विटामिन और खनिज प्रचुर मात्रा में मौजूद होती है जिससे महिलाओं के गर्भवती होने की संभावना बढती है .

प्रजनन क्षमता बढाने के लिए आहार पर निर्भर क्यों रहें ?
मासिक धर्म खत्म होने के बाद आप गर्भावस्था के तीन सबसे महत्वपूर्ण चरणों में प्रवेश कर जाती हैं। इन सभी चरणों के दौरान आपको स्वस्थ आहार का सेवन करना चाहिए ताकिन गर्भ के लिए एक स्वस्थ अंडे का निर्माण हो सके .

dreamstime_s_35919259

फ़ॉलिक्यूलर फ़ेस
मासिक धर्म पूरा होने के बाद ये सबसे पहल चरण होता है जहां आपका अंडाशय पूर्ण रूप से तैयार हो जाता है
ऐसे समय में आपको क्या चाहिए ? : विटामिन इ और डाई-इन्डोलिलमीथेन
आपको क्या खाना चाहिए ? : इस अवस्था में एस्ट्रोजन की मात्रा बहुत बढ़ जाती है इसलिए आपको पत्तागोभी, फूलगोभी, ब्रॉकली जैसी सब्जियों का सेवन करना चाहिए । आपको ओलिव आयल का भी समय समय पर सेवन करना चाहिए ।

ओवुलेशन फेस
आपको क्या चाहिए ? : विटामिन बी, सी, ओमेगा 3 फैटी एसिड और जिंक
आहार : जिंक और विटामिन सी शरीर में प्रोजेस्टेरोन पैदा करता है जिससे शरीर की कोशिकाओं का बनना तेज़ हो जाता है । मछलियों में पाया जाने वाला फैटी एसिड बच्चेदानी में रक्त के प्रवाह को नियमित बनाता है ।

लूटल फेस
इस फ़ेस में आपको ऐसे आहार की जरूरत होती है जो आपके शरीर में कोशिकाओं का बनना तेज़ कर देता है ।
आपको क्या चाहिए ? : बीटा कैरोटीन
आहार : पत्तेदार सब्जिआं, संतरे, नाशपाती और शकरकंदआदि को अपने आहार में शामिल करें ।

अब जबकि आप तीनो फेज के बारे में जान गए हैं तो सब्जियों की दूकान पर इन्हें ढूंढना शुरू मत कर दीजिये । पढ़िए आगे और जानिये आपकी प्रजनन क्षमता को बढ़ाने र कौन से हैं ।

केला 
जादुई तत्व : विटामिन बी6
सबसे आसानी से मिओने वाले फल केले में प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के कई गुण होते हैं । इसमें बी6 विटामिन होता है जो अंडे और वीर्य के विकास में मदद करता है जिससे पुरुष और महिला दोनों में हॉर्मोन्स नियमित रहते हैं ।

ऑयली फ़िश
जादुई तत्व : जरुरी फैटी एसिड
ऑयली फ़िश में जरूरी फैटी एसिड पाये जाते हैं जो शरीर में नहीं बन सकते  । ये फैटी एसिड प्रोस्टाग्लैंडिन्स के बनने में सहायक होता है जो शरीर में वीर्य की मात्रा को बढ़ाता है ।

लहसुन
जादुई तत्व : सेलेनियम और विटामिन बी6
लहसुन में सेलेनियम पाया जाता जो की एक ऐसा खनिज है जो महिलाओं में गर्भ गिरने की संभावना को कम करने के साथ साथ पुरुषों के यौन शक्ति बढ़ाने में मदद करता है ।

शहद
जादुई तत्व : खनिज और एमिनो एसिड
शहद का इस्तेमाल सदियों से प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए किया जाता रहा है ।इसमें कॉपर, पोटैशियम, सोडियम, और जिंक जैसे जरूरी खनिज पाये जाते हैं ।

PicMonkey-Collage

पालक
जादुई तत्व : फोलिक एसिड
यह एक पत्तों वाली सब्जी है जो शरीर में फोलिक एसिड की पूर्ती करता है । स्वस्थ वीर्य के लिए फोलिक एसिड बहुत जरूरी तत्व माना जाता है । इसके अलावा गर्भ के दौरन ये न्यूरल ट्यूब में होने वाली विकृतियों से भी बचाता है ।

अवोकाडोस

जादुई तत्व : विटामिन इ और एंटीऑक्सीडेंट
ये एक नाश्पाती के आकार का एक ऊष्ण कटिबन्धीय फल है जिसमे 20 जरूरी पोषक तत्व पाए जाते हैं . अवोकाडोस में विटामिन इ की मात्रा बहुत होती है जो पुरुष और  महिला दोनों में ही प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है ।

एस्परैगस
जादुई तत्व : फोलिक एसिड
यह एक तरह का सलाड का हिस्सा होता है जो स्थानीय किसान के बाज़ार में मिल जाते हैं  इसमें प्रचुर मात्रा में फोलिक एसिड पाया जाता है जो गर्भ गिरने से बचाता है ।

घोंघा
जादुई तत्व : बी12
ज्यादातर भारत के तटीय क्षेत्रों में पाया जाने वाला घोंघा शरीर में एस्ट्रोजन की सही मात्रा बनाये रखने में ?अदद करता है जिससे गर्भ गिरने की संभावना बहुत कम हो जाती है ।

अंडा
जादुई तत्व : विटामिन डी
आप अंडे को चाहे जैसे खाएं इसमें मौजूद विटामिन डी आपके लिए हमेशा बहुत ज्यादा फायदेमंद ही रहेगा । इससे प्रोजेस्ट्रोन और हॉर्मोन आदि के बनने में  और उन्हें निमेमित रखने में बहुत मदद मिलती है।

बादाम
जादुई तत्व ; विटामिन इ
आपको याद होगा जब आपको आपकी माँ कहती थी " बादाम खाने से दिमाग तेज़ होगा!"  तो बात ये है की बादाम वीर्य के स्वास्थ में इज़ाफ़ा करता है । इसे एंटीऑक्सीडेंट भी माना जाता है जिससे वीर्य के डीएनए की सिरक्षा में मदद मिलती है ।

रसीले फल
जादुई तत्व : विटामिन सी
संतरे, निम्बू, अंगूर आदि विटामिन सी की प्रचुर मात्रा के लिए जाने जाते हैं । यह वीर्य संख्या को बढ़ाने के साथ साथ हॉर्मोन्स को भी नियमित करता है ।

मटर
जादुई तत्व : जिंक
मटर में जिंक की मात्रा अधिक होती है जिससे वीर्य की मात्रा बहुत बढ़ जाती है ।यह वीर्य की गुणवत्ता को बढ़ाने में भी कारगर है ।

PicMonkey-Collage-5

मैकेरल 
जादुई तत्व : जरुरी फैटी एसिड
जरुरी फैटी एसिड शरीर में नहीं बनते  । ये फैटी एसिड प्रोस्टाग्लैंडिन्स के बनने में सहायक होता है जो शरीर में वीर्य की मात्रा को बढ़ाता है । मैकेरल मछली में पाया जानेवाला डी.एच.ए कोलेस्ट्रॉल को घटा देता है जिससे वीर्य की गुणवपवत्त बढ़ जाती है ।

साल्मन
जादुई तत्व : सेलेनियम
साल्मन मछली ज्यादातर पूर्वी तटीय क्षेत्रों में पायी जाती है जो सेलेनियम और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होती है । यह महिलाओं में गर्भ गिरने की संभावना को कम करने के साथ साथ पुरुषों के यौन शक्ति बढ़ाने में मदद करता है ।

तोफू 
जादुई तत्व : लोहा
पश्चिमी देशों के इस आहार को अब भारत में भी खूब ऑस्टेमाल किया जाने लगा है । सोया मिल्क से बानी तोफू आयरन यानी लोहा से भरपूर होता है जो अंडकोष के स्वास्थ के लिए बहुत ही प्रभावशाली होता है ।

आप इनमे से कोई भी चीज़ अपने आहार में मिलाकर अपने प्रजनन की क्षमता को बढ़ा सकते हैं ।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें  

Hindi.indusparent.com द्वारा ऐसी ही और जानकारी और अपडेट्स के लिए  हमें  Facebook पर  Like करें