14 बातें जो मेरी बेटी को नहीं सीखनी चाहिए !

बेटी

 

"बेटी, तुम राजकुमारी नहीं हो और पुरुषों के बराबर तो बिलकुल नहीं हो।" काश ऐसे और टिप्स मेरे बचपन में मेरे बड़े होने के साथ सिखाये गए होते ।

जहाँ लोग मुझसे उम्मीद रखते हैं की मैं तुम्हे सारी अच्छी बातें सिखाऊँ वहीँ तुमने मुझे बहुत बड़ी सिख दी है । मैंने अगर कुछ किया है तो ये की तुम गलत और सही में फर्क कर पाओ । लेकिन मेरी प्यारी बेटी क्या गलत है और क्या सही ये तय कौन करता है ?
तुम्हारे सही गलत का फैसला न मुझे करना है और न तुम्हारे पिता को और ना ही दादा दादी को । इसका फैसला असल में तुम्हे ही खुद करना है । सही और गलत के बीच का भेद, सबसे महत्वपूर्ण तुम्हारे लिए क्या है ? धीरे धीरे तुम्हे लगेगा की ज्यादातर चीजें सही या गलत नहीं कहीं बीच में होती हैं ।
मुझे सिर्फ इतना पता है की ऐसी कई बातें हैं जो तुम्हे नहीं सीखनी चाहिए । समय के साथ तुम्हे पता चल जाएगा क्यों ।

कुछ बातें जो मैं तुम्हे नहीं सीखा या समझा सकती वो ये हैं :

 

  1. खुद को राजकुमारी मानना बंद करो

 

तुम एक लड़की हो । एक ऐसी लड़की जिसे एक मजबूत महिला बनना है । एक ऐसी लड़की जिसे अपनी सुरक्षा के लिए किसी राजकुमार की जरूरत नहीं है ।

 

  1. महिला पुरुषों के बराबर नहीं हैं 

कभी उनसे बराबरी करने की कोशिश भी मत करना । तुम पुरुषों से ज्यादा मजबूत हो शारीरिक और मानसिक रूप से, निःस्वार्थ मत बनो । बिना कुछ उम्मीद के अच्छाई करना छोड़ दो । हाँ ये सही नही है । लेकिन अगर तुम अपने काम के लिए अदर और पैसे नहीं कमा पा रही हो या किसी रिश्ते को एक तरफ़ा निभा रही हो तो ये तुम्हे चिड़चिड़ा इंसान बना देंगी । क्योंकि तुम अच्छी हो इसीलिए लोगों से अच्छाई की उम्मीद मत करो ।

 

     3. किसी फैशन आइकॉन की तरह कपडे मत पहनो

तुम खुद अपने आप की फैशन आइकॉन बनो । कपङे हिसाब से कपड़े पहनो । अगर तुम्हे अपने स्कर्ट   के  साथ कुर्ती पहननी है तो वही सही । तुम्हे क्या पहनना है क्या नहीं ये कोई और तय नहीं कर सकता । कोई तुम्हे नहीं बताएगा की तुम टाइट टॉप   पहनोगी  या ढीली , जीन्स पहनोगी या स्कर्ट ।

 

     4. लोग क्या कहते हैं इससे कभी उदास ना हो

हज़ारों लोग हज़ारों बातें करेंगे लेकिन जिनमे हिम्मत होगी सिर्फ वही तुम्हारे मुह पर बात करेंगे । इससे पहले  की तुम उन टिप्पणियों पर अपनी प्रतिक्रिया दो, खुद से पूछो की क्या वो इतना महत्त्व देने लायक हैं ?

 

     5 .खूबसूरत दिखने के लिए ग्लानि महसूस मत करो

अगर कोई कहे तो तुम जानती हो क्या करना है । तुम जानती हो की अपने " छोटे हाथी " को कैसे  घूमाना है । 15 सेकंड के लिए तो वो भ्रमित हो जाएगा ।

 

    6. अगर तुम्हे मेक अप करना पसंद नहीं है तो कोई जरूरी नहीं है की तुम मेक अप करो

जरुरी नहीं है की तुम कुछ पसंद करो  या ना करो , जब तक तुम ना चाहो ।

 

    7. शादी तुम्हारे जीवन का ध्येय नहीं होना चाहिए

अब जब तुम खुद पढ़ने लग गयी हो तो तुम्हे पता लग गया होगा की कहानियों का अंत जैसा मैं बताती थी,  दरदल हकीकत उससे बिलकुल अलग होती है । जब स्नो वाइट औने राजकुमार के गालों को छूती है तो जरूरी नहीं है की वो घिदे पर बैठ कर स्ट्रॉबेरी ढूंढने  जाए ।

ये भी जरूरी नहीं है की जब सिन्ड्रेला शीशे के जूते पहनती है तो उसे नाचना जरूरी है । शादी के आलावा ज़िन्दगी में और बहुत कुछ है । ये तुम्हारी  चॉइस होनी चाहिए मज़बूरी नही ।

 

 

    8. किसी के आदेश को सिर्फ इसीलिए मत मानो की वो किसी अथॉरिटी से आई है

सवाल उठाओ, जवाब लो और अगर तुम्हे ठीक लगे तो उसका पालन  करो । वो भी दिन थे जब मैं तुम्हे अपने मुताबिक काम करने को कहती थी और तुम्हारे सवालों को नज़रअंदाज़ करती थी । मुझे तुमपर हमेशा से नाज़ था ।

 

    9. मोटा होना बुरा नहीं है 

और ना ही पतला होना । गोरा होना या ना होना कोई फर्क नहीं है । अगर खुद पर गर्व हो तो ऐसा कहने वालों पर तुम भारी पद सकती हो । अपने वजन के बारे में भी चिंता करना छोड़ दो ।

 

  10. तुम कितना कमाओगी इस बात को सोच कर अपने कैरियर के बारे में मत सोचो

जब तक तुम्हारा ध्येय ही पैसे कमाने का हो तब तक ऐसा मत सोचो । जैसे जैसे तुम बड़ी होगी तुम्हे लगेगा की तुम जो कर रही हो दरअसल तुम उसके लिए बानी ही नही हो । तुम्हे जो पसंद है वहां कमान जैसी कोई बात नहीं  होती है ।

कभी कभी तुम औने काम को ज्यादा पसंद कर सकती हो लेकिन हो सकता है की उससे तुम्हारी कमाई ज्यादा ना हो ।

 

  11. कभी भी अपने जीवन साथी की परिकल्पना अपने जैसी मत करो

एक बार सोच के देखो की तुम्हारा जीवन साथी भी तुम्हारे जैसा ही है, कितना अजीब है  न । मुझ पर भरोसा करो एक दूसरे से अलग लोग एक दूसरे को खींचते हैं। क्या तुम अपने माँ और पिता दोनों को क्रिकेट फैन के तौर पर देख सकती हो ?  नहीं ना  !

 

 12. सिर्फ इसलिए की तुम्हरे सभी दोस्तों के बच्चे हैं जरुरी नहीं है की तुम्हारे भी बच्चे हों

जीवन की घडी आगे बढ़ रही है, क्या तुम नन्हे पैरों की आहत नहीं सुनना चाहोगी । ( मैं तुम्हे ब्लैकमेल नहीं कर रही हूँ ) बच्चे तुम्हारी ज़िन्दगी बदल देते हैं । ये कार खरीदने या बालों के रंग बदलने या टैटू बनवाने जैसा नहीं है   ये बहुत महंगा, अनमोल और दर्दभरा एहसास है ।

 

अब अगर मुझे ये साडी बातें छोटे में कहानी हों तो मैं कहूँगी की हर व्यक्ति के औने विचार होते हैं । बीएस तुम सबके विचारों को ग्रहण मत करने लगना । लोगों के विचारों को सुनने के लिए तैयार रहो लेकिन उन्हें ग्रहण करना है या नहीं ये तुम तय करो । और अगर तुम किसी भंवर में फंस जाओ तो हमेशा याद रखना की ये वक़्त भी गुज़र जाएगा । अगले साल इसी समय तुम कहीं और आगे बढ़ चुकी होगी ।

 

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें।