स्तनपान (breastfeeding) के दौरान ना करें मोबाइल का प्रयोग..बच्चे पर पड़ता है घातक असर

lead image

सवाल यह उठता है कि जो महिलाएं अपने बच्चे को स्तनपान कराती हैं क्या मोबाइल फोन का इस्तेमाल से आपके बच्चे पर असर पड़ता है?

हर मां के लिए अपने बच्चे को दूध पिलाना काफी अलग अहसास होता है और हर शिशु के लिए मां का दूध काफी ज़रूरी होता है क्योंकि इसी से ही उसे पोषक तत्व मिलते हैं जो उसके शारीरिक और मानसिक विकास के लिए ज़रूरी होती हैं।

लेकिन आज के तकनीकी भरे माहौल में कोई भी व्यक्ति गैजेट्स से दूर नहीं रह पाता। फिर चाहे वो बच्चा हो या बड़ा। हर एक के पास मोबाइल तो रहता ही है। बात की जाए घरेलू महिलाओं की तो वो भी आजकल दिन भर मोबाइल का इस्तेमाल करती हैं। उठते बैठते, सोते जागते मोबाइल हाथ में रहता ही है। तो ऐसा में सवाल यह उठता है कि जो महिलाएं अपने बच्चे को स्तनपान कराती हैं क्या मोबाइल फोन का इस्तेमाल से आपके बच्चे पर असर पड़ता है?

क्योंकि अक्सर महिलाएं स्तनपान कराते समय टाइमपास करने के लिए कभी वॉट्सएप कभी फेसबुक तो कभी यूट्यूब जैसी एप ज़रूर चलाती हैं। तो क्या इन गैजेट्स का इस्तेमाल आपके बच्चे के लिए खतरनाक है? जी हां..हम आपको बता दें कि स्तनपान कराते समय गैजेट्स का इस्तेमाल बच्चे के लिए नुकसानदायक होता है।

हम यहां कुछ कारण लेकर आए हैं जो आपको बताएंगे कि क्यों आपको स्तनपान के दौरान गैजेट्स का इस्तेमाल क्यो नही करना चाहिए

आई कॉन्टेक्ट

किसी से भी रिश्ता मजबूत करने के लिए आंखों का संपर्क बहुत ज़रूरी है। फिर चाहे वो आपका नन्हा सा बच्चा ही क्यों ना हो। एक बच्चे और मां के बीच संबंध मजबूत करने के लिए आंखों का संपर्क होना बहुत ज़रूरी है।

बच्चा दूध पीते पीते आपकी आंखों में देखेगा और वो लगातार आपको देखता ही रहेगा। यही वो पल है जब वो आपके और करीब आएगा। ज़रा सोचिए कि आपका बच्चा आपके चेहरे की जगह सिर्फ फोन को ही देख रहा है तो क्या आपके शिशु के साथ आपका संबंध अच्छा होगा? नहीं ना।

बच्चे पर नहीं जाता ध्यान

ऐसा भी हो सकता है कि आपका बच्चा आपका दूध नहीं पी रहा हो। लेकिन आप इस बात पर‌ ध्यान नहीं देती है क्योंकि आप अपने फोन में बिज़ी हैं।

src=https://hindi admin.theindusparent.com/wp content/uploads/sites/10/2017/11/mobile phone 791644 960 720.jpg स्तनपान (breastfeeding) के दौरान ना करें मोबाइल का प्रयोग..बच्चे पर पड़ता है घातक असर

शारीरिक अहसास

अपने हाथो में फोन पकड़ने से आपको कभी महसूस नहीं होगा कि आपका बच्चा कब सो‌ गया है। इसी के साथ आपको यह भी पता नहीं चलेगा की आपके बच्चे ने ठीक से दूध पिया है या नहीं। हो सकता हैं की आपका बच्चा दूध पीने के बीच में ही सो‌ गया हो। यह ज़रूरी है कि आप अपने बच्चे को छुएं और उसका ध्यान रखें।

व्यवहार संबंधी समस्या

बच्चे काफी नखरीले होते हैं। वह शैतानी करते हैं, हंसते हैं और आवाजें निकालते हैंजब आप उनपर ध्यान नहीं दे रहे हों तो। आप उन्हें देखें इसके लिए वह अपने नन्हे हाथों से आपको पकड़ते हैं।

रेडिएशन

बच्चों की स्किन काफी नाज़ुक होती है और वह गैजेट्स से निकल रही हानिकारक विकिरणों से आसानी से प्रभावित हो जाती है। यह उनके लिए घातक है और स्किन इस हानिकारक तत्व को सोख लेते हैं

ऐसे तमाम कारण हैं जो यही साबित करते हैं कि आप अपने बच्चे को जितनी देर के लिए दूध पिला रह हैं उतनी देर के लिए ऐसे गैजेट्स से दूर रहें ताकि आपका बच्चा आराम से दूध पी सके।