सूर्य ग्रहण और प्रेग्नेंसी: क्या आप भी करती हैं इन मिथको पर विश्वास?

lead image

हमारे देश में सूर्य ग्रहण के दौरान प्रेग्नेंसी से जुड़े कई मिथक हैं और धार्मिक मान्यताएं हैं जिसे लोग मानते हैं

सूर्य ग्रहण या चंद्र ग्रहण अक्सर होते रहते हैं और इससे जुड़े कई मिथक और पौराणक कथाएं प्रचलित हैं। इसमें से आधी सी ज्यादा बातों का सच्चाई से कोई वास्ता नहीं होता है लेकिन फिर भी लोग विश्वास करते हैं। सूर्य ग्रहण के दौरान प्रेग्नेंसी से जुड़ी कई बातों पर लोग आसानी से विश्वास करते हैं।

खासकर हमारे देश में सूर्य ग्रहण के दौरान प्रेग्नेंसी से जुड़े कई मिथक हैं और धार्मिक मान्यताएं हैं जिसे लोग मानते हैं। ये मिथक या तो लोक कथाएं हैं या अंधविश्वासों के कारण ज्यादा प्रचलित हैं।जैसे राहु और केतु सूरज को निकल लेते हैं, ऐसी बहुत सारी कथाएं अलग अलग जगहों पर पॉपुलर है।

हम आज आपको सूर्य ग्रहण के दौरान प्रेग्नेंसी से जुड़ी कुछ मिथकों के बारे में बता रहे हैं।

मिथक 1 – प्रेग्नेंट महिलाओं को खुली आंखों से सूर्य नहीं देखना चाहिए  

सच्चाई : इस मिथ में असल में सच्चाई है। असल में सीधे आंखो से कभी भी सूर्य ग्रहण को नहीं देखना चाहिए क्योंकि उससे Ultraviolet Rays के कारण रेटिना को नुकसान पहुंचने का खतरा रहता है। हमेशा कोशिश कीजिए कि एक प्रोजेक्टेड ग्लास या किसी सर्टिफाइड उपकरण से सूर्य ग्रहण को देखें।

मिथक 2 – प्रेग्नेंट महिलाओं को धार वाली वस्तुओं से दूर रहना चाहिए

इस बात में बिल्कुल भी सच्चाई नहीं है क्योंकि अगर ऐसा होता तो कोई भी डॉक्टर/सर्जन किसी भी धार वाली वस्तु का उपयोग नहीं करते। सूर्य ग्रहण एक प्राकृतिक घटना है और हर साल सूर्य ग्रहण होते हैं। फिर भी अगर आपको कोई शक हो तो किसी एक्सपर्ट की राय लें।

मिथक 3 – सूर्य ग्रहण के दौरान घर से नहीं निकलना चाहिए

कई लोगों ऐसे हैं जो इसे घार्मिक मान्यता मानते हैं कि सूर्य की हानिकारक किरणे गर्भ में शिशु को नुकसान पहुंचा सकती है। सूर्य की किरणें सभी के लिए नुकसानदायक होती हैं। इसका कोई भी वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। बहरहाल अगर आप बड़ों की बात मानना चाहती हैं और उनका सम्मान करना चाहती हैं तो घर के अंदर ही रहने में कोई नुकसान नहीं है।

मिथक 4 – प्रेग्नेंट महिलाओं को सूर्य ग्रहण में नहीं खाना पीना चाहिए

कहा जाता है सूर्य ग्रहण के दौरान किरणों जो नुकसान पहुंचाने वाली बैक्टिरिया का भी सफाया कर देते हैं और सूर्य की किरण खाने के लिए सही नहीं होती इसलिए लोग फेंक देते हैं लेकिन आजकल हर घर में फ्रिज होता है इसलिए इस बात में कोई भी सच्चाई नहीं रह जाती।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent