सी-सेक्शन टांको की कुछ यूं करें देखभाल...ऐसे बरतें सावधानी

अगर आपने बेबी को जन्म सी-सेक्शन के माध्यम से दिया है तो यहां हम आपको कुछ महत्वपूर्ण टिप्स दे रहे हैं जिससे आपको जल्दी ठीक होने में मदद मिलेगी।

आप बेबी की डिलीवरी के लिए सी-सेक्शन चाहे डॉक्टर की सलाह पर या निजी कारणों से अपनाते हैं लेकिन ये बड़ी सर्जरी में से एक माना जाती है। आपके गर्भाशय को काट कर बेबी को निकाला जाता है जो बिल्कुल भी मामूली बात नहीं है।   

सर्जरी के बाद खास केयर की जरुरत होती है ताकि आपका घाव सही तरीके से ठीक हो सके और आप अच्छे से रिकवरी कर सकें।

ऑपरेशन की केयर

आपका नवजात शिशु इस समय आपकी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए, लेकिन साथ ही ये भी जरुरी है कि आप अपने ऑपरेशन की अच्छे से देखभाल करें।

सीजेरियन सेक्शन में जहां ऑपरेशन होता है वहां अधिक केयर की जरुरत होती है ताकि बिना इंफेक्शन के सर्जरी जल्दी ठीक हो जाए।

तो अब सवाल ये उठता है कि इसे ठीक करने के लिए आपको जरुरी कदम उठाने चाहिए?

उस एरिया को साफ करें

अगर आपका ड्रेसिंग (या बैंडेज) है तो आप इसे हर दिन बदलें और जब भी ये गीला हो जाए इसे बदलने में देरी ना करें

हमेशा ऑपरेशन की जगह को अच्छे से गर्म पानी और हल्के साबुन से साफ करें। उस एरिया को कभी ना रगड़ें बल्कि धुले हुए कपड़े को अच्छे से साबुन के झाग में डालें और अच्छे से साफ करें या उसे गर्म पानी से अच्छे से धोएं।

हमेशा उस एरिया को सूखा रखें

नहाने के बाद धीरे-धीरे ऑपरेशन पर थपकी देते हुए उसे सुखाएं और फिर ड्रेसिंग करें। किसी भी तरह की कॉस्मेटिक तेल, क्रीम,लोशन का इस्तेमाल टांकों पर या उसके आसपास ना करें क्योंकि इनमें ऐसे तत्व मिले हो सकते हैं जिसकी वजह से आपको टांको के आसपास खुलजी या दर्द हो । इसके लिए बल्कि डॉक्टर की दी हुई क्रीम का इस्तेमाल करें ताकि घाव जल्दी ठीक हो।

ऑपरेशन के बाद हमेशा कोशिश करें कि आप ढीले ढाले कपड़ों में रहें ताकि ऑपरेशन किया हुआ एरिया सांस ले सके।

ब्रेस्टफीडिंग पोजिशन के साथ प्रयोग

सीजेरियन के बाद आप तुरंत बेबी को ब्रेस्टफीडिंग कराना शुरू करेंगी लेकिन दर्द को और असहजता को दूर करने के लिए आपको अलग-अलग तरह के पोजिशन में स्तनपान कराने की कोशिश करनी चाहिए। इससे आपको समझ आएगा कि कौन सा पोजिशन आपके और बेबी के लिए अच्छा है।इनमें से कुछ पोजिशन इस प्रकार से हैं।

  • फुटबॉल/कल्च/रग्बी के जैसा पकड़ना
  • एक साइज सुलाकर पकड़ना
  • ऑस्ट्रेलियन/कोआला की तरह पकड़ना

बेबी को आप चाहें तो गोद में एक तकिया पर सुलाकर आराम से स्तनपान करा सकती हैं। इससे आपको ज्यादा आराम मिलेगा।

टांकों की सुरक्षा करें

आपका सी-सेक्शन चाहे आपकी मर्जी से हुआ हो या डॉक्टर की सलाह पर लेकिन आपको अपने टांकों की सुरक्षा करनी होगा।

हमेशा याद रखें कि हंसते, खांसते, छींकते या उठते-लेटते समय अपने टांको को सपोर्ट दें। आप चाहें तो Abdominal Binder का इस्तेमाल कर सकते हैं ताकि टांको को इससे सपोर्ट मिले। इससे पेट का टिशू अच्छे से सिकुड़ जाता है और दर्द से राहत मिलती है।इससे आपको प्रेग्नेंसी के पहले वाले शेप में भी आने में मदद मिलेगी।

ठंढा या गर्म उपचार

सर्जरी के बाद एक दो दिनों तक ऑपरेशन की जगह पर सूजन रहना नॉर्मल है लेकिन टांको के आसपास आइस बैग से आपको आराम मिलेगा, या फिर गर्म कपड़े से वहां सेकें। इससे ब्लड सर्कुलेशन अच्छा होता है घाव जल्दी ठीक हो जाएंगे।

ढीले ढाले कपड़े पहने

जितना हो सके ढीले-ढाले कपड़े पहने , स्वेट पैंट और अधिक बड़े साइज वाले टीशर्ट पहने क्योंकि अधिक टाइट कपड़ों से टांको पर कपड़े से रगड़ होगी और इससे सेंसेटिव एरिया में जलन होने की संभावना होती हैं।

एक बार जब टांके ठीक होने लगते हैं तो नॉर्मल कपड़े पहने लेकिन फिर भी हम सलाह देंगे कि ऐसे कपड़े पहने जिससे आपको पेट पर आराम मिले।

इंफेक्शन के लक्षण

शुरुआत में सीजेरियन सेक्शन में थोड़ी सूजन रह सकती है और यह हल्के गुलाबी रंग का दिखता है। इसमें दर्द दो-तीन दिनों तक रहता है लेकिन फिर भी आपको हल्के दर्द का अनुभव कुछ सप्ताह तक भी रह सकता है।

शुरुआत में अपने टांकों पर नजर रखें ताकि अगर इंफेक्शन हो तो आपको पता रहे कि कब मेडिकल सहायता की जरुरत है।

  • गर्म महसूस करना, हल्की लाली या रिसाव होने से डॉक्टर के पास जाएं
  • अचानक से दर्द का बढ़ना
  • लगातार बुखार होना
  • कुछ अलग तरह का दुर्गन्ध या वेजाइनल डिस्चार्ज
  • टॉयलेट के दौरान जलन या दर्द होना
  • हमेशा टॉयलेट करने की इच्छा होना लेकिन टॉयलेट नहीं होना या फिर बहुत गहरे रंग का टॉयलेट होना।
  • पैर के किसी हिस्से में दर्द या फिर सूजन होना।

क्या करें नजरअंदाज

रिकवरी प्रक्रिया के दौरान कुछ बातों पर आपरो ध्यान देना चाहिए ताकि आप जल्दी ठीक हो सकें।

  • सेक्सुअल इंटरकोर्स
  • तैराकी, बाथ टब मे या जाकुजी को नजरअंदाज करें क्योंकि इससे बैक्टिरिया आपके टांके में जा सकता है।
  • अपने शरीर से भारी किसी चीज को उठाना
  • सीढ़ियों का प्रयोग
  • अधिक कठिन व्यायाम

हर महिला को ठीक होने में अलग-अलग समय लगता है। कभी-कभी इतनी सारी चीजों को करने और नहीं करने के नियमों की वजह से महिलाएं निराश हो जाती हैं क्योंकि इन सबके साथ आपको अपने स्वास्थ का भी ख्याल रखना होता है।   

ऑपरेशन के बाद असहज और थका हुआ महसूस करना नॉर्मल है इसलिए इसे लेकर चिंता ना करें और जितना हो सके अपना ख्याल रखें।

जरुरत पड़ने पर डॉक्टर की मदद लें क्योंकि इससे आपको दर्द से राहत मिलेगी और स्तनपान कराने वाली माओं के लिए ये सबसे बेहतर होगा।

अपने पार्टनर या परिवार से मदद मांगने में संकोच ना करें क्योंकि इस समय आपको मदद की जरुरत पड़ेगी।