38 साल की एक साधारण महिला कुछ इस तरह बदल गई फिटनेस ट्रेनर में

lead image

आगे पढ़ें उनकी शानदार कहानी!

लोग मानते हैं कि मां बनने के बाद जिंदगी को देखने का नजरिया बदल जाता है। यह भी कहा जाता है कि एक मां कुछ भी कर सकती है और दुनिया को दिखा सकती है कि वो कितनी मजबूत है।

चंचल दांग शारदा से मिलने के बाद आप भी यही महसूस करेंगे। वो दिल्ली की एक फिटनेस ट्रेनर हैं और 12 साल की बेटे विदित की मां हैं।

आपको सबसे पहले बता दें कि 5 साल पहले की चंचल ऐसी नहीं थी। वो बिल्कुल हम जैसी मां थी। दिल से बिल्कुल सिंपल , एक बहुत ही प्यार करने वाली पत्नी और मां।

कैसे हुआ ये सब..

चंचल दिल से जानती थी कि उनकी जिंदगी में कुछ खालीपन है लेकिन 9 से 5 की नौकरी उनकी प्राथमिकता नहीं थी।

chanchal inside 38 साल की एक साधारण महिला कुछ इस तरह बदल गई फिटनेस ट्रेनर में

Chanchal with husband Sanjeev and son Vidit before she became a fitness trainer.

चंचल ने शेयर किया कि “हर इंसान की जिंदगी में एक खास रिश्ता होता है जिसके लिए वो कभी कंप्रोमाइज नहीं कर सकता। ये आपका पार्टनर, कोई आदत या कुछ भी हो सकता है। मेरे ऐसा ही रिश्ता मेरे बेटे के साथ है। 9 से 5 की नौकरी और साथ ही कई और प्राथमिकताओं के बीच मैंने खुद को पूरी तरह से नजर अंदाज किया। मेरे 8 साल के बेटे ने मुझे एहसास दिलाया कि मैं सिर्फ इन सब के लिए नहीं हूं। बातों ही बातों में बड़ी मासूमियत के साथ उसने एक दिन कहा कि ‘मम्मा आप मोटी हैं और इसके बारे में कुछ क्यों नहीं करती हैं?’”

इस एक लाइन ने चंचल की दुनिया बदल दी।

चंचल का कहना है कि दुखी या नाराज होने के बदले मैंने इस वाक्य को प्रेरणा के तौर पर लिया। मुझे बिल्कुल भी अंदेशा नहीं थी कि यह एक लाइन मेरी और साथ कई माओं के लिए टर्निंग प्वाइंट साबित होगी जो हर दिन अधिक हेल्दी, फिट और कॉन्फिडेंट रहने के लिए इतनी मेहनत करती हैं।

आसान नहीं था ये सब

दिसंबर 2014 में चंचल सबकुछ छोड़ एक नए मिशन पर जुट गई। उन्हें हर हाल में फिट रहना और उनकी तरह बाकी माओं की मदद करनी थी। लेकिन शुरूआत में ये बिल्कुल भी आसान नहीं था क्योंकि उन्हें कोई गाइड करने वाला नहीं था।

चंचल ने शेयर करते हुए कहा कि मैं एक जगह से दूसरी जगह भटक रही थी। कई अखबार में विज्ञापन देखती जो वादा तो करते थे लेकिन वो पूरा नहीं होता था। कई मैसेज, डाइट प्लान, थेरेपी भी अपनाई। हां एक मां होने के कारण मुझे इन चुनौतियों से निपटने की प्रेरणा मिलती थी क्योंकि एक शख्स बहुत ही आशान्वित था और वो मेरा बेटा था।

चंचल 2012 में 89 किलो की थीं और यहां से उन्होंने 63 किलो तक का सफर तय किया। फिट रहने के लिए उन्होंने डांस क्लास की शुरूआत की जो दिल्ली बेस्ड फिटनेस चेन है। आज चंचल 58 किलो की हैं और सबकुछ खाती हैं लेकिन बैलेंस बनाकार रखती हैं और यही उनका मूलमंत्र है।

chanchal inside 3 38 साल की एक साधारण महिला कुछ इस तरह बदल गई फिटनेस ट्रेनर में

Chanchal as she looks now after her dramatic transformation!

उन्होंने काफी चुनौतियों और संघर्ष का सामना किया। कई अच्छे बुरे पल भी आए तो जिंदगी में उतार चढ़ाव भी आया लेकिन अंत में सब ठीक हो गया।

हैप्पी मॉम चंचल कहती हैं कि मैं ज्वाइंट फैमिली में रहती हूं और मेरे ससुराल वाले मुझसे प्यार करते हैं।उन्हें लगता था कि मैं खुद को क्यों सजा दे रही हूं। वो कहते थे तुम बहुत अच्छी दिखती होलेकिन मेरा बेटा मेरी जिंदगी की इस नई कहानी को लिख चुका था।

आज इस बदलाव के बाद चंचल का खुद का डांस टू फिटनेस फ्रेंचाइजी है जो रानी बाग में है। उन्होंने फिटनेस ट्रेनर बनने के लिए रीबॉक सर्टिफिकेशन कोर्स भी किया है।

चंचल की मां और खास दोस्त आस्था, हरप्रीत ने फिटनेस स्टूडियो खोलने में उनकी मदद की। उनकी बहन वंदना और भाई हनी भी उनके साथ हमेशा ढाल बनकर खड़े रहे।

उनकी जिंदगी का नया मिशन माओं की मदद करना था जो पिछले काफी सालों से फिट रहने की जद्दोजहद में लगी हुई थीं। आज उन्हें काफी सराहना मिलती है कई क्लाइंट हैं जो उनके व्यवहार के कारण उनसे जुड़ी हुई हैं।

उन्होंने एक वाक्या शेयर करते हुआ कहा कि सबसे दिलचस्प बात थी कि मैं एक शादी में शामिल होने गई थी और मेरे लिए रिश्ता आया था। वो लोग ये जानकर सदमे में चले गए कि मैं 10 साल की बेटे की मां हूं। मजाक से हटकर कई बार ऐसे मौके आए जब मेरे क्लाइंट्स ने अपनी सक्सेसफुल स्टोरी शेयर की और उनकी मेहनत का क्रेडिट मुझे दिया गया। कई लोग अपना खोया कॉन्फिडेंस वापस पाते हैं। मैं अपने क्लाइंट के साथ स्पेशल बॉन्ड शेयर करती हूं।

बाकी माओं की मदद..

chanchal inside 2 38 साल की एक साधारण महिला कुछ इस तरह बदल गई फिटनेस ट्रेनर में

Chanchal’s mission now is to help other mums by not only losing weight but also boosting their confidence.

चंचल ने अपना अनुभव शेयर करते हुए कहा कि अगर बिना एक पल गवाएं आप किसी को कुछ देते हैं तो आप अमीर महसूस करते हैं। इस एहसास को शब्दों में नहीं बयां किया जा सकता है। मैं सिर्फ अपने क्लाइंट की मदद नहीं करती बल्कि मैं उन्हें अपना बेस्ट फ्रेंड बुलाती हूं जो अपने टारगेट तक पहुंचने के लिए मुझपर भरोसा करते हैं। मैं उन्हें उनका खोया कॉन्फिडेंस और आत्मविश्वास वापस दिलाती हूं । हां कभी गुस्सा होती हूं तो कभी चिल्लाती हूं लेकिन अंत में फायदा उनका ही होता है और उन्हें WOW वाला एहसास होता है।

आखिरकार चंचल कहती हैं कि ये किसी भी महिला के लिए बेहद जरूरी है कि जिंदगी में एक लक्ष्य हो चाहे वो जो भी हो।

उन्होंने अपनी बात खत्म करते हुए कहा कि मेरी जिंदगी का लक्ष्य फिटनेस है। हम सब जिंदगी में कुछ ऐसा करते हैं जो करना हमें पसंद आता है। जिंदगी में एक लक्ष्य होना बहुत जरूरी है जिसके लिए हम समय निर्धारित करते हैं, स्ट्रैटजी बनाते हैं और उसपर अमल करते हैं। इससे सफलता जरूर से मिलती है।