बच्चों में सर्दियों में खांसी और जकड़न? इन देसी नुस्खों से मिलेगी राहत!

lead image

सर्दियों में जकड़न भरी खांसी भयावह साबित हो सकती है खासकर जब ये बच्चों को हो जाता है  कफ़ सिरप भी असर दिखाना बंद कर देता है।

ठंढ के दस्तक देते ही एक चिंता जे सबको सताती है वो है सर्द हवाएं और बच्चों की बहती नाक के साथ जकड़न भरी खांसी जो पीछा छोड़ने का नाम ही नहीं लेती है।

6 साल की बच्ची की मां होने के कारण एक बात जो मैं आसानी से कह सकती हूं वो ये कि जकड़न भरी खांसी कभी-कभी काफी डरावना सपना साबित होती है खासकर जब बच्चे कड़वी दवाएं लेने के लिए नहीं तैयार होते हैं।

खांसी को दूर करने के देसी उपाय

आप बच्चो की जिद्दी खांसी के लिए कई देसी नुस्खे भी अपना सकती हैं जो पीढ़ी दर पीढ़ी चली आ रही है और हमेशा फायदेमंद साबित हुई है।

इस साल खांसी में जब मेरी बेटी को खांसी की समस्या हुई और ये ठीक नहीं हो रही है तब मैंने कुछ घरेलू नुस्खा आजमाने का सोचा जिसपर मेरी मां भरोसा करती थीं। आपको इसके लिए कोई भी सुपरमार्केट जाने की जरुरत नहीं है बल्कि इसके लिए सामग्री पहले से आपके किचन में मौजूद होगी।

जी हां आपको इसके लिए बस शहद और काली मिर्च की आवश्यकता होगी।

कैसे मिलती है खांसी ठीक होने में मदद

honey face बच्चों में सर्दियों में खांसी और जकड़न? इन देसी नुस्खों से मिलेगी राहत!

बच्चों में खांसी ठीक करने के प्राचीन काल से ही शहद का इस्तेमाल किया जा रहा है। ये ना सिर्फ कई कफ सिरप का हिस्सा होता है बल्कि कई रिर्सच ये भी बताते हैं कि  इसमें कफ को दबाने के गुण होते हैं जो कफ सिरप से ज्यादा फायदा करता है।

कई गुणों के लिए प्रसिद्ध शहद में एंटी-बैक्टेरियल तत्व के साथ एंटी ऑक्सीडेंट भी होता है जो बच्चों के इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है और खांसी नहीं होने देता।

kali mirch बच्चों में सर्दियों में खांसी और जकड़न? इन देसी नुस्खों से मिलेगी राहत!

2014 में US National Institutes of Health द्वारा किया गया एक रिर्सच बताता है कि शहद का एक खुराक भी बलगल के स्त्राव को रोकता है और बच्चों में कफ को कम करता है।

वहीं दूसरी ओर काली मिर्च में विटामिन सी पाया जाता है जिसमें एंटी ऑक्सीडेंट के गुण होते हैं जो इम्यूनिटी को मजबूत करते हैं और बलगम के स्त्राव को कंट्रोल करते हैं।

कैसे करें इस्तेमाल

आप काली मिर्च और शहद को मिलाकर बच्चों की खांसी को दो तरीके से ठीक कर सकते हैं।

  • एक चुटकी काली मिर्च लें और इसमें एक चम्मच शहद मिलाएं। इसे अच्छे से मिलाकर बच्चों को एक ग्लास गर्म पानी के साथ रोज दें। खासकर बिस्तर पर जाने से पहले बच्चों के लिए ये काफी फायदेमंद होगा।
  • खड़ी काली मिर्च के कुछ दानों के साथ पानी गर्म करें और इसमें एक चम्मच शहद मिला दें। इसे 2-3 मिनट तक गर्म होने दों और बच्चों को इसे चाय की तरह दिन भर में दो-तीन बार पीने को कहें।

सलाह: बच्चों को पहली बार कोई भी चीज देने से पहले डॉक्टर की सलाह जरुर लें। साथ हीं आपको बता दें कि शहद एक साल से कम उम्र के बच्चों को नही देनी चाहिए। ये नुस्खे लेखक द्वारा दिए गए हैं लेकिन इस बात की गारंटी की नहीं है कि सभी के लिए परिणाम एक जैसे हों।