theAsianparent Logo

मशहूर डिजाईनर सब्यसाची ने आख़िर क्यों कहा ‘महिलाओं को शर्म आनी चाहिए’

बेहतरीन डिजाइन्स के लिए मशहूर सब्यसाची मुखर्जी ने हॉर्वड कॉफ्रेन्स में भारतीय छात्रों को संबोधित करते हुए कुछ ऐसा कह दिया जिसको लेकर उन्हें कड़ी आलोचनाएं मिल रही हैं ।

बीते दिनों बॉलीवुड में अपने खूबसूरत कलेक्शन्स और खास कर साड़ियों की बेहतरीन डिजाइन्स के लिए मशहूर सब्यसाची मुखर्जी ने हॉर्वड कॉफ्रेन्स में भारतीय छात्रों को संबोधित करते हुए कुछ ऐसा कह दिया जिसको लेकर उन्हें कड़ी आलोचनाएं मिल रही हैं ।

जी हां ,ये वही डिजाईनर हैं जिन्होंने ईंग्लिश-विंग्लिश जैसी कई अन्य फिल्मों के कॉस्ट्युम डिजाइनर रहे हैं और इन्होंने ही विराट-अनुष्का की शादी के लिबास तैयार किए । दरअसल सब्यसाची के संबोधन के दौरान जब किसी छात्रा ने साड़ी पहनने में आने वाली मुश्किलों का जिक्र किया तो उन्होंने बड़ी बेबाकी से कहा कि अगर कोई भारतीय महिला साड़ी पहनना ना जाने तो ये उसके लिए शर्म की बात है ।

 

अपने संबोधन में उन्होंने दीपिका पादुकोण के देसी पहनावे की खूब सराहना करते भी नजर आए । आपको बता दें कि वो भारतीय संस्कृति को बचा कर रखने और महिलाओं को फैशन के तौर पर साड़ी अपनाने के लिए प्रेरित कर रहे थे ।

लेकिन जिन महिलाओं को साड़ी पहनने में देर लगती है या जिन्हें साड़ी में खुद को कैरी करना मुश्किल लगता है सब्यसाची की बात उनके दिलों में चुभ सी गई । यही वजह है कि अपनी इस टिपण्णी के कारण हमेशा सूर्खियों में रहने वाले सब्यसाची की ट्विटर पर खूब खिंचाई की जा रही है ।

 

साड़ी पहनने में असमर्थ महिलाएं भारतीय कहलाने लायक नहीं !

हमारे देश का पारंपरिक परिधान भले ही साड़ी हो लेकिन नए ज़माने के तौर-तरीके और फैशन ट्रेन्ड का असर बड़े शहरों की महिलाओं से लेकर छोटे शहरों में रहने वाली युवतियों के ड्रेसिंग सेन्स में भी देखने को मिलता है ।

जब से बॉलीवुड की नई फिल्मों में साड़ी को फैशन स्टेटमेंट की तरह दिखाया जाने लगा है तब से साड़ी पहनने के क्रेज़ में कुछ तो इज़ाफा हुआ ही है ।

लेकिन बहुतों के लिए साड़ी पहनना मशक्कत का काम होता है । आप भी सहमत होंगी कि आजकल शादी करने वाली लड़कियों को सबसे अधिक टेंशन ससुराल में खुद से साड़ी पहनने की होती है ।

चाहे कॉलेज फंक्शन हो या कोई नाते-रिश्तेदारों के घर पारंपरिक पार्टी, साड़ी पहनना हर लड़की की पहली पसंद तो हो सकती है लेकिन साड़ी को सलीके से पहनना अपने आप में एक कला है । इन सब के बावजूद ये कहना हर हाल में अनुचित होगा कि साड़ी पहनने में असमर्थ महिलाएं भारतीय कहलाने लायक नहीं हैं ।

साड़ी है बोल्ड येट ब्यूटीफुल !

जहां तक फैशन स्टेटमेंट और पारंपरिक परिधान की बात आती है तो ज़ाहिर है साड़ी से ज़्यादा सौम्य, सुंदर और सेक्सी आउटफिट कोई हो ही नहीं सकता । तभी तो अधिकांश महिलाएं अपने हर खास आयोजन में साड़ी ही पहनना पसंद करती हैं । इसमें आपके बोल्ड अवतार के साथ-साथ नज़ाकत और ऐलिगेंस भी बखूबी झलकता है । उदाहरण के तौर पर विद्या बालन, रेखा जैसे कई स्टार्स ऐसे मिल जाएंगे जिन्होंने हर अवसर में रंग भरने के लिए साड़ी को ही चुना ।