सनी देओल नहीं करते बेटे के साथ दोस्तों जैसा व्यवहार..कारण भी है दिलचस्प!

lead image

सनी देओल ने कहा है कि “अगर मैं चाहूं भी तो करण के साथ दोस्तों जैसा व्यवहार नहीं कर सकता” और इसका कारण भी उन्होंने शेयर किया है।

एक्टर सनी देओल अपनी निजी जिंदगी को हमेशा मीडिया से दूर रखते हैं और पर्सनल लाइफ को बिल्कुल सीक्रेट रखते हैं। लेकिन उन्होंने अपने बेटे करण देओल से जुड़ी कुछ खास बातें शेयर की हैं।

हैंडसम हंक सनी देओल के 26 वर्षीय बेटे जल्द ही एक्टिंग में डेब्यू करने वाले हैं और पापा सनी देओल इन दिनों इस वजह से काफी खुश हैं। सनी देओल खुद करण देओल की डेब्यू फिल्म पल पल दिल के पास डायरेक्ट कर रहे हैं।

सनी देओल ने करण देओल की ट्विटर पर तस्वीर शेयर कर उन्हें सबसे इंट्रोड्यूस भी कराया था। उन्होंने लिखा था कि।

 

#palpaldilkepaas की शूटिंग शुरू हो चुकी है..करण का शूट पर पहला दिन है..मैं अपनी खुशी नहीं बयां कर सकता हूं..मेरा बेटा अब बड़ा हो गया है #love #actor #life pic.twitter.com/yf2kyAZFr4

अगर मैं चाहूं तो भी मैं और करण दोस्त नहीं बन सकते

हालांकि उनका रिलेशनशिप दोस्ताना दिखता है लेकिन असल में ऐसा नहीं है। 59 वर्षीय सनी देओल ने शेयर किया कि वो कभी अपने बेटे के साथ दोस्तों की तरह व्यवहार नहीं कर सकते हैं और इसका उन्होंने कारण भी बताया है।

उन्होंने एक दैनिक अखबार से बातचीत में कहा कि अगर मैं चाहूं तो भी बेटे के साथ दोस्तों की तरह व्यवहार नहीं कर सकता। वो अपने सीक्रेट शेयर करता है लेकिन एक दूरी भी बनाकर रखता है। इसे आप प्राइवेसी कहिए या एक दूसरे के लिए इज्जत। नई पीढ़ी का लड़का होने के बाद भी करण एक दूरी बनाकर रखता है। वो मेरे जैसा है। वो मेरे साथ बैठता है और कुछ देर बाद हमारे पास बात करने के लिए कुछ नहीं होता है। वहीं फिल्म के सेट पर वो मुझे डायरेक्टर ही समझता है। वो बहुत ही प्रोफेशनल है।

 

A post shared by Sunny Deol (@iamsunnydeol) on

उन्होंने ये भी कहा कि ये दूरी की वजह उनकी पिता धर्मेंद्र के साथ रिश्ता है।

मैं आज भी अपने पिता से नजरें नहीं मिला सकता

अपने पिता के साथ रिश्ता शेयर करने के बारे में सनी देओल ने कहा है कि मैं अपने पिता धर्मेंद्र से आज भी नजरें नहीं मिला सकता। उनका डर बना रहता है। आज भी अगर मैं कुछ गलत करता हूं तो डैड को पता चल गया तो..का डर हमेशा बना रहता है।"

पापा से ये डर ना सिर्फ उनसे दूरी बनाता है बल्कि उन्होंने ये भी शेयर किया कि उनके पास अधिक बात करने के लिए नहीं होता है।

स्वभाव से बेहद शर्मीले सनी देओल ने शेयर किया कि डैडी हमसे पूछते रहते हैं कि नीचे आकर तुमलोग बात क्यों नहीं करते। जब भी हम साथ में बैठते हैं हम थोड़ी देर के लिए बात करते हैं फिर बात करने के लिए कुछ नहीं होता है। कुछ समझ नहीं आता है। “   

दिलचस्प बात ये है कि दो पीढ़ी एक दूसरे के साथ दोस्ताना व्यवहार नहीं करते हैं लेकिन दोनों एक दूसरे के साथ बेहद सपोर्टिव हैं।

 

A post shared by Bobby Deol (@iambobbydeol) on

जिंदगी गोल है, मेरे पिता ने मुझे लॉन्च किया और अब मैं अपने बेटे को लॉन्च कर रहा हूं।

ऐसा लगता है कि देओल परिवार काफी पारंपरिक और पुराने ख्यालातों को मानते हैं।

तीन पुराने मूल्य जो अपने बच्चों को जरूर सिखाने चाहिए

कभी कभी बच्चों में गुजरे जमाने के पारिवारिक मूल्य देना बेहद जरूरी है लेकिन कौन से मूल्य? यहां हम आपको बता रहे हैं कुछ पुराने पारिवारिक मूल्य।

  • बच्चों को सच कहना सिखाएं: ये एक ऐसी सीख है जो हर उम्र और पीढ़ी के लिए जरूरी है इसलिए स्कूल में भी सिखाया जाएगा। हालांकि पैरेंट्स के लिए यह मुश्किल है कि वो ईमानदारी और सच्चाई को प्रमोट करें और उन्हें गलती पर सही तरीके से समझा सकें।
  • अधिक स्थिर रहें: हमारे ग्रैंडपैरेंट्स हमें घर के बाहर खेलना और चुनौती से लड़ने देते थे। आज टेक्नॉलॉजी के जमाने में हम बच्चों को चुनौती से लड़ने नहीं देते हैं। ऐसे टास्क दें कि उन्हें प्रोत्साहित करें ताकि वो जिंदगी में आगे बढ़ सकें।
  • उन्हें न्याय की शिक्षा दें: अगर आप चाहते हैं कि उन्हें सही को सही और गलत को गलत कहने की हिम्मत हो। जैसे कि अगर आपको लगता है आपके बच्चे को किसी परिस्थिति को ठीक से नहीं संभाल पाया तो उन्हें अलग अलग तरीके से सहानुभूति दिखाना और सही निर्णय लेने के लिए प्रोत्साहित करें।