रात में बीमार बच्चों को कैसे बनाएं सहज..ताकि ले सकें चैन की सांस

जब बच्चे बीमार पड़ते हैं तो बेड टाइम के दौरान इन सिंपल गाइडलाइन को फॉलो करें ताकि वो ले सकें चैन की नींद और कर सकें आराम।

अगर आपका बच्चा कभी भी बीमार पड़ा तो आपको पता होगा कि रात में बीमार बच्चों को आराम से सुलाना भी एक बहुत बड़ा चैलेंज होता है।

बड़ों में बीमार पड़ना चिंता का कारण होता है लेकिन बच्चे अगर बीमार हों तो ये और अधिक चिंता का कारण होता है क्योंकि उन्हें अपनी शरीर का फंक्शन समझ नहीं आता है।

सबसे अधिक चिंता का कारण और कठिन परिस्थिति पैरेंट्स के लिए बच्चों को असहज और दर्द में देखना होता है।

सभी पैरेंट्स जिनके बच्चे कभी भी बीमार पड़े हों तो उन्हें पता होता है कि बच्चों की देखभाल करना भी एक बड़ी समस्या होती है। लेकिन पैरेंट्स जल्द ही इससे बाहर निकल सकते हैं। बस जरुरत है जानने की आप कैसे अपने बच्चों को कंफर्टेबल रख सकते हैं।

ParentTown community में मॉम Kirsten S ने शेयर किया कि बच्चों के बीमार पड़ने पर पैरेंट्स के लिए परेशान होना स्वभाविक है लेकिन मैं कोशिश करती हूं मैं ना घबराऊं क्योंकि इससे कोई फायदा नहीं मिलने वाला है।

बच्चों को सर्दी से लेकर कई सीरियस इंफेक्शन होने तक के हम यहां आपको गाइडलाइन दे रहे हैं।

रात में बच्चों को आराम से सुलाने के लिए जानें 6 खास बातें

night comfort for sick kids

जब वो आराम करने के मूड में ना हों तो जबरदस्ती ना करें

अपने बच्चों को फैसला करने दें कि उन्हें कब सोना है और आराम करना है। अगर बच्चों की तबियत खराब होगी तो वो खुद नहीं खेलेंगे, इसलिए उन्हें छूट दें।

सुनिश्चित कर लें कि उन्हें मन है तो खेलने दें और बस उन पर ध्यान दें।

उनकी डाइट के साथ क्रियेटिविटी दिखाएं

अगर आपका बच्चा बीमार है और भूख मर गया हो तो बच्चों को ट्रेडिशनल खाना दें। उनसे पूछें कि वो क्या खाना चाहते हैं और उनकी पसंद के साथ एक्सपेरीमेंट करें और हेल्दी खाना बनाएं। खाने के लिए जबरदस्ती ना करें।

इस बात का ध्यान रखें कि वो खाना मिस ना करें।

अगर आपका बच्चा फ्लू, डायरिया से पीड़ित है तो उन्हें हाइड्रेटेड रखें और ऐसा करना जरुरी है। हाइड्रेशन सिर्फ पानी या जूस से नहीं  नूडल सूप, चिकन ब्रोथ या राइस पोडिग्री से भी किया जा सकता है।

अगर आपका बच्चा 24 घंटों से अधिक समय तक खाने-पीने इंकार करें  तो उन्हें तुरंत डॉक्टर के पास लेकर जाएं।

दवा को थोड़ा मजेदार बनाएं

night comfort for sick kids

सभी दवाई स्वादिष्ट तरीके से नहीं बनाई जाती। अगर आपका बच्चा दवा खुशी-खुशी नहीं ले रहा है तो दवा की कड़वाहट कम करने के लिए इसे बहुत अधिक ठंढा करके दे सकते हैं।

आप चाहें तो इसे सॉफ्ट खाने के साथ भी दे सकते हैं। इस बात को डॉक्टर से सुनिश्चित कर लें कि आप जिस खाने में दवा मिली रही हैं वो ड्रग के फायदे को कम ना करता हो।

Decongest दें और उन्हें आराम से सुलाएं

ज्यादातर बच्चों को सबसे ज्यादा परेशानी बंद नाक से होती है। चूंकि बच्चों को अपना नाक साफ करने नहीं आता है इसलिए आप उनकी मदद करें और सैलिन सॉल्यूशन उनकी नाक पर लगाएं।

याद रखें: Decongestants 4 साल से कम उम्र के बच्चों को नहीं देना चाहिए।दिन भर में इसे 2-3 बार दोहराएं ताकि रात में उन्हें आराम मिले।

आप cool-mist humidifier या वेपोराइजिंग रब का इस्तेमाल करें ताकि वो चैन की सांस ले सकें।

क्या उन्हें सिर में दर्द है? हमेशा कोमल और आरामदायक मसाज बच्चों को दें उन्हें आराम दें।

बीमारी को समझें

ज्ञान सिर्फ शक्ति नहीं है, ये आपके डर को भी भगा सकता है। बच्चों के साथ समय बिताएं और उन्हें समझें कि उन्हें क्या बीमारी है और इसे समझें| सबसे जरुरी बात कि उन्हें याद दिलाएं कि आप और वो दोनों मिलकर दुश्मन से लड़ रहे हैं और ये जल्द ठीक हो जाएगा।

उनका ध्यान भटकाएं और इंटरटेन करें

अच्छी किताब और फेवरिट फिल्म से अच्छा कुछ नहीं हो सकता है जिससे बीमार बच्चे थोड़ा व्यस्त रहें।

बच्चों का ध्यान भटकाना आपके बहुत बड़े शस्त्रों में से एक है। मां और पापा हमेशा बच्चों के साथ इसका इस्तेमाल रात में आराम देने के लिए करें।

उन्हें प्यार दिखाएं

बच्चों को अटेंशन की जरुरत होती है। खासकर जब बच्चे बीमार होते हैं तो उन्हें जरुरत पड़ती है।

बीमार पड़ना बच्चों के लिए काफी डरावना हो सकता है। इसलिए किस, प्यार, दुलार आदि से उन्हें अच्छा महसूस होगा। जब आपका बच्चा बीमार पड़ता है तो ये सिर्फ शारीरिक जरुरत नहीं बल्कि भावनात्मक जरुरत भी होती है।

इन सब के ऊपर सबसे महत्वपूर्ण है कि अपने बच्चों को हमेशा डॉक्टर या स्पेशलिस्ट के पास ले जाएं।हमें उम्मीद है कि आप इन गाइडलाइन्स को मानेंगे और ये आपके लिए भी मददगार होगा।आप कैसे अपने बच्चों को कंफर्ट जोन में रखेंगी। हमें कमेंट सेक्शन में जरुर बताएं।