मेरे बच्चों को खैरात में कुछ नहीं मिलेगा: अक्षय कुमार

lead image

एक पिता के तौर पर अक्षय कुमार की प्राथमिकताएं पहले से तय हैं।

उन्होंने अपने करियर की शुरूआत शेफ से की फिर मार्शल आर्ट्स ट्रेनर बने। काफी सालों के मेहनत और संघर्ष के बाद वो आज यहां पहुंचे हैं। उन्होंने बिना वेतन के बतौर फोटोग्राफी असिस्टेंट का काम किया लगभग 18 महीनों  तक किया। आखिरकार उनकी मेहनत रंग लाई और आज अक्षय कुमार की अपनी अलग पहचान है। एक ऐसे एक्टर की पहचान जिनकी फिल्में कॉमर्शियली सबसे ज्यादा हिट होती हैं।

इतनी मेहनत के बाद इस मुकाम पर पहुंचने के बाद अगर वो अपने बच्चों को खूब मेहनत करने की शिक्षा देते हैं तो ये कोई चौंकने वाली बात नहीं है। एक पिता के तौर पर उनकी प्राथमिकताएं पहले से तय हैं। इस बात में जरा भी आश्चर्य नहीं होगा अगर वो कहते हैं उनकी जो मेहनत और विरासत है उसका फायदा उनके बच्चों को वो नहीं लेने देंगे।

जी हां आपने बिल्कुल सही समझा। हाल में दिए एक इंटरव्यू में खिलाड़ी कुमार ने कहा कि वो चाहेंगे कि उनके बच्चे खुद मेहनत कर एक मुकाम और सफलता पाएं ना कि उन्हें परिवार की विरासत या नाम का फायदा मिले।

"वो जो भी कमाएंगे इसके लिए उन्हें मेहनत करनी होगी। मैं चाहता हूं कि वो एक जिम्मेदार इंसान बनें। कुछ भी खैरात में नहीं मिलेगा। वो जो भी पाएंगे उसके जिम्मेदार वो होंगे। उन्हें समझना होगा भौतिक सुख सुविधा और लग्जरी लाइफ मेहनत का फल हैं"। ये बातें उन्होंने फैमिली वेकेशन पर जाने से पहले कही।

अक्षय कुमार ने अपनी अपने बेटे के साथ फादर्स डे के दिन तस्वीर भी पोस्ट की। उन्होंने साथ में लिखा कि “Happiness is…watching him stumble,struggle & eventually grow into a fine young man #HappyFathersDay.”

बच्चों से क्या चाहते हैं अक्षय कुमार

 

 

A photo posted by Twinkle Khanna (@twinklerkhanna) on

अक्षय कुमार ने कहा कि वो ये चाहते हैं कि उनका बेटा आरव मेहनत करना सीखे। यही इन्हें उन्होंने कहा कि "इसलिए मैंने फैसला लिया है कि फैमिली वेकेशन पर आरव बिजनस क्लास से जाएगा क्योंकि ब्लैक बेल्ट में फर्स्ट डिग्री पाने के लिए उसने काफी मेहनत की वरना वो इकॉनॉमी क्लास में सफर करता"

"वो पहले भी कई बार इकॉनॉमी क्लास में सफर कर चुका है क्योंकि उसे पता है कि इनसब चीजों के लिए मेहनत करनी पड़ती है। पका पकाया कुछ नहीं मिलता।"

 

 

A photo posted by Twinkle Khanna (@twinklerkhanna) on

जहां तक उनकी बेटी नितारा की बात है तो नितारा के लिए भी अक्षय कुमार की वही सोच है जो उनकी बेटे आरव के लिए है। उनका मानना है कि नितारा को सेल्फ डिफेंस (आत्म सुरक्षा) सीखना होगा क्योंकि ये जरूरी भी है और सही भी है।उन्होंने कहा कि "एक पिता के तौर पर मैं हमेशा उसके साथ रहना चाहता हूं लेकिन मुझे ये भी पता है कि ये संभव नहीं है।"

खिलाड़ी कुमार का कहना है कि वो नहीं चाहते कि उनके बच्चे दुनिया को समझने में अपने बचपन को नजरअंदाज करें। वो किसी चीज के लिए जोर जबरदस्ती नहीं करते।

"मेरे बच्चे भी वैसे ही हैं जैसे बाकी बच्चे होते हैं। वो खेलते हैं, मस्ती करते हैं। मैं किसी चीज के लिए जबरदस्ती नहीं करता। मैं उन्हें प्रोत्साहित करता हूं। बच्चों को भी उनका स्पेस मिलना चाहिए लेकिन साथ ही उन्हें सही शिक्षा और ज्ञान भी मिलना चाहिए जो मेरे पैरेंट्स ने मेरे साथ किया। " अक्षय कुमार मानते हैं कि बच्चों की परवरिश में उनकी पत्नी ट्विंकल खन्ना का अधिक हाथ हैं।

मैं हर पिता को कहना चाहूंगा कि अपने बच्चों को प्यार करें

अक्षय कुमार ने अपनी बात खत्म करने से पहले सभी पिता के एक काफी अर्थपूर्ण संदेश भी दिया। उन्होंने कहा, "मैं आज भी अपने बेटे को ऐसे पकड़ता और प्यार करता हूं जैसे वो कोई एंजेल हो। लेकिन वो बड़ा हो रहा है। अब उसके अपनी इच्छाएं होंगी। वो मेरे हाथों से निकलना चाहेगा लेकिन मैं हमेशा वहीं उसके साथ रहूंगा। वो गिरेगा, संभलेगा भागेगा लेकिन संभालने के लिए मैं वहां रहूंगा। मैं हर पिता को कहना चाहूंगा कि अपने बच्चों कोप्यार करें, गले लगाएं तब तक जब तक आप ऐसा कर सकते हैं क्योंकि ये आपकी पकड़ है जो उसे परिस्थितयों से लड़ने की ताकत देगी"

बहरहाल हम तो यही कहेंगे कि इसे ही सही परवरिश कहते हैं।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent