“मेरे पति मुझे बाल नहीं काटने देते..क्या ये पिछड़ी सोच है? ”

lead image

मैं डरी हुई हूं और मैं नहीं चाहती कि किसी दिन मैं छोटे बालों के साथ घर आऊं और मेरे पति मुझसे गुस्सा हो जाएं।

इस सब की शुरूआत 2004 में प्रीति जिंटा की फिल्म लक्ष्य देखने के साथ हुई। मैं प्रीति जिंटा की हेयरस्टाइल पर बिल्कुल फिदा हो गई थी। मुझे नहीं पता क्यों लेकिन छोटे हेयरकट हमेशा से आकर्षक लगते हैं।

मुझे ऐसा लगता है कि ये बहुत अधिक आत्मबल देता है मानो महिला कह रही हो कि उसे स्त्रीत्व के लिए किसी तरह की पुष्टि की जरूरत नहीं है और अपने आप में सुनिश्चित कर चुकी है कि छोटे हेयरकट में वो बेहद खूबसूरत लग रही है।

अब हम मेरी कहानी पर आते हैं। मैं औरंगाबाद में रहने वाली 35 वर्षीय महिला हूं। औरंगाबाद बड़ा शहर है लेकिन यहां लैंगिक भेदभाव है और इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है। 

src=https://www.theindusparent.com/wp content/uploads/2017/09/Screen Shot 2017 09 29 at 10.55.41 am.png “मेरे पति मुझे बाल नहीं काटने देते..क्या ये पिछड़ी सोच है? ”

इसलिए मैंने जब 2004 में अपनी मम्मी को बताया कि मैं प्रीति जिंटा जैसे बाल रखना चाहती हूं तो उन्होंने कहा कि शादी होने के बाद जो मन करे करना। जब मैंने बहस किया तो उन्होंने कहा कि कोई भी मां अपने बेटे के लिए परकटी लुक की लड़की नहीं पसंद करेगी।

मैं मान गई लेकिन मेरी दिली ख्वाहिश थी कि जिंदगी में एक बार मैं छोटे हेयरकट करवाऊं। मेरे हमेशा से काले, लंबे बाल थे लेकिन हां ये सनसिल्क के विज्ञापन जैसे नहीं थे लेकिन फिर भी काफी चमकदार हैं और कमर तक लंबे हैं। लेकिन जब मैं किसी लड़की को छोटे या कंधे तक लंबे बालों में देखती हूं मेरे दिल की धड़कन बढ़ जाती है।

शुरूआती अनिच्छा

शादी के बाद कुछ सालों तक मैंने अपने बाल छोटे नहीं कराए क्योंकि मुझे पता नहीं था कि मेरे ससुराल वाले और मेरे पति कैसी प्रतिक्रिया देंगे। शुरूआती कुछ सालों में इतने रिश्तेदार मुझे मतलब दुल्हन को देखने आते थे कि मैं छोटे हेयरकट के बारे में सोच भी नहीं सकती थी। इसके अलावा सिल्क की साड़ी के साथ छोटे हेयरकट अच्छे भी नहीं लगते।

इसलिए मैंने कुछ सालों तक इंतजार किया और एक दिन मैंने अपने पति को प्रीति जिंटा की लक्ष्य फिल्म की तस्वीर दिखाई और पूछा कि उन्हें ये हेयरस्टाइल पसंद है। उन्होंने कहा कि उन्हें पसंद है। लेकिन रुकिए..अभी सरप्राइज बाकी था..जैसे ही मैंने उनसे पूछा कि क्या मैं ये हेयरकट करवा सकती हूं तो वो जोर-जोर से हंसने लगे।

 
src=https://www.theindusparent.com/wp content/uploads/2016/05/brush hair.jpg “मेरे पति मुझे बाल नहीं काटने देते..क्या ये पिछड़ी सोच है? ”

उन्हें लगता है कि मेरा दिमाग खराब हो चुका है क्योंकि मैं बॉब कट चाहती हूं। मैंने फिर से पूछा क्या मैं कम से कम ब्लंट हेयर कट रख लूं लेकिन उन्हें लगता है कि मुझे ऐसा भी नहीं करना चाहिए।

उन्होंने मुझे कई तरह के बहाने बताए जैसे उन्हें मेरे लंबे बाल पसंद है, रिश्तेदार क्या सोचेंगे। उनके सारे बहाने मुझे फिल्मी लग रही थी। मुझे ऐसा लग रहा था कि मुझे अपने लुक के लिए उनके रिश्तेदारों की पसंद और नापसंद के बारे में क्यों सोचना चाहिए?

मेरी बात

 
src=https://www.theindusparent.com/wp content/uploads/2016/07/sad woman.jpg “मेरे पति मुझे बाल नहीं काटने देते..क्या ये पिछड़ी सोच है? ”

मुझे डर लगता है और मैं नहीं चाहती कि मैं बाल छोटे करवाकर घर आऊं और मेरे पति गुस्सा हो जाए। चूंकि मैंने खुद को हमेशा लंबे बालों में देखा है तो मुझे इस बात का डर है कि कहीं मैं अजीब ना दिखूं?

मैं चाहती हूं कि अगर मैं नए लुक में ना भी अच्छी दिखूं तो मेरे पति मेरा सपोर्ट करें। वो मुझे बोलें कि तो क्या हुआ अगर ये लुक नहीं अच्छा लग रहा...बाल वापस बड़ा हो जाएगा! लेकिन मेरे पति इसके ठीक उलट चेतावनी देते हैं कि अगर उन्होंने मुझे छोटे बालों में देखा तो जब तक बाल लंबे नहीं हो जाते हैं तब मुझे उनके पैरेंट्स से दूर रखेंगे।

कई मौकों पर मैंने उन्हें चैलेंज भी किया कि वो एक दिन घर आएंगे और मुझे छोटे बालों में देखेंगे और वो कहते हैं कि अगर ऐसा हुआ तो वो मेरे साथ कहीं नहीं जाएंगे।

ये सुनकर मुझे घुटन सी होती है कि आज के समय में भी मुझे अपना हेयर स्टाइल रखने के लिए अनुमति की जरूरत पड़ रही है।  

कभी-कभी मैं खुद को समझाने की कोशिश करती हूं कि वो मेरे प्यार में करते हैं और मेरे लंबो बालों को पसंद करते हैं लेकिन इस बात को इंकार नहीं किया जा सकता है कि यह अति पितृसत्तात्मक सोच है। दुखद सच्चाई ये है कि मैं उनके इस व्यवहार के सामने झुक रही हूं क्योंकि घर की शांति नहीं भंग करना चाहती हूं।

* जोफीन मकसूद को नाम ना छापने की शर्त पर बताई गई कहानी।