“मेरी 8 साल की बेटी ने हमें इंटिमेट होते देख लिया..अब हम उसे क्या समझाएं?”

lead image

मेरे पति सोचते हैं कि मुझे इस बात को खत्म कर देनी चाहिए लेकिन मैं मानती हूं कि मुझे उसे समझाना चाहिए। वो हो सकता सेक्स के बारे में समझने के लिए काफी छोटी हो या उसे इसके बारे में कुछ भी पता ना हो।

मैं 35 साल की हूं अपनी शादी में बेहद खुश और ज्यादातर बच्चे, परिवार, काम में व्यस्त रहती हूं। मेरे पति कॉर्पोरेट क्षेत्र में हैं और मैं एडवटाइजिंग एक्जिक्यूटिव हूं।

हम दोनों काफी देर तक काम करते हैं और इन सबके बीच कुछ समय अपने लिए भी निकाल लेते हैं खासकर जब बच्चे सो जाते हैं और हमारे पास सुबह के काम का बोझ नहीं होता।

पिछले सप्ताह भी एक ऐसी ही रात थी जब 8 साल और 4 साल के दोनों बच्चों को उनके कमरे में सुलाकर मैं अपने कमरे में चली गई। 10 साल की शादी में अचानक सेक्स काफी दुर्लभ है। हम ज्यादातर बिना कुछ बोले एक दूसरे से बातें कर लेते हैं और कुछ अपने खास समय को बिता पाते हैं।

 
sex “मेरी 8 साल की बेटी ने हमें इंटिमेट होते देख लिया..अब हम उसे क्या समझाएं?”

बाकी रातों की तरह मैं जब कमरे में गई तो पाया कि मेरे पति मेरा इंतजार कर रहे थे और टचवुड मेरे बच्चे काफी गहरी नींद में सोते हैं लेकिन मैं जब भी जागती हूं एक बार देख जरूर लेती हूं। उस रात हम रोमांस को काफी इंज्वॉय कर रहे थे।

सुरक्षा कारणों की वजह से मैं या मेरे पति कभी कमरे को लॉक नहीं करते हैं। उस रात भी हम रोमांस में डूबे थे। हम ज्यादातर अधिक समय इसमें नहीं बिताते हैं लेकिन अगले दिन छुट्टी होने के कारण हम एक दूसरे के साथ काफी इंज्वॉय कर रहे थे।

हम दोनों एक दूसरे को किस करने और फोरप्ले को इंज्वॉय करने में व्यस्त थे। ऑर्गेजम तक पहुंचने ही वाले थे लेकिन कुछ अचानक से आवाज आई।

हम जब पलटे तो मेरी आठ साल की बेटी हाथों को मुंह पर रखे खड़ी और बिल्कुल शॉक्ड अवस्था में हमें देख रही थी।

मैं इतनी शर्मिंदा कभी नहीं हुई

सच बताऊं तो मुझे इतनी शर्मिंदगी कभी पूरी जिंदगी में नहीं हुई। कुछ समय के लिए मैं और पति मानो पत्थर की मूर्ती बन गए।

किसी तरह से मैंने हिम्मत जुटाई और नाइटी पहन पाई। मैं तुरंत अपनी बेटी को गोद में लेकर कमरे में चली गई। उसे बिस्तर पर डाला और बस इतना कहा कि कभी भी मम्मा-पापा कमरे में हों तो बिना खटखटाए अंदर नहीं आना चाहिए। वो चुप रही और सो गई।

अगली सुबह नाश्ते के समय भी मुझे काफी शर्म आ रही थी लेकिन मेरी बेटी कुछ नहीं बोली और हमेशा की तरह नॉर्मल रही। एक-दो दिनों के बाद भी वो नॉर्मल रही लेकिन मुझे अंदर ही अंदर चिंता खाए जा रही थी कि क्या मुझे उसे समझाना चाहिए।

मेरे पति सोचते हैं कि मुझे इस बात को खत्म कर देनी चाहिए लेकिन मैं मानती हूं कि मुझे उसे समझाना चाहिए। वो हो सकता सेक्स के बारे में समझने के लिए काफी छोटी हो या उसे इसके बारे में कुछ भी पता ना हो।

चूंकि वो अभी बहुत छोटी है तो मैं नहीं समझ पा रही हूं कि मैं उसे कुछ चिड़ियों, मधुमक्खियों के बारे में बताकर समझाने की कोशिश करूं।अगर मैं ऐसा करती हूं तो मैं काफी बदकिस्मत रहूंगी कि उसकी पहली सेक्स को समझने की यादों में अपने माता-पिता को इंटिमेट देखना सबसे ऊपर होगा। मैं उसे डराना नहीं चाहती। कृप्या मेरी इस समस्या को खत्म करने में मेरी मदद करें।