महाशिवरात्रि की विधिवत पूजा विधि...शिव को क्या चढ़ाएं, क्या नहीं चढ़ाएं

lead image

पूजा तो सभी करते हैं लेकिन अज्ञानता के कारण महाशिवरात्रि पूजा विधि में ज़रा सी चूक होने से पूजा का फल नहीं मिल पाता इसलिए इस लेख में हम आपके लिए लेकर आए हैं महादेव को प्रसन्न करने से संबंधित सभी जानकारी ।    

महाशिवरात्रि के अवसर पर देवाधिदेव महादेव की कृपा पाने के लिए उनकी पूजा अर्चना सच्चे मन से करनी चाहिए साथ ही भोले बाबा को प्रिय वस्तुएं उन्हें अर्पित करनी चाहिए । मंदिर के बाहर इस दिन फूल, नारियल , बेलपत्र और प्रसाद के तौर पर कई चीजों का अंबार लगा रहता है लेकिन शिव को चढ़ाने के लिए आपको कुछ ऐसे फूलों का ही चयन करना चाहिए जो शिव को अति प्रिय हों ताकि उन्हें प्रसन्न किया जा सके ।

 आपको बता दें कि शिव को ठंढ़े तासीर की चीजें पसंद आती हैं और यही एक मात्र ऐसे देवता हैं जिनके जलाभिषेक का भी बड़ा महत्व है ।

चूंकि शिव ने मस्तक पर चंद्र को धारण किया है तथा अपने गले में विष को स्थान दिया है इसलिए इसके दुष्प्रभाव को कम करने के लिए तथा उन्हें शीतलता प्रदान करने के लिए जल, दूध बेलपत्र आदि चढ़ाने की परंपरा है ।

पूजा तो सभी करते हैं लेकिन अज्ञानता के कारण पूजा विधि में ज़रा सी चूक होने से पूजा का फल नहीं मिल पाता इसलिए इस लेख में हम आपके लिए लेकर आए हैं महादेव को प्रसन्न करने से संबंधित सभी जानकारी ।       

महाशिवरात्रि पूजा विधि: शिव को क्या चढ़ाएं

Screen Shot 2018 02 12 at 12.15.56 pm महाशिवरात्रि की विधिवत पूजा विधि...शिव को क्या चढ़ाएं, क्या नहीं चढ़ाएं

  • भोलेनाथ की दया पाने के लिए धतूरे का फूल ज़रुर चढ़ाएं ।
  • शंखपुष्प चढ़ाने से लक्ष्मी की प्राप्ति होती है ।
  • जपाकुसुम अर्पित करने से शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है ।
  • सवा लाख बेलपत्र चढ़ाने से सारी मनोकामना पूरी होगी ।
  • शमी के फूल, शमी के पत्ते तथा आंक के फूल मोक्ष दिलाते हैं ।
  • सुयोग्य वर या वधु के लिए बेला के फूल चढाएं ।
  • संतान सुख के लिए धतूरे का फूल चढ़ाएं ।
  • शांति की प्राप्ति के लिए हरसिंगार चढ़ाएं ।
  • गंगाजल से शिव का अभिषेक करें ।
  • भांग को पीसकर दूध या जल में मिलाकर शिव को चढ़ाएं ।
  • दूध और घी से शिव को अभिषेक करें ।
  • शिवलिंग में चंदन की तरह शहद का लेप लगाएं ।

शिव को क्या नहीं चढ़ाएं

  1. हल्दी बांकि सभी देवी-देवताओं को अर्पित की जाती है लेकिन इसे शिव को कतई नहीं चढ़ाना चाहिए।
  2. चूंकि शिवलिंग पुरुषार्थ का प्रतीक है इसलिए हल्दी चढ़ाना वर्जित है ।
  3. वहीं केतकी और केवड़े के फूल भी शिव को नहीं चढाया जाता ।
  4. लाल रंग के फूल शिव को रास नहीं आते इसलिए उन्हें पार्वती पर ही अर्पित करना चाहिए ।
  5. शिव को ठंढ़ा सादा दूध ही चढ़ाएं।
  6. शिव को कुमकुम भी ना चढाएं ।

पूजा विधि

महाशिवरात्रि के दिन अगर आप किसी शिवालय में जाकर पूजन कर सकें तो अति सुंदर अन्यथा आप अपने घर में शिवलिंग की विशेष पूजा कर सकते हैं । खासतौर पर ये ध्यान रखें कि सूर्यास्त से ठीक पहले ये पूजा विशेष फल दायी है ।

महाशिवरात्रि में व्रती को जागरण करना चाहिए क्योंकि स्थापित शिवलिंग में शिव का वास होता है । ये भगवान अर्धनारीश्वर होते हैं जिसमें लिंग के साथ जलाधारी पार्वती का प्रतीक है ।

स्नान के बाद शिवलिंग को गंगाजल से स्नान करवाएं, तत्पश्चात कच्चे दूध चढ़ाएं । ऊं महाशिवाय सोमाय नम: तथा ऊं नम: शिवाय मंत्र का जाप करें । भस्म रमाने वाले शिव के लिए धूप का विशेष प्रबंध करें । फिर ऊपर बताए गए सभी चीजों को पूजन साम्रगी में शामिल करते हुए शिव को चढ़ाएं, पूजा के बाद आरती करें एवं सच्चे मन से शिव की आराधना करें । इस तरह महाशिवरात्रि को आपकी मनोकामना अवश्य पूरी होगी ।