मम्मी के कमरे में होने पर क्यों बच्चे करते हैं बुरा व्यवहार – एक मां का दृष्टिकोण

जी हां सच है – एक बच्चे का व्यवहार मम्मी के दिखते गिरने लगता है और ये सौ फीसदी सच है। खासकर जब माएं कुछ समय से साथ नहीं हो।

मैंने हाल में एक काफी मजेदार आर्टिकल पढ़ा कि क्यों मम्मी के आसपास होने पर बच्चे 800% अधिक बुरा व्यवहार करते हैं। (Mock रिसर्च पर आधारित)

जी हां सच है – एक बच्चे का व्यवहार मम्मी के दिखते गिरने लगता है और ये सौ फीसदी सच है। खासकर जब माएं कुछ समय से साथ नहीं हो।

मैं जानती हूं कि ये सच है। मैंने सबसे पहले अपने बच्चों पर रिसर्च शुरू किया। जब मेरा बड़ा बेटा, जो अभी 6 साल का है, बहुत छोटा था तो मेलबर्न, ऑस्ट्रेलिया में डे-केयर में जाता था।

जाहिर है पहले कुछ दिन, सप्ताह उसके लिए उम्मीद के मुताबिक अच्छे नहीं थे, जब हम सुबह उसे छोड़ने जाते थे तो वो खूब रोता था। जैसे जैसे समय बीतता गया वो अपने डे केयर के लोगों के साथ अधिक घुलमिल गया। मुझे ये पता था क्योंकि वहां एक सीक्रेट जगह थी जहां से वो अपने बच्चों की “जासूसी” कर सकते थे।

मैं कई दिनों तक उसे देखती थी, वो खुशी खुशी खेलता और हंसता रहता था लेकिन मुझे देखते ही सब गायब। 

वो मुझे देखते ही रोना शुरू कर देता था, उसे जोर जोर से रोते और सिसकते देख मैं भी उसके साथ रो पड़ती थी! इसका उसके दुख से कुछ भी लेना देना नहीं था (वो डे केयर में दुखी नहीं था)। लेकिन मुझे देखते ही वो बस रो पड़ता था। 

 

ये व्यवहार मेरे (अभी भी) छोटे बेटे में भी है। वो फिलहाल तीन साल का है। जब मैं होती हूं तो छोटा लड़का भी अपने पिता के साथ पैदल चलते हुए इतने ही नखरे करता है..अब आप समझ गए होंगे?

मैं आपको 100 से अधिक उदाहरण दे सकती हूं कि कैसे दोनों मुझे देखते ही कुछ और करने लग जाते थे। मैं नहीं समझ पाती थी कि आखिर ऐसा क्यों होता था लेकिन इस “फेक स्टडी” को पढ़ने के बाद मैं सोच में पड़ गई। 

“हमने पाया कि 8-9 महीने के बच्चे खुद अकेले खेल रहे होते थे लेकिन अपनी मम्मी को कमरे में आते देखकर 99.9% बच्चे रोने या पॉटी करने लग जाते थे और उन्हें तुरंत अटेंशन की जरूरत होती थी।

हम अपने बच्चों के सुरक्षा कवच हैं

kids behave worse when mum is in the room

Both my boys when younger (oldest on the left, youngest on the right) would demand to be carried and not put down for the longest time, the moment I walked into the room. I now know this was their way of telling me how much they missed me and love me.

हमारे बच्चे जैसे ही हमें देखते हैं उन्हें सुरक्षा का एहसास होता है और अपने अच्छे बर्ताव को भूल जाते हैं। दूसरे शब्दों में कहें तो बच्चों को पता होता है कि वो अपनी समस्याओं को लेकर आपके पास आ सकते हैं।

उनकी कुछ भी शिकायत हो सकती है जैसे उनकी बहन पसंदीदा खिलौने लेकर चली गई, उनके पैरों में दर्द हो रहा है और आप उनके पैर दबाएं (जाहिर है वो लगातार कॉफी टेबल पर डांस कर रहे थे)। आप सभी डियर मम्मी अपने बच्चों की सुरक्षा कवच होती हैं। वो शिकायत, दर्द, नखरे सभी आपके सामने करते हैं और अगर ये सब वो आपके साथ नहीं करेंगे तो किसके साथ करेंगे?

kids behave worse when mum is in the room

Your baby loves you and feels secure enough in your presence to let it all out when he sees you.

इसलिए अगली बार आप भले ऑफिस से कितना भी थक कर वापस घर आएं और आपका बच्चा आपको देखते ही हंसने या गले लगाने की जगह रोने लगे या नखरे दिखाए तो ये बात याद रखिएगा।

हो सकता है कि आपके बच्चे का दिन भी अच्छा ना रहा हो वो भी आपके बिना, उसके सबसे फेवरिट इंसान के बिना जिसे वो दुनिया में सबसे ज्यादा चाहता है।

वो पूरा दिन अकेले सिपाही की तरह रहता है और अब वो आपकी बाहों में है और अब वो आपकी गोद में है, बिल्कुल फ्री जहां वो अपने भावनाएं शेयर कर सकता है। उसे पता है कि आप भी उससे बहुत प्यार करती हैं। 

और आप अपने दिल की गहराई से जानती हैं कि आपके पास कोई अन्य तरीका नहीं है।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें  

Hindi.indusparent.com द्वारा ऐसी ही और जानकारी और अपडेट्स के लिए  हमें  Facebook पर  Like करें