भारतीय स्टाइल में खाना बनाने के लिए बेस्ट हैं ये 10 तरह के तेल

हमारे यहां सब्जी में तड़का लगाने से लेकर कचौड़ियां तलने तक में भारतीय माएं माहिर होती हैं। कोई भी खास मौका या कोई भी खास व्यंजन हो इसमें तेल का महत्व होता है

हमारे यहां सब्जी में तड़का लगाने से लेकर कचौड़ियां तलने तक में भारतीय माएं माहिर होती हैं। कोई भी खास मौका हो और कोई भी खास व्यंजन हो इसमें तेल का महत्व होता है
आज के समय में हर कोई अपने स्वास्थ्य को लेकर अधिक सजग और डरा हुआ रहता है इसलिए माओं का चिंतित होना स्वभाविक है कि खाना बनाने के लिए किस तरह के तेल का इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

हालांकि रिर्सच में ये पढ़ना काफी मजेदार होता है कि कैसे Mediterranean फिट रहने के लिए ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल करते हैं। सच्चाई ये है कि किसी भी व्यंजन में तेल इस्तेमाल करने से पहले ये जान लें क्या भारतीय स्टाइल में खाना बनाने की पद्धति के लिए ये सही है या नहीं।

भारतीय स्टाइल में खाना बनाने के लिए 10 हेल्दी तेल

हमारे खाना बनाने की पद्धति और खाने के तरीके के अनुसार हमने रिर्सच किया और टॉप 10 हेल्दी कुकिंग ऑयल के बारे में पता किया जो हमारे खाना बनाने के तरीके के लिए बेस्ट हैं।

1.नारियल तेल

शायद ही कोई भारतीय हो  जो नारियल तेल का इस्तेमाल त्वचा या बालों के लिए ना करता हो लेकिन क्या आपको पता है कि नारियल तेल साथ ही खाना बनाने के लिए भी बेस्ट माना जाता है। यहां तक कि दक्षिण भारत में ज्यादातर नारियल तेल का इस्तेमाल किया जाता है।

नारियल तेल में सैचुरेटेड फैट होता है जो अच्छे कोलेस्ट्रॉल अथवा HDL को शरीर में बढ़ाता है।ये अधिक तापमान में खाना बनाने के लिए बेहतर है जो ज्यादातर हमारे देश में होता है।

2.मूंगफली का तेल

कई पीढ़ियों से मूंगफली का तेल हमारे देश में पॉपुलर है और अब एक बार फिर चलन में आ रहा है। मूंगफली के तेल में मोनोसैचुरेटेड और पोलीसैचुरेटेड फैट होते हैं। ये डीप फ्राई के लिए अच्छे होते हैं और खासकर अगर आप ट्रीट स्पेशल खाना बना रहे हैं तो इसका इस्तेमाल कर सकते हैं जैसे बच्चों के लिए फ्रेंच फ्राइज आदि बनाना हो।

3. राई का तेल

इसे सबसे हेल्दी खाने का तेल माना जाता है क्योंकि ये संतृप्त सैचुरेटेड होता है। ये राई के पौधे के बीज से बनता है और इसमें ओमेगा 3 अधिक मात्रा में पाई जाती है। खाना बनाने के लिए इसे मध्यम तापमान की जरुरत है और तलने, बेक करने, पकाने के लिए अच्छा माना जाता है।

4. सरसो का तेल

vegetable oil

कई भारतीय घरों में खाना सिर्फ सरसो तेल में बनता है। इसके कई फायदे होते हैं और साथ ही ये इम्यूनिटी भी बढ़ाता है।  कई भारतीय व्यंजन जैसे भिंडी सरसो तेल में बनाया जाता है और स्वाद भी बहुत ही अच्छा होता है।

5. राइस ब्रेन ऑयल

ये बाजार में नया जरुर है लेकिन इसकी सबसे बडी खासियत है कि ये कोलेस्ट्रॉल को कम रखता है। ये मोनेसैचुरेटेड Fatty Acid होता है जो कोलेस्ट्रॉल कम करता है। इसका स्वाद अच्छा होता है और अधिक तापमान पर बनता है।

6. सोयाबीन तेल

अगर आप दिल से जुड़ी बीमारियों से दूर रहना चाहते हैं तो ये सबसे अच्छा तेल माना जाता है। सोयाबीन के तेल में पोली और मोनोसैचुरेटेड फैट होता है जिसमें ओमेगा 3 भी होता है। ये भारतीय कुकिंग के लिए काफी हेल्दी विकल्प है।

7. घी

कहने की जरुरत नहीं है कि घी कितना हेल्दी माना जाता है। कई भारतीय मानेंगे कि ये सबसे स्वादिष्ट विकल्प भी है। यहां तक कि ये भी कहा जाता है कि अगर एक्टिव लाइफस्टाइल के साथ इसे अपनाया जाए तो इससे वजन भी कम होता है।

ये पाचनतंत्र के लिए खासकर काफी अच्छा होता है। इसके कई फायदे होने के कारण इसे बच्चों के डाइट में जरुर शामिल करना चाहिए।

8. अलसी का तेल

एक और तेल जो धीरे-धीरे बाजार में अपनी जगह बना रहा है वो है अलसी का तेल। अलसी के तेल में ओमेगा 3 फैटी एसिड पाई जाती है जो हृदय के लिए भी काफी हेल्दी होती है। ये कोलिलटिस से बचाती है।

9. सूरजमुखी का तेल

सूरजमुखी से निकले इसके बीज में विटामिन E काफी प्रचुर मात्रा में पाई जाती है। इस तेल मोनोसैचुरेटेड और पोलीसैचुरेटेड फैटी एसिड पाया जाता है। इसका स्मोकिंग प्वाइंट हाई होता है और इसलिए आप इसका इस्तेमाल डीप फ्राई जैसे पूरी या समोसा तलने के लिए कर सकते हैं।

10. तिल का तेल

ये डायबिटीज के लिए खासकर काफी अच्छा माना जाता है। आप नोट कर सकते हैं कि तिल दो रंगों में आता है लेकिन गहरे रंग का तिल एशियन खानों के लिए अधिक अच्छा होता है लेकिन हल्के रंग का तिल भारतीय व्यंजन के लिए अच्छा होता है।

इसमें विटामिन B6 पाया जाता है और इसके साथ ही कैल्शियम और मैग्निशियम भी प्रचुर मात्रा में होता है।