भारतीय बच्चों में Porn देखने की लत और Child Abuse के मामलों में खतरनाक वृद्धि हुई है। -Childline

महिला और बाल विकास मंत्रालय के साथ मिलकर संकट में पड़े बच्चों के लिए 24 घण्टे चलने वाली हेल्पलाइन चाइल्डलाइन के मुताविक आज भारत के बच्चों में सबसे बड़ा डर पोर्न देखने की लत को लेकर और बच्चों में बढ़ते यौन शोषण के मामलों को लेकर है ।

Shocking खुलासे

चाइल्डलाइन इंडिया फाउंडेशन ने पिछले हफ्ते ही अपने 15 साल पुरे कर लिये। संस्था बताती है की ये खतरनाक ट्रेंड है जहाँ पोर्न देखने के बाद बच्चे एक दुसरे को abuse करते हैं उस पोर्न वीडियो को सच में देखने की लालच में। ऐसे कुछ मामले भी आये हैं जहाँ बड़े भाई ने छोटे सिबलिंग पर, आस पड़ोस के बच्चों पर, स्कूल या हॉस्टल में ओरल सेक्स के लिए दबाव बनाया हो, और अगर वो मना करें तो उन्हें चिढ़ाया जाता है।

पुणे में 15 सालों तक काम करने वाली संस्था दन्यना देवी चाइल्डलाइन की डायरेक्टर अनुराधा सहस्रबुद्धे बताती हैं की ये बहुत शॉकिंग है की डेढ़ साल के बच्चों से लकर 18 साल के बच्चे तक यौन शोषण के शिकार हैं । ज्यादातर ऐसी बुरी हरकत करने वाले पिता, टीचर या स्पोर्ट्स कोच आदि होते हैं ।बच्चों के साथ होनेवाली असंवेदनशील घटनाएं, उनके अधिकारों का हनन,  सबसे बड़ी चुनौती रही है ।

वो आगे बताती हैं "पिछले 15 सालों में मामलों की गंभीरता बढ़ी है, ऐसे भी कई मामले आये जहाँ हमें और भी कई हेल्पलाइन के साथ मिलकर बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी पड़ी।  बच्चों के खिलाफ बढ़ती घँटनाएं अब बहुत ज्यादा शॉकिंग हो गयी हैं जिनका मुख्य कारण इंटरनेट, मोबाइल फ़ोन आदि हो सकता है । इससे भी खराब ट्रेंड है फॅमिली का टूट जाना और बच्चे को एक पंचिंग बैग की तरह इस्तेमाल करना। कई बार पेरेंट्स खुद ही ऐसी घटनाओं के कारण बन जाते हैं।"

इन warning signs पर ध्यान दें ।

हालांकि पेरेंट्स के लिए बच्चों का यौन शोषण के बारे में ज्यादा चिंता करना ठीक नहीं हज लेकिन हाँ खुद को ऐसा न होने देने के लिए तैयार करना भी बहुत जरूरी है। ये हैं वो कुछ संकेत जिससे आपको पता चल जाएगा की बच्चे का यौन शोषण हुआ है या नहीं या उसे प्रताड़ित किया गया है या नहीं ।
  • डरावने सपने आना या sleep disorder
  • वर्ताव में अचानक बदलाव आना
  • अकेले रहने में या किसी अनजान व्यक्ति या बच्चे के साथ रहने में डर लगना
  • खाने की आदतों में बदलाव
  • सही शब्दों का प्रयोग न करना, खिलौनों के साथ अजीब बर्ताव करना
  • शारीरिक संकेत,मुँह या गुप्तांगों के पास छाले पड़ना
बच्चे को यौन शोषण के बारे में कैसे बताएं
  • शुरुवात से ही बच्चे से बात करते रहें, शरीर के अंगों के बारे में बात करें ताकि अगर उसके साथ कुछ बुरा हुआ हो तो वो आपसे खुल के बता सके । उसे good touch और bad touch के बारे में और "underwear rule" के बारे में भी बताएं ।
  • इसके अलावा बच्चे से खुलकर बात करें और उसे प्रेरित करें की वो अपनी डेली एक्टिविटी आपके साथ शेयर करे । और जब वो बताएं तो उनपर कभी हंसे नहीं वरना हो सकता है की आगे वो आपसे कुछ भी शेयर करने से हिचकिचाएं ।
  • कभी भी बच्चे को ऐसे लोगों के साथ न छोड़ें जिनपर आपको विश्वास नहीं है, फिर चाहे वो आपका कितना ही करीबी क्यों न हो । अपने दिल की बात मानें, उसकी सुनें ।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें  

Hindi.indusparent.com द्वारा ऐसी ही और जानकारी और अपडेट्स के लिए  हमें  Facebook पर  Like करें