बेबी के कानों को साफ करते वक्त इन बातों का रखें ख्याल

lead image

यहां हम कुछ टिप्स दे रहे हैं जो Cambridgeshire Community Services NHS Trust ने ध्यान में रखने की सलाह दी है।

मेरी दादी कहती थीं बच्चे साफ सुथरे अच्छे लगते हैं। मेरी मां कहती हैं हर किसी को सफाई के साथ रहना चाहिए।

वो लोग गलत नहीं हैं। लेकिन जब बात कानों की सफाई की होती है तो आप उन्हें छोड़ दें। मेरा विश्वास कीजिए मैं एक डॉक्टर हूं।

लेकिन फिर भी अगर आपको मुझ पर विश्वास नहीं है तो यहां health information leaflet by the National Health Services, UK. इसमें बड़े बड़े अक्षरों में लिखा गया है कि कान में कुछ भी डालने से बचें। आप बोलेंगे लेकिन कान में मैल जमा हो जाते हैं। चलिए समझते हैं क्या है आखिर ये मामला।

कान की बनावट

सभी जानते हैं कि कान सुनने के लिए मुख्य अंग होता है। कानों के पीछे की हड्डी से भी कोई सुन सकता है। लेकिन इसके लिए Hearing Aid की जरूरत नहीं होती है जो एक आर्टिकल में समझाया नहीं जा सकता है। कान का जो हिस्सा आपको दिखाई देता है उसे बाह्य कान कहते हैं। इसकी तुलना आप कीप से भी करते हैं। ये कान के अंदर तक जाने वाली आवाज को संकेद्रित करता है। यहां एक छोटा सी नलिका होती है जो लगभग 15-24 MM लंबी होती है और व्यस्कों में 25 MM तक भी इसकी लंबाई होती है।

ये बच्चों में बिल्कुला सीधा होता है लेकिन बड़ा होने के बाद इसमें घुमाव आ जाता है। वहां एक जगह होती है और जैसे जैसे आप बड़े होते हैं वहां आप कान का मैल देख पाते हैं। जैसे जैसे बच्चे बड़े होते हैं वो अपनी कानों को लेकर कई तरह बातों की कल्पना करने लगते हैं (जब मैं 4 साल का था तो मैंने एक बॉल कान में डाल लिया था। मेरी मां दो अलग अलग डॉक्टर के पास लेकर गई थी। दूसरे डॉक्टर ने एक स्मार्ट चुंबक का इस्तेमाल किया और उसे निकाला।) ये आपके बच्चों की क्रिएटिविटी को बढ़ावा देने के लिए नहीं है। ये सिर्फ इसलिए है कि बच्चे ऐसी बेवकूफी करते हैं।

कान की नली कुछ महीनों के बाद ही एक पतली झल्ली से अलग हो जाती है जिसे ईयर ड्रम कहते हैं। जब आवाज यहां टकराती है तो कान हिस्सा बिल्कुल ड्रम की तरह हिलता है । वहां दो  हड्डियां होती हैं जो इससे जुड़ी हुई होती हैं और चेन बनाती हैं। जैसे ही आवाज ईयर ड्रम से टकराती है तो या तो वहीं खत्म हो जाती है या अंदर बिल्कुल वाइब्रेशन लाती है।

कहां कान में मैल जमा होता है?

आप इसे माने या ना मानें लेकिन कानों में जमा गंदगी असल में अच्छे होते हैं। ये कान की नली को साफ रखते हैं और अंदर नहीं जाते। ये कान की नली के कारण ही बनते हैं और जबड़े की गतिविधी के कारण धीरे धीरे अंदर जाते हैं। ये सारी गंदगियों को जमा कर लेता है ताकि कान की नली साफ रहे। ये कुछ दिनों के बाद खुद ब खुद साफ निकल जाते हैं। ये गंदे जरूर लगते हैं लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि हर तुरंत छुटकारा पाया जाए।

क्या नहीं करना चाहिए

यहां हम कुछ टिप्स दे रहे हैं जो Cambridgeshire Community Services NHS Trust ने ध्यान में रखने की सलाह दी है।

क्या करें

    1. अगर बाह्य कान में गंदगी है तो इसे कपड़े को गीला कर साफ करें। साबुन का इस्तेमाल करने से से बचें साबुन से अंदर जमा गंदगी को साफ कर सकते हैं जिससे कान कई अनचाहे तत्वों की चपेट में आ सकते हैं।
    2. अगर आप बेबी के कान को साफ करना चाहती हैं तो एक गीले कॉटन के टुकड़े को लें। साबुन का इस्तेमाल ना करें।
    3. हमेशा सफाई के बाद कान को अच्छे से पोछ ले करें।

 

src=https://sg.theasianparent.com/wp content/uploads/2017/05/Ear anatomy.jpg बेबी के कानों को साफ करते वक्त इन बातों का रखें ख्याल

क्या ना करें

सबसे पहले तो कान की सफाई जब तक बहुत जरूरी ना हो ना करें

  1. गंदगी को ऊंगलियों से साफ ना करें।
  2. कॉटन बड कान में ना डालें
  3. कोई भी शार्प वस्तु कान में ना डालें।

अगर आप ऐसा करते हैं तो आप खतरा मोल रहे हैं। आप ये करके गंदगी और भी अंदर की ओर धक्का दे सकते हैं जिससे इंफेक्शन होता है। इस हालात में किसी कान के विशेषज्ञ से भी उपचार करवाने की नौबत आ जाए। अपने निजी अनुभवों से कहूं तो ये बेबी के लिए अच्छा नहीं है।

तो फिर नॉर्मल क्या है?

यहां तक की अगर आपको काली गंदगी भी नजर आए तो ये नॉर्मल है, जब तक कि इससे गंध ना आए।कान में कोई इंफेक्शन की वजह से डिस्चार्ज भी हो सकता है इसलिए अगर आपको बेबी के कानों में कुछ भी ऐसा देखें तो तुरंत कानों के विशेषज्ञ डॉक्टर के पास लेकर जाएं।

  1. किसी भी तरह का डिस्चार्ज: चिपचिपा सा पदार्थ या बदबूदार हरी गंदगी
  2. अगर खून दिखे
  3. चोट के निशान
  4. कोई बाहरी चीज
  5. कानों से कुछ अजीब बदबू आना।

क्या मैंने आपके बताया कि नाक और कान अंदर ही अंदर जुड़े भी होते हैं?

मॉम डैड मेरी इस दरख़ास्त को फिर से मान लें कि बेबी के कानों को तब तक साफ ना करें जब तक कि इससे थोड़ी अजीब से गंध ना आने लगे।

अगर आपके पास कोई सवाल या रेसिपी है तो कमेंट सेक्शन में जरूर शेयर करें।

Source: theindusparent