बहू ऐश्वर्या राय के पापा की मृत्यु... ससुर अमिताभ बच्चन ने लिखा इमोशनल मैसेज

सोशल मीडिया पर अमिताभ बच्चन ने लिखा कि मृत्यु का केवल एक ही अंत होता है ... और शब्द उसे बयां नहीं कर सकते।

ऐश्वर्या राय के पापा की लंबी बीमारी के बाद मृत्यु हो गई। 78 वर्षीय कृष्णाराज लीलावती अस्पताल में काफी लंबे समय से थे और 18 मार्च को आखिरी सांस ली। उनकी मृत्यु परिवार के लिए काफी दुख भरी खबर है। खबर आने के थोडे देर बात ही अमिताभ बच्चन ने काफी इमोशनल ट्वीट किया।

सोशल मीडिया पर अमिताभ बच्चन ने लिखा कि मृत्यु का केवल एक ही अंत होता है ... और शब्द उसे बयां नहीं कर सकते 

 

अमिताभ बच्चन अपने बेटे और बहु के साथ अंतिम संस्कार में  शामिल हुए।अमिताभ बच्चन ने अपने ब्लॉग में भी मृत्यु पर लिखा।

अमिताभ ने अपने ब्लॉग में लिखा, "मौत एक ऐसी कॉल है जो आती ही है... और जाने वाले की यादें हमारे दिमाग में छोड़ जाती है." उन्होंने आगे लिखा, "जिंदगी के अंतिम सत्य और आखिरी मंजिल का अपना दुख है, इसके रीति रिवाज, परंपराएं, दुख की घड़ी में सांत्वना देने के लिए आने वाले लोग... अंतिम संस्कार...क्या कहें, क्या करें..." अपने ब्लॉग के अंत में अमिताभ ने लिखा, "इन सबमें सबसे सुखी जाने वाला ही होता है... शायद इसलिए कि वह स्वर्ग की बाहों में शांति की अनुभूति कर सकता है।"

अमिताभ बच्चन ने ऐश्वर्या राय के पिता की मृत्यु पर एक और ट्वीट कर लिखा कि "हाथ जोड़कर मेरा नमस्कार और धन्यवाद , जिन्होंने ऐश्वर्या के पिता के देहांत पे अपनी प्रार्थनाएं भेजीं"

 

ऐश्वर्या राय के पिता काफी समय से बीमार थे

काफी समय से ऐश्वर्या राय के पिता बीमार थे और इसके बारे में ज्यादा कुछ नहीं गया है। बाद में लीलावती हॉस्पिटल के चीफ एक्जक्युटिव ने मीडिया से जानकारी शेयर की।

 

A post shared by ETimes (@etimestoi) on

डेक्केन हेरार्लड से बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि कृष्णाराज असल में Lymphoma Cancer से पीड़ित थे। इसकी वजह से उनके सभी अंग काम करना बंद चुके थे।  लीलावती के चीफ  एक्जक्यूटिव ने बताया कि "वो Lymphoma से पीड़ित थे जो ब्रेन तक फैल चुका था"। ऐश्वर्या राय से जुड़े सुत्रों की माने तो ऐश्वर्या शुरू से अपने पापा के साथ रहीं चाहे रात में अस्पताल में रुकना हो उनकी देखभाल करनी हो।

ऐश्वर्या राय के करीबी शख्स ने कहा था कि "ऐश्वर्या राय इन दिनों काफी तनाव में रहती हैं और अस्पताल में अधिकतर समय उनका बीतता है"।

ये बात बिल्कुल सच है कि अपनो को खोना और इस सच्चाई से गुजरना काफी मुश्किल होता है। इस समय ऐश्वर्या और उनका परिवार मुश्कल घड़ी में है। इस हालात में अपनी 5 साल की बेटी को संभालना भी काफी बड़ा चैलेंज है।

3 तरह से बच्चों को किसी की मृत्यु के बारे में बताएं

  • ईमानदार रहें  - 5 साल की उम्र में बच्चे समझना शुरू कर देते हैं कि हर किसी का अंत समय आता है। इसलिए हमेशा ईमानदार रहें और उन्हें सच बताएं कि क्या हुआ है और वो कभी लौटकर वापस नहीं आएंगे। आपको हमेशा खुलकर बात कर अपनी भावनाओं को व्यक्त करना चाहिए कि आप दुख में है। 
  • सुनिए और उन्हें सहज रखिए - आपकी ही तरह बच्चों को भी जब ऐसी कोई खबर का पता चलेगा तो वो उन्हें इससे बाहर निकलने में समय लगेगा। उन्हें थोड़ा वक्त दें। उन्हें कहें कि आप हमेशा उनके साथ हैं। आप अपनी भावनाएं उनके साथ व्यक्त करें। उनकी इससे जुड़े रीति रिवाजों के बारे में भी बताएं। 
  • उनके साथ बिताए अच्छे पलों को याद दिलाएं - किसी भी अपने को खोना बहुत बड़ा झटका होता है। उनके साथ बिताए अच्छे पलों को याद दिलाएं ताकि उनके चेहरे पर हंसी आए।

 

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent