बहादुर एंकर ने लाइव टीवी पर पढ़ी पति की मौत की खबर...

lead image

रोज की तरह ही टीवी न्यूज एंकर सुप्रीत कौर सुबह की खबरें पढ़ रही थी और अचानक ...

एक पत्रकार के तौर पर मैं कह सकती हूं हम कई मौत की खबरें रिर्पोट करते हैं। दुर्घटना तो साथ ही कई और भी दिल दहलाने वाली खबरें आते रहती है और ये हमारे लिए रोज का काम हो जाता है। धीरे धीरे हम इन खबरों से निर्भिक हो जाते हैं।

लेकिन आप सोच भी नहीं सकते कि कभी कभी जो खबर आप आप बना रहे हैं या रिर्पोटिंग कर रहे हैं वो आपके खास लोगों के भी हो सकते हैं। जी हां यही छत्तीसगढ़ के एक एंकर के साथ हुआ जिन्हें अपने पति की खबर लाइव एंकरिंग के दौरान पता चली।

लेकिन फिर वो अपने काम को करने से नहीं रूकी बल्कि उस खबर को खत्म करने तक पढ़ते रहीं जबकि उन्हें पता चल चुका था कि उनके पति की घटनास्थल पर मौत हो चुकी है।

कैसे हुआ हादसा?

रोज की तरह ही टीवी न्यूज एंकर सुप्रीत कौर सुबह की खबरें पढ़ रही थी और अचानक एक ब्रेकिंग दुर्घटना से जुड़ी आती है जिसमें तीन लोगों की मौत और दो घायल हो चुके हैं। जब रिर्पोटर फोन पर इस घटना की जानकारी दे रहा होता है एंकर सुप्रीत को पता चल जाता है कि मृतकों में एक उनके पति हर्ष कावाडे भी हैं।

IBC 24 के एडिटर एन चीफ रविकांत मित्तल ने कहा कि कुछ सेकेंड के लिए उनकी आवाज लड़खड़ाई लेकिन उन्होंने हिम्मत जुटाकर पूरी खबर पढ़ी और अगले 10 मिनट तक बुलेटिन खत्म कर स्टूडियो से बाहर निकलीं।

उनके पति पिथौड़ा के लिए भिलाई से निकले थे। जिस समय रिर्पोटर ने सूचना दी कि कार रिनॉल्ट डस्टर है उन्हें लगभग समझ आ गया कि उनके पति की कार दुर्घटनाग्रस्त हुई है। यहां हम आपको उस ब्रॉडकास्ट की क्लिप दिखा रहे हैं।

IBC 24 की उनकी सहयोगियों का कहना है कि ये उनके लिए काफी कठिन फैसला था और हमारे लिए इस खबर को शेयर करना भी उतना ही कठिन था। वो शांत रही और पूरे आधे घंटे का राउंडअप खत्म किया। वो काफी बहादुर महिला हैं।हमें उनपर गर्व है लेकिन आज जो हुआ उससे हम शॉक्ड हैं।

सुप्रीत कौर का दुख बुलेटिन के बाद ही सामने आया और फिर उन्होंने परिवार को इसकी सूचना दी। सुप्रीत कौर और हर्ष कावड़े की पिछले साल शादी हुई थी और भिलाई में रहते थे।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमण सिंह ने भी सुप्रीत कौर के जज्बे की तारीफ की। उन्होंने कहा कि मैं सुप्रीत के हिम्मत और पति के मृत्यु के बाद भी उन्होंने जाबांज और प्रोफेशनल रवैया दिखाया मैं उन्हें सलाम करता हूं।उनके पति की आत्मा को शांति मिले

अपने प्रियजनों की मृत्यु से कैसे खुद को संभालें

अपने प्रियजनों की मृत्यु हमेशा दुखदायी और अंदर तक झकझोर देती है। इससे बाहर निकलना काफी मुश्किल होता है। जानिए कैसे आप इससे बाहर निकल सकते हैं।

  1. समय लीजिए : किसी की मृत्यु बहुत बड़ी क्षति होती है। इसलिए आप अपना समय लीजिए और भावनाओं को दबाने की कोशिश मत कीजिए और जब तक दिल और आपको शांति ना मिले दुख मना लें।
  2. खुद के प्रति संवेदनशील रहें : कई बार हम इस पर विश्वास ही नहीं करना चाहते और खुद को किसी ना किसी तरह से दोष देते हैं। सच्चाई को स्वीकारें और इससे निकलने के लिए पूरा समय लें।
  3. मदद :  कई बार लोग इस तरह के हालात में अकेले रहना पसंद करते हैं।लेकिन बेहतर होगा कि अपनी भावनाओं को निकल जाने दें, दोस्तों और परिवार की मदद लें खासकर जब पूरी तरह से शोक समारोह खत्म हो जाए। आप जितना अपनी भावनाएं शेयर करेंगे आपको उतना अच्छा लगेगा।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent