बच्चों के लिए भाग्यश्री ने छोडा करियर..कैसे कर पाईं इतना कुछ

lead image

"मेरे पास दो विकल्प थे कि मैं फैमिली या करियर में कोई एक का चुनाव करुं..."

90 के दशक की सुपरहिट फिल्म मैंने प्यार किया की शर्मीली सुमन तो याद होगी । अपने करियर के टॉप पर उन्होंने फिल्मी करियर छोड़कर शादी कर ली और ताकि फैमिली को समय दे सकें।

मैंने प्यार किया के रिलीज के 27 साल के भी भाग्यश्री उतनी ही खूबसूरत लगती हैं और पहले से ज्यादा ही फिट लगती हैं। वो दो खूबसूरत बच्चे अभिमन्यु और अवंतिका की मां हैं।भाग्यश्री का कहना है कि उनके बच्चे उन्हें फिट और यंग रखते हैं और समय के साथ बदलने में मदद करते हैं।

Theindusparent ने भाग्यश्री से बात की, आप भी पढ़िए उनका इंटरव्यू

1.मैंने प्यार किया रिलीज हुए 27 साल हो गए, आज कैसा लगता है? क्या आपको किसी तरह का पछतावा होता है?

जिस तरह से लगाता लोगों का प्यार मिला और मिल रहा है ऐसा लगता है जैसे ये सब कल की बात हो। सबों के दिलों मेरे लिए आजतक प्यार है।

इतनी बड़ी हिट के बाद मुझे लगातार काफी ऑफर मिले और इतने ऑफर के बाद किसी की भी जिंदगी का संतुलन बिगड़ सकता था। मेरे पास दो विकल्प थे कि मैं फैमिली या करियर में कोई एक का चुनाव करुं और मैंने प्यार चुना। मुझे कुछ ऐसा नहीं करना था जो मेरे और पति के बीच में। मेरे लिए प्यार और कमिटमेंट सबसे जरुरी था। अगर मेरे जेहन में कभी ख्याल आया भी तो वो बेटे अभिमन्यु के जन्म के बाद हमेशा के लिए खत्म हो गया। मेरी दुनिया मेरी बाहों में हैं

src=https://www.theindusparent.com/wp content/uploads/2017/02/Bhagyshreeinside.jpg बच्चों के लिए भाग्यश्री ने छोडा करियर..कैसे कर पाईं इतना कुछ

मैंने अपने बच्चों को बड़ा होते देखा है और हर पल को इंज्वॉय किया है। मैं उनके साथ कराटे, स्वीमिंग, डांसिंग, पियानो हर क्लास में उनके साथ रही। उनके लंच लेकर स्कूल गई। उनकी अच्छी बर्थडे पार्टी प्लान करना, उनके साथ खेलना, सभी त्योहार उनके साथ मनाना और उन्हें इससे जुड़ी परंपराओं के बारे में बताना मैंने सबकुछ इंज्वॉय किया है।

मेरे लिए वही सबकुछ हैं। आज जब मेरे बच्चे मेरा हाथ पकड़कर कहते हैं कि “मॉम हमें आप पर नाज़ है कि आपने हमारे लिए क्या छोड़ा है तो लगता है मुझे जो पाना था वो मैंने पा लिया।”

2.आपकी इंस्टाग्राम तस्वीरों को देखकर लगता है कि उम्र आपके लिए नंबर से ज्यादा कुछ नहीं है। आप इतनी यंग और रिफ्रेश कैसे दिखती हैं?

30 के बाद बिना मेहनत के कुछ नहीं मिलता। No diet but eat right और वर्कआउट जरुरी है। मेरा बच्चों से लागातर जुड़े होने के कारण मैं मानसिक रुप से तो ज्यादा यंग हूं। उनके साथ समय बिताने की वजह से मुझे तकनीक, फैशन और लाइफ के अलग अलग फंडो के बारे में पता चलते रहता है।

3. आप अपनी फिगर के कारण सुर्खियों में रहीं। क्या आप हमारे साइट से जुड़ी मांओ को कुछ सुझाव देना चाहेगी?

src=https://www.theindusparent.com/wp content/uploads/2017/02/Bhagyashree yoga.jpg बच्चों के लिए भाग्यश्री ने छोडा करियर..कैसे कर पाईं इतना कुछ

सबसे ज्यादा जरुरी है कि आप हमेशा यंग रहें। मैं जब खाती हूं तभी बैठती हूं या जब मैं अपना ब्लॉग ( लिख रही होती हूं वरना मैं कुछ ना कर रही होती हूं। मेरे ब्लॉग में मैं हमेशा न्यूट्रिशन और वर्कआउट की बातें करती हूं कि कैसे घर में भी आसान व्यायाम किए जा सकते हैं। मैं वीडियो भी हमेशा शेयर करते रहती हूं और जहां तक न्यूट्रिशन की बात है मैं जल्द ही अपना हेल्प सेंटर खोलते रहती हूं।

4. कहा जा रहा है कि आपके बेटे अभिमन्यु जल्द ही बॉलीवुड में एंट्री ले सकते हैं।आप उसे क्या नसीहत और टिप्स देना चाहेंगी।

src=https://www.theindusparent.com/wp content/uploads/2017/02/Screen Shot 2017 02 06 at 2.55.59 pm.png बच्चों के लिए भाग्यश्री ने छोडा करियर..कैसे कर पाईं इतना कुछ

फिल्ममेकिंग में सबकुछ सीखने की कला होनी चाहिए। आप जितना इसके बारे में और लोगों को जानेंगे आपका सफर उतना ही मजेदार होगा। हमेशा इसे दिलचस्प बना कर रखना चाहिए।

5. मां बनने के बाद एक इंसान के तौर पर आप कितना बदलीं? क्या तीन बातें आपने अपने बच्चों के पालन पोषण के दौरान सीखी?

मां बनने के बाद मेरी पूरी दुनिया बदल गई, मेरी जिंदगी बदल गई। मैंने हरपल इसे इंज्वॉय किया। हम हमेशा अपने बच्चों से जिंदगी के हर पड़ाव में कुछ ना कुछ सीखते हैं। बच्चों की वजह से हम जमीन से जुड़े रहते हैं। वो हमें दिखाते हैं ये जिंदगी कितनी खुशियों और मस्ती से भरी होती है। ये सिखाती है कि हर कुछ को ज्यादा गंभीरता से लेने की जरुरत नहीं है। जिंदगी आगे बढ़ने, सीखने और बदलने का नाम होती है अगर आप वाकई हमेशा यंग दिखना चाहते हैं। सच बताउं तो वो मेरी जिंदगी हैं।

6. पैरेंटिंग काफी चैलेंजिग टास्क है। कुछ टिप्स जो आप नयी मांओ को देना चाहेंगी खासकर जो बेटे की मां हैं?

src=https://www.theindusparent.com/wp content/uploads/2017/02/Bhagyashreeinside.jpg बच्चों के लिए भाग्यश्री ने छोडा करियर..कैसे कर पाईं इतना कुछ

उन्हें सिखाइए कि नारीवाद का झंडा उठाना Gender Equality (लिंग समानता) नहीं है। जिंदगी में औरतों की अहमियत को पहचाने और इज्जत करें। उन्हें कम उम्र से ये शिक्षा दें ताकि ये दुनिया अच्छी हो सके।

 

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent