बच्चे के पेट दर्द की समस्या को ना करें इग्नोर...जानें कहीं ये अपेंडिक्स का संकेत तो नहीं

lead image

कई बच्चों को हर दो चार दिन बाद पेट में दर्द शुरु हो जाता है और तुरंत ठीक भी हो जाता है । इस रेग्युलर दर्द को ज्यादातर पैरेंट्स हल्के में लेते हैं या फिर इस शिकायत को बच्चे का बहाना भी मान लेते हैं

छोटे बच्चे अक्सर पेट दर्द की शिकायत करते हैं आमतौर पर जिसका कारण गैस या अपच हो सकता है । कई बच्चों को हर दो चार दिन बाद पेट में दर्द शुरु हो जाता है और तुरंत ठीक भी हो जाता है । इस रेग्युलर दर्द को ज्यादातर पैरेंट्स हल्के में लेते हैं या फिर इस शिकायत को बच्चे का बहाना भी मान लेते हैं । अगर वाकई दर्द हो तो आपको ये पता लगाना चाहिए कि बच्चे को पेट के किस हिस्से में दर्द हो रहा है और दर्द किस प्रकार का है ।

अगर निचले हिस्से में टीस उठने जैसा दर्द है और वहां सूजन के साथ जलन जैसा भी महसूस हो रहा है तो आपको सावधान हो जाना चाहिए क्योंकि यह अपेंडिसाइटिस की निशानी है ।

छोटी उम्र के कई बच्चे अपनी समस्या खुल कर बता नहीं पाते ऐसे में माता-पिता की जिम्मेदारी और बढ़ जाती है । दस वर्ष से कम आयु वाले बच्चे में इसके लक्षण को पहचान पाना थोड़ा कठिन होता है पर बेहतर है कि आपातकालीन परिस्थिति आने के पहले ही अपेंडिसाइटिस का ईलाज करवाया जाए ।

क्या होता है अपेंडिसाइटिस रोग

अपेंडिक्स हमारे आंत से जुड़ी एक थैली है जिसमें संकम्रण हो जाने के कारण अपेंडिसाइटिस हो जाता है । स्थायी अवस्था में अपेंडिक्स में धीरे-धीरे सूजन होती है । कभी-कभार दर्द हो कर बंद हो जाता है इस तरह यह रोग लंबे समय तक बना रहता है । जबकि तीव्र अवस्था में ये रोग एक से दो दिन में भी विकराल रुप ले सकता है । जब भी अपेंडिसाइटिस रोग का पता चल जाता है तो उस भाग को सर्जरी द्वारा हटा देना ही सुरक्षित विकल्प होता है ।

क्या हैं इस रोग के सामान्य लक्षण

src=https://hindi admin.theindusparent.com/wp content/uploads/sites/10/2018/01/ts 140611 child stomach ache 800x600 1.jpg बच्चे के पेट दर्द की समस्या को ना करें इग्नोर...जानें कहीं ये अपेंडिक्स का संकेत तो नहीं

दस वर्ष से कम आयु वाले बच्चे में इसके लक्षण को पहचान पाना थोड़ा कठिन होता है

चूंकि पेट दर्द गैस बनने जैसी कई अन्य कारणों से भी होता है इसलिए जब आप अत्यधिक दर्द महसूस करें तो उठ कर चलने की कोशिश करें । असहनीय पीड़ा के कारण ऐसा करना मुश्किल होगा अगर आप अपेंडिसाइटिस से ग्रसित होंगी ।

  • सामान्यतया अपेंडिक्स वाला दर्द नाभि के नजदीक हल्का सा शुरु होते हुए पेट के निचले दाहिने भाग तक पहुंच जाता है ।
  • पेट के निचले हिस्से को दबा कर छोड़ने से दर्द होता है तो अपेंडिक्स हो सकता है ।
  • अपेंडिक्स से पीड़ित व्यक्ति को भूख कम लगती है, पेट और पाचन तंत्र से संबंधित समस्याएं होती हैं जैसे कब्ज या दस्त के अलावा चक्कर भी आने लगता है।
  • पेशाब करने में दर्द हो, उल्टी करने के पहले भी पेट में दर्द हो रहा हो तो ये अपेंडिक्स के लक्षण हैं साथ ही पीठ में दर्द होना भी इसी ओर संकेत करते हैं ।
  • तेज बुखार (102 डिग्री से ऊपर) होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए ।
  • छोटे बच्चों में यह समस्या होने पर वो खाने से मना करते हैं और अधिक सोने लगते हैं । उन्हें वयस्क जितनी ही अधिक पीड़ा होती है ऐसे में तुरंत ही अस्पताल ले जाना चाहिए ।
  • प्रेगनेंसी के दौरान अपेंडिक्स का दर्द थोड़ा अलग स्थान पर होता है । हो सकता है कि पेट के ऊपरी हिस्से में भी दर्द का अनुभव हो क्योंकि गर्भावस्था में अपेंडिक्स सामान्य से ऊपर रहता है ।