बच्चियों का ‘मासिक घर्म’ और नवजात शिशुओं से जुड़ी चेतावनी कोई नहीं देता

lead image

आप कितना भी बच्चों के बारे में पढ़ लें लेकिन सच्चाई यही है कि हर बेबी अलग अलग तरह के होते हैं इसलिए चिंताएं भी अलग अलग प्रकार की होती हैं। जैसे कि क्या आपने सुना है कि छोटी बच्चियों में भी पीरियड्स की समस्या होती है?  इसे पढ़िए और जानिए कि नवजात शिशुओं से जुड़ी कई समस्याएं हैं जिसके बारे में कोई आपको आगाह नहीं करता है।

1. नवजात बच्ची को पीरियड्स आना

आप कई बार दो दिन की बच्ची के प्राइवेट पार्ट से सफेद गाढ़ा डिस्चार्ज होते देखा होगा। हो सकता है कि कभी आप डायपर में हल्का खून भी देख लें। लेकिन प्लीज ऐसा हो तो मत घबराइए।

कारण: प्रेग्नेंसी के दौरान, कई बार इस्ट्रोजेन लेवल बेबी के भ्रूण में बढ़ जाता है। ये हार्मोन गर्भाशय में एक लाइनिंग बना देते हैं। जब बेबी का जन्म होता है तो वो ये हार्मोन रिसीव नहीं करती है इसलिए ये रेखाएं खत्म हो जाती है और अंत में थोड़ा सा रक्तस्त्राव होता है।
विशेषज्ञ की सलाह: Dr Chan Poh Chong नेशनल यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल के हेड और सीनियर कंस्लेटेंट ने हमें बताया कि “ऐसा प्राय: नवजात बच्चियों के पहले सप्ताह में देखा जाता है। ये 2-3 दिन में ठीक हो जाते हैं और इसके लिए चिंतित नहीं होना चाहिए।“

2. दूध पीने के बाद हमेशा पॉटी करना

कुछ नवजात शिशु खासकर जो पूरी तरह मां के दूध पर निर्भर रहते हैं वो हमेशा दूध पीने के बाद थोड़ी पॉटी करते हैं।

पैरेंट्स की चिंता :  ये डायरिया ना हो? क्या बेबी को कोई संक्रमण तो नहीं?

इसका क्या मतलब: फीड करने के बाद हर बार पॉटी करना काफी कॉमन है खासकर नए जन्म लिए बच्चों में। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि मां का दूध जल्दी पच जाता है और ये दूध पीने के बाद पॉटी करना अच्छा संकेत भी होता है। इसका अर्थ है कि बेबी को सही मात्रा में दूध मिल रहा है। अगर बेबी का ये रूटिन एक सा है और तो आपको चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है।

विशेषज्ञ की सलाह:  डॉ चैन ऑपिन्स के अनुसार मां का दूध पीने वाले बेबी को ज्यादातर ढीली पॉटी होती है और ये उनके विकास के लिए अच्छा है। इससे बच्चों को पानी की कमी नहीं होती है।

3. हिचकी

src=https://sg.theasianparent.com/wp content/uploads/2017/05/new born worries.jpg बच्चियों का ‘मासिक घर्म’ और नवजात शिशुओं से जुड़ी चेतावनी कोई नहीं देता

क्या ये नॉर्मल है कि बेबी ज्यादातर समय हिचकी लेते रहते हैं?

पैरेंट्स की चिंता: कई बार बच्चे परेशान हो जाते हैं और यहां तक कि नींद से हिचकी की वजह से जाग भी जाते हैं।

इसका क्या अर्थ है:  छोटे बेबी हिचकी अधिक इसलिए लेते हैं क्योंकि डायाफ्राम में संकुचन बहुत तेजी से होती है वोकल कॉर्ड जल्दी बंद होते हैं। लगातार वोकल कॉर्ड जल्दी जल्दी बंद होने के कारण हिचकी की आवाज आती है।क्या आपको पता है कि बेबी गर्भाश्य में भी हिचकी लेते हैं।

विशेषज्ञों की सलाह: डॉ चैन के अनुसार हिचकी बच्चों को डॉयाफ्राम में संकुचन की वजह से होती है।इसका सबसे बड़ा कारण है बेबी का तेजी से दूध पीना। इसे रोकने का कोई प्रमाणित तरीका नहीं है लेकिन बेबी को धीरे धीरे दूध पिलाएं तो शायद बच्चे को आराम मिलेगा।

4. मां का दूध पीने पर भी छोटे बेबी को समय से पॉटी ना आना

कुछ छोटे बेबी सप्ताह में एक या दो बार पॉटी करते हैं।

पैरेंट्स की चिंता : क्या मेरे बेबी को कब्ज है?

इसका क्या अर्थ: कुछ बच्चे जो मां का दूध पीते हैं वो कई बार कई दिनों तक पॉटी नहीं करते। अगर बेबी समय से सही मात्रा में स्तनपान कर रहे हैं, उनका वजह बढ़ रहा है और बिना दर्द के पॉटी करते हैं तो आप बिल्कुल भी ना डरें।

विशेषज्ञों की राय: डॉ चैन के अनुसार जो बच्चे मां का नहीं बल्कि बाहर का दूध पीते हैं उन्हें कड़ी पॉटी होना आम समस्या है। जो बच्चे स्तनपान करते हैं वो हो सकता है एक दो महीने के बाद कुछ दिन के अंतराल में पॉटी करें। जब तक कि पॉटी बिल्कुल सॉफ्ट हो रही है और वो इस दौरान बेहद नॉर्मल दिख रहे हैं तब तक आप कोई चिंता ना करें।

5. रोने के दौरान सांस को रोक देना

src=https://sg.theasianparent.com/wp content/uploads/2017/05/new born worries 2.jpg बच्चियों का ‘मासिक घर्म’ और नवजात शिशुओं से जुड़ी चेतावनी कोई नहीं देता

ज्यादातर बच्चे अधिक रोने के दौरान अपनी सांस भी रोक देते हैं। कई बार तो वो अचेत अवस्था में चले जाते हैं।

पैरेंट्स की चिंता : उन्हें इस तरह से देखना काफी तनावपूर्ण है, पता नहीं क्या करें।

इसका क्या अर्थ है: बच्चे इरादतन अपनी सांस नहीं रोकते। वो इसपर पर खुद कंट्रोल नहीं कर सकते। ये ज्यादातर तब होता है जब बेबी गुस्सा, दर्द या डरा हुआ। ज्यादातर समय ये नुकसान नहीं पहुंचाता लेकिन अधिक लंबे समय के लिए हो तो रिस्क हो सकता है।

विशेषज्ञ की सलाह: डॉ चेन ने बताया कि कई बार बच्चे जब गुस्से में अधिक रोते हैं तो ऐसा हो जाता है। ज्यादातर बच्चे 2 या तीन साल में इस समस्या से गुजरते हैं।

अगर ऐसा लगातार हो और अचेतअवस्था में बच्चे चले जाएं तो बेहतर होगा कि एक बार डॉक्टर से कंसल्ट करें और पता करें कि ऐसा क्यों होता है।

अगर आपके पास कोई सवाल या रेसिपी है तो कमेंट सेक्शन में जरूर शेयर करें।

Source: theindusparent