पहले ही महीने में कुछ इस तरह पता करें कि आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं

हम आपको कुछ ऐसे लक्षणों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें पहचानकर आप शुरुआती तौर पर ही यह जान सकती हैं कि हैं कि आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं। पढ़िए आप भी...

मां बनना हर मां के लिए सबसे ज्यादा खुशी का पल होता है। जैसे ही एक महिला को इस बात का पता लगता है कि उसकी कोख में एक नन्हीं सी जान ने जगह बना ली है, उसकी खुशी को बस वही महसूस कर सकता है जिसने ये अनुभव किया हो।

प्रेग्नेंसी के बारे में जानने का सबसे पहला लक्षण होता है पीरियड्स मिस होना। लेकिन कभी-कभी प्रेग्नेंसी को समझना मुश्किल हो जाता है। इसलिए महिलाएं सबसे पहले घर में प्रेग्नेंसी किट से अपनी प्रेग्नेंसी की जांच करती हैं। घर पर प्रेग्नेंसी किट से जांच करना काफी सहुलियत भरा रहता है।

लेकिन आज हम आपको कुछ ऐसे लक्षणों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें पहचानकर आप शुरुआती तौर पर ही यह जान सकती हैं कि हैं कि आप प्रेग्नेंट हैं या नहीं। पढ़िए आप भी...

मूड में बदलाव

प्रेग्नेंसी में सबसे पहला और शुरुआती चरण होता है मूड स्विंग होना। इस दौरान महिलाएं छोटी-छोटी बात पर चिड़चिड़ी सी हो जाती हैं। ऐसा हार्मोनल परिवर्तन के कारण होता है। यही नहीं, इस तरह की स्थिति हर महिलाओं में अलग-अलग होती हैं

खाने के गंध से उल्टी जैसा महसूस होना

एक महिला को प्रेग्नेंसी के शुरुआती चरण में कुछ भी खाने की गंध अच्छी नहीं लगती। यहां तक कि उसके सामने कुछ भी खाने का सामने आए तो उसे उल्टी की समस्या हो जाती है।  

बार-बार यूरिन करना

जैसे ही एक महिला गर्भधारण करती है होती हैं वैसे ही कुछ समय बाद, हार्मोनल परिवर्तन की एक श्रृंखला आपके किडनी के माध्यम से रक्त के प्रवाह की दर को बढ़ाते हैं। जिससे कि आपका मूत्राशय अधिक तेज़ी से भरने लगता है, जिसके कारण आपको बार-बार यूरिन पास करने की जरूरत महसूस होती है।

थकावट होना

आप प्रेग्नेंसी के दौरान बिना कुछ किए ही थकान महसूस करेंगी। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जैसे ही आप प्रग्नेंट होती है वैसे ही उसमें प्रोजेस्ट्रोन हार्मोन का स्तर बढ़ने लगता है और ऐसी गर्भावस्था के पूरे नौ महीने होता है। इस कारण आपको नींद आने में परेशानी होती है और आपको थकान महसूस होती है।  

ब्रेस्ट में दर्द होना

प्रेग्नेंसी के शुरुआती चरण में आपको ब्रेस्ट में दर्द और सूजन की समस्या होना आम बात है। ऐसा हार्मोनल परिवर्तन के कारण होता है। इस दौरान शरीर में बढ़ता हार्मोनल स्तर आपके ब्रेस्ट में सूजन और दर्द उत्पन्न करते हैं। हालांकि पहले ट्राइमेस्टर के बाद इस तरह की समस्या बंद जाती है।

पीरियड्स बंद होना

यह तो सबसे पहला चरण है जो यह संकेत देता है कि आप गर्भवती हो गई हैं। जैसे ही आपको लगे कि आपका पीरियड नहीं आया तो आप तुरंत अपनी प्रेग्नेंसी की जांच करें।

शरीर का तापमान बढ़ना

प्रेग्नेंसी के शुरुआती दौर में आपके शरीर का तापमान सामान्या दिनों के तापमान से ज्याद रहेगा। अगर ऐसा है तो यह भी आपकी प्रेग्नेंसी का इशारा है। अगर आपको ज़रा भी संशय है और ऐसे लक्षण नज़र आ रहे हैं तो आप प्रेग्नेंसी का जांच कर लें।