प्रेगनेंसी में खुजली: क्या है नार्मल और कब जाएं डॉक्टर के पास

lead image

कभी कभी प्रेग्नेंसी में खुजली होना आपके लिए चिंता का कारण बन सकती है।

आप किसी भी मां से पूछ लीजिए वो सबसे ज्यादा कष्टप्रद करने वाला प्रेग्नेंसी की समस्या Itching (खुजली) बताएंगी। खुजली प्रेग्नेंसी में काफी नॉर्मल है।

कभी कभी प्रेग्नेंसी में खुजली होना आपके लिए चिंता का कारण बन सकती है। इसलिए हमने सोचा कि ये जरुरी है कि हम प्रेग्नेंट महिलाओं को बताएं कि खुजली कब तक नॉर्मल है और कब आपको इसे गंभीरता से लेना चाहिए।

प्रेग्नेंसी में खुजली: क्या नॉर्मल है

  • प्रेग्नेंसी में खुजली होना नॉर्मल है क्योंकि त्वचा फैलती है और बेबी का भी आकार बढ़ता जाता है इसलिए नमी कम होते जाती है।
  • इस दौरान एस्ट्रोजन का लेवल बढ़ा हुआ होता है इसलिए भी खुजली काफी ज्यादा होती है। ज्यादातर समय खुजली तीसरे ट्राइमिस्टर के दौरान होती है।
  • प्रेग्नेंट महिलाओं को स्क्रैच या खुजली की समस्या कमर के और स्तन के आसपास सबसे ज्यादा हो सकती है।
  • रुखी त्वचा की वजह से कभी कभी ये समस्या काफी ज्यादा बढ़ जाती है। इसलिए कोशिश करें कि आपके त्वचा की नमी हमेशा बरकरार रहे।
  • अगर किसी महिला को पहले से एग्जिमा जैसी समस्या रही हो तो प्रेग्नेंसी में और भी समस्या हो सकती है।

कब जाएं डॉक्टर के पास

हल्की फुल्की खुजली खासकर प्रेग्नेंसी के आखिरी समय में होना काफी नॉर्मल है। खुजली प्रेग्नेंसी के दौरान चिंता का विषय नहीं होती है।लेकिन अगर ज्यादा हो तो चिंता का कारण बन सकती है। जानिए कब आपको इसे गंभीरता से लेना चाहिए।

  • Pregnancy Cholestasis: जब खुलजी हाथ और पैर तक होनी शुरू हो जाए और बेचैनी भी लगे तो आप प्रेग्नेंसी कॉल्सेटेसिस से ग्रसित हो सकती हैं। ये एक लीवर प्रॉबल्म भी होता है जो कई महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान होती है।ऐसा तह होता है जब लीवर से निकलने वाली लिक्वड (Bile, पित्त) ठीक से लीवर में ना मिलता हो और स्किन में भी फैल जाता हो। इसके कारण पहले हथेली में फिर पूरे शरीर में खुजली हो सकती है।
  • Pruritic urticarial papules: खुजली जो बांह से लेकर पैर तक फैल जाए लेकिन कुछ और लक्षण ना दिखे तो इसे Pruritic Urticarial Papules कहते हैं। इसके कारण लाल लाल चकते या स्पॉट भी हो सकते हैं। ये ज्यादातर आखिरी तीन महिनों में होते हैं इसलिए अगर ज्यादा हो तो डॉक्टर को जरुर बताएं।
  • Prurigo of pregnancy: ये एक rare condition है और हर किसी को नहीं होता। इसमें छोटेछोटी फुंसियां होती है जोकि एक कीड़े के काटने जैसा निशाँ लगती है । यह आपके पेट, पीठ, हाथ या पैर कहीं भी हो सकती है पर तीन चार महीने में ठीक हो जाने चाहिए । 

इससे आराम पाने के घरेलू उपाय

अगर प्रेग्नेंसी में होने वाली खुलजी काफी ज्यादा नहीं है तो आप इससे घर में भी राहत पा सकते हैं।इसके लिए आप कुछ प्राकृतिक तरीके अपना सकती हैं। यहां कुछ आसान तरीके आप भी जानिए।

  1. नारियल तेल: नारियल तेल में फैटी एसिड होता है खुजली हो रहे जगह पर काफी आराम देता है। आप अपने हथेली पर तेल की कुछ बुंदे लें और पूरे शरीर दिन में दो बार लगाएं खासकर स्नान लेने के बाद।
  2. एलोविरा जेल: एलोविरा ठंढक पहुंचाने के लिए जानी ही जाती है।ये प्रेग्नेंसी में खुजली के दौरान काफी आराम देती है और स्ट्रेच मार्क से भी बचाती है। आप बिल्कुल असली एलोविरा जेल लें और जहां खुजली होती है वहां लगाकर रात भर छोड़ दें।आपको काफी आराम मिलेगा।
  3. बेकिंड सोडा: आप बेकिंग सोडा भी उस एरिया पर लगा सकती हैं जहां ज्यादा खुजली होती हो। एक चम्मच बेकिंग सोडा लें और उसमें पानी मिलाकर पेस्ट बना लें और 15 मिनट के लिए लगा कर धो लें।
  4. ठंढे पानी से स्नान: कोशिश करें कि आप ठंढे पानी से स्नान लें ना कि गर्म पानी से क्योंकि इससे त्वचा ज्यादा रुखी हो जाती है।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent