प्रेगनेंसी में एसीडिटी और हार्टबर्न कैसे करें कंट्रोल

lead image

प्रेगनेंसी के दौरान मैं गोलगप्पे, मोमोज, केक, पैस्ट्रीज और चॉकलेट आईसक्रीम बहुत खाया करती थी और ये सब खाने के आधा एक घंटे बाद से ही मुझे गले में जलन और अजीब सा फील होने लगता था ।

गर्भावस्था के अनेकों लक्षण और उनसे जुड़े फार्मूले हर किसी के लिए कारगर नहीं होते । एक ही तरह की परेशानियों के लिए अलग-अलग तरीके के नुस्खे आज़माने पड़ सकते हैं । गर्भ धारण के बाद आने वाली कई मुश्किलों में से एक है गैसट्रिक ।

जी हां प्रेगनेंसी के शुरुआती 4 महीने तक जी मिचलना यानि नॉजिया जैसा अनुभव करना एक सामान्य समस्या है । डॉक्टर्स के अनुसार प्रेगनेंसी के 4-5वें महीने होने पर इस तरह का कोई लक्षण आप महसूस नहीं करेंगी ।

गर्भावस्था के सभी पड़ाव पर गैस बनने के कारण सीने से लेकर गले तक जलन होती है

फिर भी कई माओं को गर्भावस्था के सभी पड़ाव पर गैस बनने के कारण या ऐसिड फार्म होने के कारण सीने से लेकर गले तक जलन होती है और दुख की बात तो ये है कि सीने में जलन की ये असुविधा पूरे टर्म में लगातार झेलनी पड़ सकती है ।

गैस बनने के कारण आप कुछ भी खाने से कतराती हैं क्योंकि आपको हमेशा यही लगता है कि कहीं वोमिटिंग ना होने लगे । अगर आप भी ऐसी परेशानी महसूस कर रही हैं तो चिंतित ना हों गर्भावस्था में बस आप अपने खान-पान और रुटीन का ध्यान रख कर पूरी तरह से फिट रह सकती हैं ।

मैंने खुद महसूस किया है कि गर्भावस्था के दौरान होने वाले आंतरिक बदलाव के कारण हमारे टेस्ट बड्स बड़े सक्रिय होते हैं । हम नुकसानदायक चीजें भी खाने के लिए तत्पर रहते हैं ।

प्रेगनेंसी के दौरान मैं गोलगप्पे, मोमोज, केक, पैस्ट्रीज और चॉकलेट आईसक्रीम बहुत खाया करती थी और ये सब खाने के आधा एक घंटे बाद से ही मुझे गले में जलन और अजीब सा फील होने लगता था ।

src=https://hindi admin.theindusparent.com/wp content/uploads/sites/10/2017/10/pregnancy 1508855129 e1508855142199.jpg प्रेगनेंसी में एसीडिटी और हार्टबर्न कैसे करें कंट्रोल

जब घर के सदस्यों ने बाहर का खाना मना कर दिया तो मैं रेसिपी सीख कर खुद ही बना कर खाने लगी । यकीन मानिए पेट भरने से ज्यादा इन दिनों मन को संतुष्ट करना जरुरी हो जाता है ।

सच कहुं तो डॉक्टर के मना करने के बावजूद भी मैं अपनी पसंदीदा चीजों के स्वाद के आगे अपनी सेहत को भूल जाती थी हालांकि मेरा ऐसा करना बिल्कुल भी सही नहीं था जिसका ख़ामिआजा भी मुझे भुगतना पड़ा था ।

मैं आप सभी मॉमस् टू बी को यही सलाह देना चाहुंगी कि कृपया अपने सेहत का ध्यान रखें, संयमित रुप से भोजन करें तकि आप पेट की समस्याओं से दूर रह सकें ।   

सीने में जलन से निज़ात चाहिए तो करें ये सब...

  • ऐसा कुछ भी पीने से बचें जिसमें कैफीन पाया जाता हो ।
  • ऐसा भोजन लें जो शरीर को नुकसान ना पहुंचा सके ।
  • सोडा वाला पेय लेने से परहेज करें ।
  • चॉकलेट कम मात्रा में सेवन करें ।
  • अल्कोहल को पूरी तरह त्याग दें ।
  • स्मोकिंग की लत हो तो खुद पर काबू रखें ।
  • तली हुई चीजों से खुद को दूर रखें ।

डियर मॉम्स टू बी...आपकी गायनो ने अगर गैस के लिए कोई दवा दे रखी है तो उसे नियमित रुप से लें । अल्ट्रासाउंड के दौरान गैस के बबल्स देखने के बाद हो सकता है कि वो आपको टाईम टू टाईम खाने-पीने की सलाह दें ।

अगर अत्यधिक गैस बन रहा हो तो उसके लिए सुबह या शाम के वक्त ठहलने की आदत डालें । दिन भर में 3 बार हेवी डोज़ लेने की बजाय हर घंटे कुछ ना कुछ खाते रहने से पाचन संबंधी समस्या ठीक हो जाएगी । पेट भर कर खाने के बाद तुरंत ही बिस्तर पर ना जाएं थोड़ा टहल लेने से हैवी फील नहीं होगा ।

आपको शायद ये पता ना हो पर भोजन के बाद च्युइंगम चबाने से पाचन तंत्र तुरुस्त होता है । पेट साफ रखने के लिए सोने से पूर्व दूध पी सकती हैं ।

याद रखिए कि प्रेगनेंसी में आप और आपके शिशु दोनों के लिए स्वास्थ्यवर्धक चीजों का खान-पान जरुरी है यकींनन आप एक मां होने के नाते खुद को स्वस्थ रखना चाहती होंगी ताकि आप की परेशानियों से पेट में पल रहे शिशु की सेहत पर की असर ना हो ।