pegnant हैं? तो सफर के दौरान बरतें ये सावधानियां

pegnant हैं? तो सफर के दौरान बरतें ये सावधानियां

यात्रा या बाहर घूमने के दौरान प्रेगनंट महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण सलाह

क्या प्रेगनेंसी के दौरान आप घूमने जा सकती हैं? बिल्कुल! क्यों नहीं! प्रेगनंट होने का का मतलब यह नहीं है कि आपको घूमने-फिरने की अपनी इच्छा को दबाना पड़े। कई प्रेगनंट महिलाएं छुट्टियों का लुत्फ उठाती हैं या बेबीमून पर जाती हैं या फिर शिशु के जन्म से पहले कारेबारी यात्राओं पर जाती हैं। और ऐसा करना बहुत मुश्किल काम नहीं है।

मुंबई के कुमार क्लीनिक की कंसल्टेंट गाइनेकोलॉजिस्ट डॉ. पापिया गोस्वामी मुखर्जी बताती हैं ‘‘जब तक प्रेगनेंसी में कोई जटिलता नहीं है तब तक ऐसी कोई वजह नहीं है कि गर्भवती महिलाएं सुरक्षित ढंग से यात्रा नहीं कर सकें”।

लेकिन इससे पहले कि आप अपना सूटकेस पैक करना शुरू करें कुछ सावधानियां बरतने की जरूरत है। यात्रा से पहले हमारी निम्नलिखित सूची पर ध्यान जरूर दें।

प्रेगनेंसी के दौरान यात्रा करना कब है सुरक्षित

RPic-pregnant-735393_960_720-500x332

अगर प्रेगनेंसी के दौरान किसी प्रकार की कोई चिकित्सकी य जटिलता नहीं है तो यात्रा करने का सबसे सही समय 14वें सप्ताह से 28वें सप्ताह (प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही) होता है। डॉ. मुखर्जी कहती हैं- “प्रेगनेंसी- के दौरान सबसे ज्यादा जटिलताएं पहली और तीसरी तिमाही के दौरान होती हैं, इसलिए यात्रा करने का सबसे सही समय गर्भावस्था की दूसरी तिमाही में होता है।’’

प्रेगनेंसी-की पहली तिमाही के दौरान कुछ महिलाओं को सुबह थकावट व उबकाई की शिकायत हो सकती है और यात्रा के दौरान यह और बढ़ सकती है। सबसे ध्यान रखने वाली बात है कि यात्रा करें या नहीं लेकिन गर्भावस्था की पहली तिमाही के दौरान गर्भपात का सबसे ज्यादा जोखिम होता है।

28वें सप्ताह के बाद घूमना या लंबे समय तक बैठना काफी मुश्किल हो सकता है। अक्सर महिलाओं को थकान की भी शिकायत रहती है।

प्रेगनेंसी की तीसरी तिमाही में समय से पहले लेबर शुरू होने का भी अतिरिक्त जोखिम होता है।

छुट्टियों की योजना बनाने से पहले आपको कौन-सी महत्वपूर्ण बातों को ध्यान में रखना चाहिए?

जानने के लिए पढ़ना जारी रखें पर क्लिक करें।

प्रेगनंट हैं तो यात्रा के दौरान निम्नलिखित बातों का ध्यान रखें-:

यात्रा पर निकलने से पहले इन बातों का ध्यान में जरूर रखें।

- किसी भी संभावित जोखिम से बचने के लिए अपने डॉक्टर के साथ अपनी यात्रा की पूरी योजना साझा करें।

- इस बात का पता जरूर लगाएं कि जिस जगह आप जा रही हैं, वहां हेल्थकेयर सुविधाएं कैसी हैं क्योंकि कभी आपात स्थिति में आपको

हास्पिटल की जरूरत पड़ सकती है।

- छुट्टियों पर जाते समय अपने मेडिकल रिकॉर्ड साथ लेकर जाएं, जिससे जरूरत पड़ने पर गंतव्य में मौजूद डॉक्टर को प्रासंगिक जानकारी उपलब्ध कराई जा सके

1R

- अगर आप किसी अंतरराष्ट्रीय डेस्टिनेशन पर जा रही हैं, तो उन देशों में जाने से परहेज़ करेंजहां जाने से पहले आपको टीके लगवाने पड़े।

- मलेरिया, माता व गर्भ में पल रहे शिशु के स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक साबित हो सकता है। डॉ. मुखर्जी सुझाव देती हैं- “बेहतर होगा कि प्रेगनंट महिला ऐसी जगहों पर जाने से बचें जहां मलेरिया होने की आशंका हो।’’

- यात्रा बीमा खरीदने पर विचार करें। बीमा लेते समय इस बात पर जरूर ध्यान दें कि जहां भी आप जा रही हैं, देश या विदेश में, वहां अगर आपको अचानक लेबर हुआ तो बीमा पॉलिसी में गर्भावस्था या नवजात की देखभाल शामिल है या नहीं।

- लंबे समय तक बैठी नहीं रहें। नियमित अंतराल पर आसान से व्यायाम करती रहें।

यात्रा के दौरान क्या-क्या पैक करें ? जानने के लिए पढ़ना जारी रखें।

 

प्रेगनेंसी में यात्रा के दौरान निम्नलिखित वस्तुएं जरूर पैक करें-:

एक बार आपकी पैकिंग पूरी हो जाएतो दोबारा सुनिश्चित कर लें कि आपने सभी ज़रूरी वस्तुएं रख ली हैं या नहीं

- प्रेगनेंसी के दौरान ली जाने वाली दवाएं और उलटी रोकने वाली दवाएं जरूर रखें।

- यात्रा के दौरान स्वास्थ्य किट (जिसमें हैजा,डिहाइड्रेशन,सर्दी-जुकाम व खांसी की ऐसी दवाएंजो गर्भावस्था के दौरान ली जा सकती हैं: अपने डॉक्टर से इसकी जानकारी ले लें)

2R

- पर्याप्त मात्रा में पानी और ऊर्जा से भरपूर मेवे जरूर रखें

- गैर-हानिकारक मॉस्किटो रिपेलेंट

- रिपोर्ट और प्रेग्नेंसी नोट्स के साथ मेडिकल फाइल

- ट्रैवल इंश्योरेंस पॉलिसी के दस्तावेज

- इमरजेंसी हेल्पलाइन नंबर

- ढीले-ढाले कपड़े

- आरामदायक जूते

- इलेस्टिक वाले कंप्रेशन सपोर्ट स्टॉकिंग्स, जो लंबी हवाई या सड़क यात्रा के दौरान पहनें, जिससे पैरों में थक्के जमने के जोखिम से बचा सके

यात्रा के दौरान खाने की सलाह के बारे में अधिक जानने के लिए आगे पढ़ें 

यात्रा के दौरान प्रेगनंट के लिए खान-पान सलाह

प्रेगनेंसी में यात्रा के दौरान स्वास्थ्य बेहतर रखने के लिए गर्भवती महिला का खान-पान सही रहना बहुत जरूरी है। डॉ. मुखर्जी इसके लिए निम्नलिखित सुझाव देती हैं:

- सुनिश्चित करें कि यात्रा के दौरान खाने के लिए आपके पास पर्याप्त मात्रा में स्वास्थ्यवर्धक स्नैक्स और पेय पदार्थ हों। इसके लिए कुछ अच्छे विकल्प ताज़े फल और सब्ज़ियां जैसे सेब,गाज़र,केले,संतरे,सूखे मेवे और सैंडविच।

- थोड़ी-थोड़ी देर में पानी का सेवन करती रहें (बोतल बंद पानी का सेवन करना बेहतर रहेगा। शराब और कैफीन (कॉफी इसका स्रोत है) से पूरी तरह परहेज़ करें।

3R

- गैस बनाने वाले खाद्य पदार्थों और कार्बन-डाई-ऑक्साइड युक्त पेय पदार्थों से परहेज़ करें। ऊंचाई (हवाई यात्रा और पहाड़ी क्षेत्रों की यात्रा) पर पेट में बनी गैस फैल जाती है और गर्भवती महिला को असहज महसूस हो सकता है।

- जब बाहर भोजन कर रही हों तो अच्छी तरह पके हुए भोजन को तरज़ीह दें। कच्चे भोजन जैसे सलाद और मांस का सेवन करने से परहेज़ करें।

- सड़क किनारे लगे ठेलों से ताजे़ फलों का जूस या लस्सी पीने से परहेज़ करें।

यात्रा के विभिन्न साधनों के दौरान विशिष्ट सुरक्षा उपाय करने की ज़रूरत होती है। अधिक जानकारी के लिए आगे पढ़ना जारी रखें

यात्रा के विभिन्न साधनों के दौरान विशिष्ट सुरक्षा उपाय करने की ज़रूरत होती है

- गर्भवती महिलाओं के लिए प्रत्येक विमानन कंपनी के नियम अलग-अलग होते हैं। इसलिए बेहतर यही होगा कि टिकट बुक कराते समय इन नियमों के बारे में पढ़ लें। गर्भावस्था के दौरान हवाई यात्रा के बारे में अधिक जानकारी के लिए पढ़े

- सड़क यात्रा करना ज़्यादा सुविधाजनक होता है क्योंकि इसमें गर्भवती महिला के पास बीच में रुकने या सफ़र करने का विकल्प होता है।

4R

सड़क यात्रा के दौरान इन बातों का रखें ध्यान:

- कई बार रेल से सफर करने की सलाह दी जाती हैं क्योंकि इसमें अचानक झटके नहीं लगते हैं। ट्रेन में यात्रा के दौरान इन बातों का ज़रूर खयाल रखें।

गर्भावस्था के दौरान यात्रा के बारे में आप कोई और सवाल पूछना चाहती हैं? नीचे दिए गए बॉक्स में टिप्पणी साझा करें।

Any views or opinions expressed in this article are personal and belong solely to the author; and do not represent those of theAsianparent or its clients.