परवरिश में 7 गलतियां जो सतर्क पैरेंट्स कभी नहीं करते

lead image

भले आप अपने बच्चे से अच्छा रिश्ता चाहते हैं लेकिन सीमाएं होनी चाहिए

बच्चों की परवरिश आसान नहीं होती और इसमें गलतियां होना भी स्वभाविक है। यहां हम आपको 7 पैरेंटिग के दौरान होने वाली गलतियां बता रहे हैं जो आपको कभी नहीं करनी चाहिए।

1. एकसमान ना होना

लोगों को एक दिनचर्या की जरूरत होती है जिस वजह से वो एक ट्रैक को फॉलो करते हैं। लेकिन जब बात बच्चों की और उनकी दिनचर्या की होती है तो आप जितने सिलसिलेवार होंगे आपको बच्चों को उतना ही सुरक्षा का बोध होगा और खुद ही अनुशासन का पालन करेंगे।

2. बच्चों को अधिक नकारात्मकता दिखाना

src=https://hindi admin.theindusparent.com/wp content/uploads/sites/10/2017/05/crying child.jpg परवरिश में 7 गलतियां जो सतर्क पैरेंट्स कभी नहीं करते

बच्चों पर चिल्लानाउन्हें भावनात्मक तरीके से कष्ट पहुंचाना या हमेशा उनकी बातों को मना कर देनाजैसी चीजें करने से बचना चाहिए। इस तरह के व्यवहार से आपका बच्चा कन्फ्यूज होगा। ऐसे व्यवहार के बाद बच्चों को कुछ सिखाना बहुच मुश्किल हो जाता है। वो नहीं समझ पाएंगे कि आप क्यों गुस्सा हैं। इस तरह से उनका कन्फ्यूजन बढ़ता जाएगा।

3. बच्चों के सामने झगड़ा

जब आप खुद बच्चे होंगे तो शायद आपने भी कभी कभी अपने पैरेंट्स को झगड़ा करते देखा होगा। आपने और भी कपल्स को झगड़ा करते या बहस करते देखा होगा। क्या आपको याद है कि उस वक्त आप कैसा महसूस करते थेबच्चों के लिए अपने को झगड़ा करते देखने से बुरा कुछ नहीं हो सकता है।

कभी कभी झगड़ों को टाला नहीं जा सकता हैलेकिन आपको ध्यान रखना चाहिए कि झगड़ा बच्चों के सामने ना हो । अगर आपके बच्चों को पता चलेगा कि आप उदास है तो उनके अंदर भी नकारात्मक बातें आएंगी। हो सकता है वो खुद को इसका जिम्मेदार माने।

4. बच्चों की हर बात को मानना

भले आप अपने बच्चे से अच्छा रिश्ता चाहते हैं लेकिन सीमाएं होनी चाहिए। सीमाएं तय होने से बच्चे जिम्मेदारी लेना सीखते हैं और उन्हें ये समझने दें कि वो जब जो चाहें वो नहीं मिल सकता है।

बच्चों को कभी कभी छूट देनामनमर्जी करने देने में कोई बुराई नहीं लेकिन ये हमेशा नहीं होना चाहिए। इससे आपको खुद एहसास होगा कि आपका बच्चा बिगड़ गया है। ये उनके सामाजिक विकास के लिए भी अच्छा नहीं है।

5. बच्चों के लिए मौजूद ना रहना

इसका हमें सामना करना चाहिए कि काम का बोझ हमेशा रहता है लेकिन आपके बच्चे के लिए जरूरी है कि वो जानें कि उनके पैरेंट्स उनसे कितना प्यार करते हैं। आप उनके साथ क्वालिटी टाइम बिताएं। कभी कभी काम को छोड़कर बच्चों के साथ समय बितानाकहीं समुद्र किनारे जाने अच्छा होता है। इससे आपका और आपके बच्चे का रिश्ता और भी मजबूत होता है।

6. गलत उदाहरण पेश करना

बाकियों कि तरह हर पैरेंट्स परफेक्ट नहीं होते। लेकिन ये किसी तरह का बहाना नहीं हो सकता कि आप बच्चों के सामने गलत उदाहरण पेश करें।

अगर आपकी कुछ बुरी आदतें हैं जैसे स्मोकिंग करनालोगों से रूखा व्यवहार करनाबार बार गलत बात बोलना तो पहले अपनी इन आदतों को सुधारें। इससे आप बच्चों के सामने अच्छा उदाहरण पेश कर पाएंगे और आपकी जिंदगी में भी सकारात्मक प्रभाव छोड़ पाएंगे।

7. अधिक सुरक्षात्मक रवैया अपनाना

पैरेंट्स हमेशा चाहते हैं कि बच्चे सुरक्षित रहें और ये मॉम डैड के लिए बिल्कुल नॉर्मल है। अगर बच्चे घर लेट से आएं तो चिंता होना भी स्वभाविक है या फिर अगर मैसेज करना भूल जाएं कि वो क्या कर रहे हैं।

लेकिन पैरेंट्स को अपने बच्चों पर भरोसा करना सीखना होगा कि वो खुद को हैंडल कर सकते हैं। अच्छे पैरेंट्स की निशानी होती है कि वो बच्चों को आत्मनिर्भर बनाना हां आपने उन्हें जो सिखाया है उसे ना भूलें और ना उन्हें भूलने दें। बतौर पैरेंट्स ये आपका लक्ष्य होना चाहिए।

अगर आपके पास कोई सवाल या रेसिपी है तो कमेंट सेक्शन में जरूर शेयर करें।

Source: theindusparent