दूसरे बच्चे के लिए सही समय कब ?

दूसरा बचा कब हो ये तय करना कभी-कभी पहले बच्चे के मुकाबले कठिन हो जाता है।

मेरे 18 महीने के बच्चे को छोटे से डायनासौर से खेलते देख मेरी माँ ने मुझसे पूछा " तो दुसरा बच्चा कब आ रहा है ?" मैंने टालते हुए कहा माँ मुझे सांस तो लेने दो।  लेकिन वो नहीं मानी।  "देखो अकेले खेल रहा है उसके साथ खेलने के लिए कोई तो चाहिए, यही सही टाइम है।"

 हालांकि मैंने मुद्दा बदल दिया लेकिन मेरी माँ ने बहुत समय से दबे हुए सवाल को जगा दिया था।  और वो सवाल ये की क्या मै दूसरे बच्चे के लिए तैयार हूँ ?दूसरा बचा कब हो ये तय करना कभी-कभी पहले बच्चे के मुकाबले कठिन हो जाता है।

हालांकि बच्चा पालने की आपकी काबिलियत पर कोई शक नहीं है लेकिन फिर भी कुछ बातें हैं जिनके बारे में सोचना जरूरी है।  आपकी उम्र, आपकी आर्थिक स्थिति, आपका शरीर आदि कुछ ऐसी महत्वपूर्ण बातें हैं जिनका ध्यान रखना अतिआवश्यक है।

कई लोगों के सलाह हो सकते हैं लेकिन एक छोटे बच्चे के होते हुए दूसरे बच्चे के बारे में फैसला  केवल आप दोनों का है।

दूसरे बच्चे कब हों ?

बच्चों के बीच काम अंतर होने के अपने नुकसान और फायदे हैं।  कुछ माता पिता एक के बाद एक बच्चों को जन्म दे देते हैं ताकि एक काम खत्म हो। वहीँ कुछ माता पिता एक बच्चे के बड़े होने का इंतज़ार करते हैं।  कुछ माओं का बच्चों के बीच अंतर पर क्या कहना है आइये पढ़ते हैं

“हमने तय कर लिया था की हमारे 2 बच्चे होंगे ,लेकिन मेरा पहला बच्चा 34 साल की उम्र में हुआ और हम 35 की उम्र के बाद गर्भवती होने के खतरों के बारे में जानते थे।   इसीलिए जब मेरा बीटा 6 महीने का था तभी मेरे गर्भ में मेरी बेटी पल रही थी। हमें ख़ुशी है की वो दोनों एक साथ बड़े हो रहे हैं।  - जिआह शाह (बदला हुआ नाम), हैदराबाद

"मेरे पति एक बच्चा चाहते थे लेकिन मुझे 2 बच्चों की चाहत थी क्योंकि दो प्यारे बच्चों के साथ रहना साथ बढ़ना बहुत प्यारा होता है। अनन्या केवल 11 महीने की थी जब गर्भनिरोध ना लेने के कारण मै गर्भवती हो गयी।  शुरू में हमें बहुत सदमा लगा लेकिन उसके बाद हमारी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा " - ज्योति कदम (बदला हुआ नाम), मुंबई

जल्दी जल्दी बच्चे होने के फायदे और नुकसान कुछ इस तरह हैं।

अच्छी बात

जल्दी जल्दी बच्चे होने का मतलब है की दोनों बड़े प्यारे दोस्त की तरह आपस में खेलेंगे और बड़े होंगे। नए बेबी का ध्यान कैसे रखना है वो आपके दिमाग में ताजा होगा जैसे स्तनपान, नहाना, डायपर बदलना आदि।  आपके बड़े बच्चे के खिलौने, किताब, कपडे आदि छोटे बच्चे के काम आ जाएंगे।

बुरी बात

क्योंकि दोनों बच्चे छोटे हैं इसीलिए दोनों आपका ध्यान बराबर रूप से मांगेंगे। इसका मतलब लड़ना, चिल्लाना आदि भी चलता रहेगा।  आप दोनों पर ध्यान देते हुए थक जाएंगी।

“मै ऐसी लड़की हूँ जो दूसरों को भाई-बहनों के साथ बड़े बड़े होते देखा लेकिन खुद अकेले बड़ी हुई। मै हमेशा से चाहती थी की मेरे साथ भी कोई हो इसीलिए मैंने २ बच्चों को जन्म देने का फैसला किया। जब मेरा बच्चा ढाई साल का था तब मै गर्भवती होना चाहती थी डॉक्टर को लगा की मै शारीरिक तौर पर इसके लिए तैयार नही हूँ। मुझे  तीन या साढ़े तीन साल का अंतर के आदर्श अंतर माना जा सकता है। " - जुई काले, नवी मुंबई

"ये सब हॉर्मोन के कारण हुआ। बड़ा बच्चा तीन साल में इतना प्यारा था की मुझे लगा की अब एक और ऐसा प्यारा बच्चा होना ही चाहिए। " - श्वेता सांखला, मुंबई

3 - 4 साल के अंतर में बच्चे होने के फायदे और नुकसान

फायदा

आपका बड़ा बच्चा कुछ हद तक आज़ाद हो जाएगा और आपको उसके काम नहीं करने पड़ेंगे।  बच्चों की देखभाल करना आप सीख चुकी होंगी इसीलिए कोई परेशानी नहीं होगी।  क्योंकि बच्चों में अंतर ज्यादा नहीं है इसिलए उनकी पसंद और नापसंद भी ज्यादा अलग नहीं होंगे।

नुकसान

आप अपने बड़े बच्चे को छोटे की आने के बारे में उसके सवालों का जवाब आसानी से नहीं पाएंगे। बड़े बच्चे को अपनी अहमियत काम होती दिखाई देगी जिससे उसमे ईर्ष्या की भावना आ जाएगी।

“मै हमेशा से बच्चों में एक दूसरे से प्यार करने और देखभाल करने की भावना देखना चाहती थी इसीलिए मुझे 2 बच्चे ही चाहिए थे। लेकिन मई अपने पहले बच्चे की ख़ुशी को पूरी तरह जीना चाहती थी। इसीलिए मैंने अपने बेटी के 6 के होने का इंतज़ार किया। दो बच्चों को सम्भालना मुश्किल होता है।  " - सोनिआ सभरवाल, नवी मुंबई

"मेरी बड़ी बेटी परी के 7 साल की उम्र तक कई दोस्त बन चुके थे। वो अब मुझसे आके लिपटती नहीं थी और मै इस चीज़ की बहुत कमी महसूस करती थी। इसीलिए जब वो 9 साल की हुई तब मैंने दूसरे बच्चे का फैसला किया। परी बहुत रोमांचित हुई वो पीहू का एक गुड़िया की तरह ख्याल रखती है। " - गुंजन शर्मा (बदला हुआ नाम ), दिल्ली।

अच्छी बात

आपका पहला बच्चा इतना बड़ा हो चुका होगा की वो अपना ख्याल रख सके और आपको भी समय दे ताकि आप छोटे बच्चे पर ध्यान दे सकें।  आपका पहला बच्चा हो सकता है की नए मेहमान  भी रखे।  जब आपका बड़ा बच्चा स्कूल में हो तब आपको नए मेहमान को देने के लिए काफी वक़्त होगा।   बड़े बच्चे ले बाद नए मेहमान की देखभाल में आप पहले से ज्यादा आश्वस्त होंगी। हालांकि हो सकता है की बड़े बच्चे में ईर्ष्या की भावना आ जाये लेकिन उस समय तक उसके पास अपना ध्यान बताने के लिए बहुत सी चीजें  होंगी।

बुरी बात

आपको बिलकुल नए तरीके से नन्हे बच्चे की देखभाल करनी पड़ सकती है।  उम्र में अंतर के वजह से हो सकता है की दोनों बच्चों की पसंद और नापसंद बिलकुल अलग अलग हों इसीलिए  परेशानी हो सकती है।  आपकी अपनी उम्र भी आपको बहुत जल्दी थका सकती है।

क्या आपकी उम्र सही है ?

दुर्भाग्य से आपकी प्रजनन सम्बन्धी स्वास्थ आपके जैविक क्रिया पर निर्भर करता है।  अगर आपकी उम्र 35 से ऊपर है तो  है की आपको बच्चों के बीच में अंतर रखने का 3 से 4 साल से ज्यादा का वक़्त ना मिले।  हालांकि अगर आपकी उम्र 35 से काम है तो आप दूसरे बच्चे के होने के बारे में सोच सकती हैं।

क्या आपके पति तैयार हैं ?

आप हो सकता है दुसरा बच्चा चाहती हों लेकिन क्या आपके पति भी यही चाहते हैं ? क्या दुसरा बच्चा आपके रिश्ते पर असर डालता है? इस मुद्दे पर आपस में बैठ कर बात करना और सलाह मश्वरा करना ही सही तरिका है।

आपकी आर्थिक स्थिति कैसी है ?

बच्चे महंगे होते हैं इसमें कोई शक नहीं है। और दूसरे बच्चे का होना खर्च को दोगुना कर देता है, खाने से लेकर खिलौनों तक और कपड़ों से लेके देखभाल और स्कूल तक। इससे पहले की आप दूसरे बच्चे की तैयारी करें आप अपनी आर्थिक स्थिति के बारे में भी सोचिये। अगर आप कामकाजी महिला हैं तो हो सकता है की आप दफ्तर के समय से ताल-मेल नहीं बैठा पाएंगे।  अपने आप से पूछें की क्या आप नौकरी छोड़ने के लिए तैयार हैं?

 

boy-tummy-baby

क्या आपके पास साथ देने वाले लोग हैं ?

अगर परिवार का कोई सदस्य नए मेहमान की देखभाल कर रहा है तो उसकी सलाह भी बहुत मायने रखता है। अगर आप दूसरे बच्चे के बाद भी काम  चाहती हैं तो उसका ध्यान कौन रखेगा? क्या आप बच्चे के लिए दाई रखना चाहेंगी ?

क्या आपका शरीर फिट है ?

हो सकता है की आप दूसरे बच्चे के लिए तैयार हों लेकिन हो सकता है की आपका शरीर इसके लिए तैयार ना हों। बाहरी तौर पर आपका शरीर तैयार दिख सकता है लेकिन दूसरे बच्चे की तैयारी से पहले एक डॉक्टर से बात जरूर करें, खासकर के अगर आपके पहले बच्चे के प्रसव के दौरान कोई समस्या हुई हो।

हो सकता है की परिवार में नए मेहमान को लाना आपके सपने को सच करने जैसा हो।  इसीलिए अगर आपको नटखट पैरों की आहट को सुनना चाहते हैं तो फिर आप दूसरे बच्चे के लिए तैयार हैं।  जहाँ तक मेरी बात है मै अपने पहले बच्चे की दूसरी सालगिरह पर केक काटने के लिए तैयार हूँ।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें  

Hindi.indusparent.com द्वारा ऐसी ही और जानकारी और अपडेट्स के लिए  हमें  Facebook पर  Like करें