जानिए गर्भ संस्कार और प्रेग्नेंसी में इससे जुड़े स्वास्थ्य के फायदे

lead image

विश्वास किया जाता है कि गर्भ संस्कार से बेबी के मानसिक और व्यवहारिक विकास बहुत ही अच्छी होती है। हम आपको बताने की कोशिश करते हैं कि असल में गर्भ संस्कार होता क्या है।

हर मां चाहती है कि उनका बेबी बिल्कुल अच्छा और हेल्दी जन्म ले।इसके लिए वो प्रेग्नेंसी के दौरान हर संभव ख्याल रखने की कोशिश करती है। आयुर्वेद में इसे गर्भ संस्कार कहा गया है जिसे धीरे धीरे भारत में पहचान मिल रही है। हम आपको बताने की कोशिश करते हैं कि असल में गर्भ संस्कार होता क्या है।

गर्भ संस्कार को समझिए

संस्कृत में इसका अर्थ होता है गर्भ में शिक्षा। विश्वास किया जाता है कि गर्भ संस्कार से बेबी के मानसिक और व्यवहारिक विकास बहुत ही अच्छी होती है। इसलिए कहा जाता है कि मां को मनोस्थिति का बच्चों पर प्रेग्नेंसी के दौरान बहुत असर पड़ता है।

आयुर्वेदिक फिजिशियन डॉ बालाजी तांबे जिन्होंने काफी प्रसिद्ध किताब आयुर्वेदिक गर्भ संस्कार लिखा है उनका कहना है कि अगर गर्भवती महिला और बच्चों के जन्म के कुछ समय बाद तक विशेषज्ञ का मार्गदर्शन मिले तो इसका समाज पर बहुत ही अच्छा असर पड़ सकता है।

 
src=http://www.theindusparent.com/wp content/uploads/2016/08/garbh sanskar inside.jpg जानिए गर्भ संस्कार और प्रेग्नेंसी में इससे जुड़े स्वास्थ्य के फायदे

इस तरीके को काफी रिर्सच और स्टडी के बाद निकाला गया है। गर्भ संस्कार गर्भ के अंदर ही बेबी को सही तरीके से विकास में मदद करता है। गर्भ संस्कार के अनुसार बेबी गर्भ में बाहर क्या हो रहा है ये महसूस करते हैं और रिएक्शन भी देते हैं। वो संगीत और आवाजों को समझते हैं और इसे ही नहीं मां के विचारों को बच्चे भी महसूस करते हैं।  गर्भ संस्कार में कुछ अलग अलग तरह की रस्मों के निभाया जाता है जैसे मंत्र पढ़ना, गर्भ में शिशु से बात करना, संगीत सुनना और कुछ आध्यात्मिक चीजें करना जैसे पूजा, मेडिटेशन और हेल्दी खाना।

ये गर्भ के अंदर बच्चों को कैसे मदद करता है

रिपोर्ट्स के अनुसार गर्भ संस्कार की मान्यता हिंदुओं में काफी समय से है। पुरानी हिंदु किताबें और वेदों में भी इसका वर्णन किया गया है। महाभारत में भी यहां तक की इसकी चर्चा की गई है।

गर्भ संस्कार में एक रस्म डाइट प्लानिंग की भी होती है इसके अलावा योगा, म्यूजिक और व्यवहार को लेकर भी सुझाव दिए जाते हैं। मतलब की मां के आसपास एक साकारात्मक माहौल बनाया जाता है।

जिन मांओं ने गर्भ संस्कार को माना है उनके  अनुसार उनके बेबी ने शुरूआती दिनों में बोलने, चलने और बाकी चीजों को कर चुके हैं। बाकियों का भी कहना है कि बेबी बाकी बच्चों से अच्छे से सोते हैं और बाकी बच्चों की तुलना में हेल्दी भी हैं। यहां जानिए कैसे गर्भ में बच्चों को इसकी मदद मिलती है।

 
src=http://www.theindusparent.com/wp content/uploads/2016/07/mother and baby.jpg जानिए गर्भ संस्कार और प्रेग्नेंसी में इससे जुड़े स्वास्थ्य के फायदे

1. बेबी के विकास में मददगार:

विज्ञान का मानना है कि बेबी का दिमाग 60 प्रतिशत गर्भ के अंदर ही विकसित होता है इसलिए बाहर की घटनाएं जैसे प्रकाश, संगीत आदि पर बेबी रिएक्शन दे सकता है।

इसलिए जब मां खुश रहती है और अच्छा सोचती है तो वो बच्चों में अच्छे हार्मोन सर्कुलेट करने में मदद करती है जिसका बच्चों पर असर पड़ता है।

2. बच्चों को शांत और पॉजिटिव रखने में मदद:

अच्छा संगीत सुनने से बच्चों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। विज्ञान ने भी माना है कि गर्भ में भी बच्चे मां की आवाज सुन सकते हैं और अगर बच्चे सकारात्मक रहे तो इससे मानसिक और शारीरिक विकास होता है।

3. बॉन्डिंग मजबूत होती है:

बेबी को मां की आवाज सुनकर जो खुशी मिलती है वो कोई और नहीं दे सकता । जब बेबी म्यूजिक और मां  की कहानियां सुनता है तो वो और भी शांत रहता है और मां –बच्चे के बीच की बॉन्डिंग उनके जन्म लेने के पहले से ही अच्छी होती है। इससे बेबी को अच्छा नींद लेने की आदत हो जाती है। वो ज्यादा अलर्ट और कॉन्फेंट रहते हैं। जन्म के बाद भी वो ज्यादा एक्टिव रहते हैं और स्तनपान के शुरूआती समस्याएं भी नहीं होती हैं।

4. मस्तिष्क का विकास:

बांसुरी, वीणा, वेद की आवाज गर्भ के दौरान बच्चों के जल्दी विकास में मदद करती है। आपको याद होगा कैसे अभिमन्यु चक्रव्यूह भेदना अपने घर में ही सीख गए थे क्योंकि अर्जुन ने उनकी मां को तकनीक बताई थी और इस दौरान वो सो गई थी इसलिए अभिमन्यु पूरी तकनीक नहीं सीख पाए थे।

गर्भ संस्कार के कई फायदे हैं जो मां और बेबी दोनों को मिलते हैं हर गर्भवती मां को इसे करने की कोशिश जरूर करनी। यहां एक उदाहरण के तौर पर एक गर्भ संस्कार का म्यूजिक हम दे रहे हैं जो आप सुन सकती हैं।

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent