चंदा कोच्चर का अपनी बेटी के नाम एक heart touching letter

आईसीआईसीआई बैंक की मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ ने अपनी बेटी आरती के नाम एक इमोशनल लैटर लिखा जिसमे हर माँ के लिए कुछ न कुछ valuable lesson है फिर चाहे वो वर्किंग मॉम हों या नॉन वर्किंग  क्योंकि एक माँ की लाइफ मुश्किल होती है । हालाँकि इसके अलावा ये जानना अपने आप में दिलचस्प है की कैसे जानी मानी हस्तियां डर और प्रेशर का सामना करती हैं ।

ऐसी ही एक हस्ती हैं आईसीआईसीआई बैंक की सीईओ और एमडी चन्दा कोच्चर । वो सभी महिलाओं के लिए प्रेरणाश्रोत हैं लेकिन अभी भी बहुत से लोग नहीं जानते की चन्दा कोच्चर एक माँ भी हैं जो अपने बच्चों में और फॅमिली में जरुरी मूल्यों को ज़िंदा रखना चाहती हैं । आपको भी ऐसा ही कुछ महसूस होगा जब आप उनका ये लैटर पढ़ेंगे जो उन्होंने अपनी बेटी आरती को लिखा । इस लैटर में हर माँ के लिए कुछ न कुछ सिखने को है।
ये हैं वो 7 life-lesson हर वर्किंग मॉम के लिए जो चन्दा कोच्चर ने अपनी बेटी के लिए लिखा ।

#1.जो काम करके आपको सैटिस्फैक्शन मिलती हो उसे दिल ने और पूरी लशमता से करना चाहिए।
ये चन्दा कोच्चर की चिट्ठी में लिखी पहली सीख है । "हमारे पेरेंट्स ने हम तीनों भाई बहनों को एक जैसा ट्रीट किया फिर चाहे वो हमारी पढ़ाई हो, फ्यूचर प्लान्स हों उन्होंने कभी किसी तरह का भेदभाव नहीं किया । हमारे ग्रांडपरेंट्स ने भी हमें ऐसा ही ट्रीट किया पूरी बराबरी से । उन्होंने हमें ये सन्देश दिया की जिस काम को करने में आपको अच्छा महसूस हो वो काम हमे पूरी ईमानदारी और निष्ठा से करनी चाहिए । ये वो शुरुवाती मोटोवशन थे जिन्होंने हमें एक स्वावलंबी और सेल्फ मेड इंसान बनाया । "

#2 माएँ समय आने पर सब कुछ संभाल सकती हैं ।
कोच्चर लिखती हैं की 13 साल की उम्र में ही उनके पिटा की मृत्यु हो गयी जिसने उनकी ज़िन्दगी रातों रात बदल के रख दी । "मैं सिर्फ 13 साल की थी जब मेरे पिता दिल का दौर पड़ने के वजह से नहीं रहे । उनके बिना ज़िन्दगी जीना मुश्किल था। अब तक हम लाइफ के हर चुनौती से सुरक्षित थे । लेकिन ये अचानक हो जाने से रातों रात हमारी जजन्दगी बदल गयी । मेरी माँ अभी तक घर का काम ही देखती थीं, उनपर अचानक बच्चों की पूरी पूरी जिम्मेदारी आ गयी । यही वो समय था जब हमे पता लगा की वो कितनी मजबूत थीं और अपनी जिम्मेदारियों को लेकर कितनी निष्ठावान थीं ।मुझे आज भी याद है की उन्होंने कैसे शांत भाव से इस क्राइसिस को झेला और शांत किया ।"

#3 एक फुल टाइम काम करने वाले पेरेंट्स के तौर पर आपके काम का असर आपके रिश्तों पर बिल्कुल नहीं पड़ना चाहिए

हम सब अपनी अपनी लाइफ में बहुत ही स्ट्रेसफुल माहौल में रहते हैं । ऐसे में कई बार फॅमिली को हमारे काम के वजह से आये गलत व्यवहार को झेलना पड़ जाता है । लेकिन ऐसा नहीं होना चाहिए । "तुम्हारे पापा और मैंने हमारे रिश्ते को अपने औने काम के साथ साथ खूब मजबूत किया । मुझे विश्वास है की समय आने पर तुम भी अपने पार्टनर के साथ यही करोगी। अगर तुम्हे कभी मेरे लंबे समय तक घर न आने की शिकायत होती तो मैं कभी अपने कैरियर में इतना आगे नहीं बढ़ पाती । मुझे ख़ुशी है की मुझे इतनी supportive फॅमिली मिली है और मुझे उम्मीद है की तुन्हे भी आगे चलकर ऐसी ही फॅमिली मिले।"

#4 तुम्हे चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा और उससे मजबूती से लड़ना होगा

चुनौतियाँ जीवन का हिस्सा हैं लेकिन इनमे आपको तोड़कर रख देने की क्षमता होती है । हालाँकि इन चुनौतियों से बाहर निकालना आसान नहीं होगा लेकिन इसका मजबूती से सामना करके इससे बाहर निकलना ही चाहिए ।
"मैंने अपनी माँ से एक और बात सीखी और वो ये की आपमें कठिन समय में खुद को मजबूत रखने और ज़िन्दगी में हमेशा आगे बढ़ते रहने की क्षमता होनी चाहिए । मुझे आज भी याद है की पापा के गुजर जाने के बाद उन्होंने कितने शांत स्वभाव से और पूरी हिम्मत से सबको सम्भाला।"

#5 रिश्ते बहुत जरुरी होते हैं और इन्हें अच्छे से संभाल कर रखना चाहिए

अपनी चिट्ठी में कई जगह कोच्चर ने एक मजबूत और supportive फॅमिली होने की बात की है । उन्होंने लाइफ में रिश्तों की अहमियत और उन्हें संभालने को लेकर भी बहुत कुछ लिखा है । "अपने कैरियर में मेहनत करने के अलावा मैंने फॅमिली पर भी पूरा ध्यान दिया । मेरे सासु माँ को जब भी मेरी जरूरत हुई मैं हमेशा उनके पास रही ।
और इसके बदले मुझे बेशुमार प्यार, respect और औने कैरियर के लिए सपोर्ट मिला । हमेशा याद रखना, रिश्ते बहुत जरूरी होते हैं, इन्हें संभाल कर रखना और इन्हें सेलिब्रेट करना बहुत जरुरी है । लेकिन ये भी याद रखना की ये दोतरफा होता है।  आप जिस तरह दूरों के साथ व्यवहार कर रहे हैं वैसे ही व्यवहार आपके साथ भी हो तो रिश्ते सफल होते हैं ।"

#6 हार्ड वर्क और लगन ज़िन्दगी में बहुत मायने रखती है ।

किस्मत जरुरी है लेकिन बिना कड़ी मेहनत और लगन के आप लाइफ में आगे नहीं बाद सकते। "मैं भाग्य में भरोसा करती हूँ लेकिन ये भी मानती हूँ की कड़ी मेहनत और लगन ज़िन्दगी में बहुत जरूरी है । मोटा मोटी बोलूं तो हम अपनी किस्मत खुद ही लिखते हैं । अपनी destiny अपने हाथों में रख के सपने देखें, अपना रास्ता खुद बनाएं । जैसे जैसे तुम लाइफ में आगे बढ़ो एक एक करके सफलता की सीढ़ी पर चढ़ना , अपना लक्ष्य ऊंचा रखना, धीरे धीरे आगे बढ़ना और उस समय को एन्जॉय करते हुए आगे बढ़ना। इन छोटी छोटी बातों से ही ज़िन्दगी का सफ़र तय होता है ।

#7 अपने सपनों को हासिल करने के लिए किसी तरह का कोई समझौता न करें

सफलता पाने के कोई शार्ट कट नहीं होते हैं । "आरती आपका माइंड क्या क्या कर सकता है उसकी कोई सीमा नहीं है लेकिन अपने सपनों को पुराण करने के लिए ईमानदारी और सही रास्तों से किसी तरह का कोई समझौता न करें । लेकिन अपने आसपास के लोगों की भावनाओं की कद्र करना भी सीखें । और हाँ याद रखना, अगर तुम स्ट्रेस को अपने ऊपर हावी नहीं होने दोगी तो कभी लाइफ में इस तरह के कोई इशू नहीं होंगे।
याद रखना की अच्छे और बुरे समय जीवन का हिस्सा है और जीवन में ये सामान रूप से आते हैं, तुम महद को इनसे कभी अलग नहीं कर सकती। लाइफ में मिलने वाले हर मौके से कुछ न कुछ सीखने की कोशिश करना और हर चुनौती का डट कर सामना करना ।

आप पूरी चिट्ठी यहाँ पढ़ सकते हैं 

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें  

Hindi.indusparent.com द्वारा ऐसी ही और जानकारी और अपडेट्स के लिए  हमें  Facebook पर  Like करें