घर में रहने वाली मेरी मॉम फ्रेंड्स..मुझे माफ कर दीजिए, मैं गलत थी!

lead image

एक हाउसवाइफ मां बनना दुनिया का सबसे मुश्किल काम है। मैं उन माओं को सलाम करती हैं जो दिन रात इस जॉब को करती हैं।

मातृत्व रातों रात सब बदल देता है। जी हां ऐसा ही तो होता है। आप अचानक से एक परिपक्व इंसान बन जाती हैं जिसके ऊपर एक छोटे से बेबी की सारी जिम्मेदारी होती है क्योंकि वो आप पर पूरी तरह से निर्भर है। और अगर आप इस सफर में अकेली हैं तो और भी ज्यादा मुश्किल हो जाता है।इन सब के बाद अगर आप कामकाजी नहीं बल्कि हाऊस वाइफ मॉम हैं तो ईमानदारी से कहूं आप तो गईं।

इन सबके बारे में आसानी से मैं इसलिए कह सकती हूं क्योंकि मैं इस दौर से गुजर चुकी हूं। जब मेरा बेबी हुआ था तो मैं हर खास पल का अनुभव लेना चाहती थी और जॉब करने का मतलब था कि कई महत्वपूर्ण पलों को मिस कर देना जिसके लिए हर मां जीती है। कड़ी मेहनत, रात भर जागना, समर्पण, तनाव, दर्द के फल के रूप वो हमें मिलते हैं।

मैं 6 महीने के बेबी के साथ बिल्कुल अकेली थी और नए चैलेंज के लिए बिल्कुल तैयार थी। मैं सोचती थी कि ये कुछ खास मुश्किल नहीं होगा..आखिर करना ही क्या है..घर पर ही तो रहना है और बेबी की देखभाल करनी है। ये कुछ ज्यादा मुश्किल तो नहीं होगा। मैं ये सब सोच रखी थी लेकिन मैं पूरी तरह से गलत थी और जानिए कैसे!

घर में रहने वाली मॉम होने के बाद भी ये कोई आसान जॉब नहीं था। यहां मैं कुछ बातें बता रही हूं जो मैंने तीन सालों के दौरान सीखा था।

1.कोई ब्रेक नहीं मिलता:

जब आप कामकाजी मां होती हैं और अपने बच्चे को डेकयर में या फिर नैनी के भरोसे रखती हैं तो आप अपने बेबी से कुछ देर के लिए दूर होते हैं। इस वजह से आप चाय या खाना कम से कम खा पाती हैं। लेकिन ये घर में रहने वाली मम्मियों के साथ नहीं होता और अगर ऐसा फिर भी कर पा रही हैं तो भगवान उनके साथ हैं।

2. बाहरी दुनिया से कोई सपोर्ट नहीं:

अगर आप नहीं चाहतीं कि रिश्तेदार आपके घर आएं तो भी आप कोई बहाना नहीं बना सकतीं। भले सभी को पता होता है कि आपके ऊपर एक बेबी और घर की पूरी जिम्मेदारी है फिर भी आपको उनकी आवाभगत करनी ही पड़ेगी। 24X7 बेबी का ध्यान रखने के बाद भी आपको उनकी कोई मदद नहीं मिलेगी।

3. बीमारी में भी एक्टिव:

प्रेग्नेंसी के दौरान या प्रेग्नेंसी के बाद आपको कई सारी अनचाही सलाह बेबी का ध्यान रखने के लिए दी जाएगी हां लेकिन कोई आगे आकर मदद नहीं करेगा। “अरे मेरे पास तो रहता ही नहीं है..मैं नहीं संभाल पाऊंगी” तो सबसे कॉमन बहाना है।जो लोग बेबी के लिए आपके पीछे पड़े रहते हैं वो आपको बेबी के आने के बाद दूर दूर तक नजर नहीं आएंगे।अगर आपकी किस्मत ज्यादा खराब हुई तो आपके पति उनमें से एक हैं।चाहे तबियत अच्छी हो खराब, बारिश हो या धूप, घर में रहकर बेबी को संभालने वाली मां को आराम करने का भी वक्त नहीं मिलता। उन्हें हमेशा एक्टिव रहना पड़ता है और अपना हेल्थ और मानसिक शांति को दांव पर लगाना पड़ता है।

 
anxious 2 1 घर में रहने वाली मेरी मॉम फ्रेंड्स..मुझे माफ कर दीजिए, मैं गलत थी!

4. 24X7 तनाव में:

जब आप काम कर रही होती हैं तो आप कई चीजों पर हंसती है, अपने विचार रखती हैं, कई मुद्दों पर दोस्तों के साथ चर्चा करती हैं (सिर्फ बेबी से जुड़ी नहीं) इन सब से तनाव कम होता है। जो माएं घर में रहती हैं उनका पूरा समय बस बेबी का होता है। उनके पास कुछ भी और कर पाने का समय नहीं होता है। इससे एक के बाद एक तनाव बढ़ता जाता है।

5. Thankless जॉब:

आप अपने बेबी के साथ हमेशा रहती हैं। उन्हें दूध पिलाना, डायपर बदलना, उन्हें सुलाना..और भी कई काम करने होते हैं लेकिन जैसे ही वो अपने पापा को देखते हैं उनके ऊपर कूद पड़ते हैं, उनकी खुशी देखने लायक होती है।क्या ऐसा हमारे साथ होता है?

इन सब के बाद आपके पति सप्ताह में दो-तीन दिन ये तो बोल ही देते हैं कि अरे यार सारा दिन क्या करती हो?”

इनसब के बाद अंत में मैं यही चाहती थी कि फ्री होने के बाद वापस काम पर लौट जाऊं। मुझसे और भी कुछ कर पाना मुश्किल था। एक हाउसवाइफ मां बनना दुनिया का सबसे मुश्किल काम है। मैं उन माओं को सलाम करती हैं जो दिन रात इस जॉब को करती हैं।

अगर आपके पास कोई सवाल या रेसिपी है तो कमेंट सेक्शन में जरूर शेयर करें।

Source: theindusparent