गर्भ गिरने के बाद फिर से गर्भवती होने के लिए क्या करें और क्या न करें

विशेषज्ञ बताते हैं की गर्भपात के बाद दोबारा गर्भवती होने में कोई कठिनाई नहीं होती है लेकिन महिला को इससे जुड़े सभी रिस्क फैक्टर के बारे में पता जरुर होना चाहिए

भारतीय महिला अगर किसी चीज़ को लेकर सबसे ज्यादा चिंतित होती है तो वो है गर्भपात. उसके मन में दो सवाल हमेशा घर बनाए रहते हैं .

  1. क्या मै गर्भपात के बाद दोबारा गर्भवती हो पाऊँगी ?
  2. गर्भपात के कितने समय बाद मै दोबारा गर्भवती हो सकती हूँ .

विशेषज्ञ बताते हैं की गर्भपात के बाद दोबारा गर्भवती होने में कोई कठिनाई नहीं होती है लेकिन महिला को इससे जुड़े सभी रिस्क फैक्टर के बारे में पता जरुर होना चाहिए .

क्या गर्भपात के बाद दोबारा गर्भवती होना सुरक्षित है ?

अगर एक अच्छे विशेषज्ञ के द्वारा गर्भपात करवाया गया हो एक सही प्रक्रिया से तो गर्भपात सुरक्षित होता है . इससे फर्टिलिटी पर कोई असर नहीं पड़ता . दिल्ली के पुष्पवती सिंघानिया रिसर्च इंस्टिट्यूट में कंसलटेंट और इंडोस्कोपिक सर्जन डॉ राहुल मनचंदा बताते हैं “दुबारा गर्भवती बहुत असं और साधारण है . चिंता सिर्फ तभी करनी चाहिए अगर गर्भपात के समय कोई परेशानी आई हो और गर्भाशय या फैलोपियन ट्यूब को कोई क्षति पंहुची हो .”

गर्भपात के बाद के रिस्क फैक्टर

भारत में बहुत सी महिलाएं असुरक्षित गर्भपात के कारण बहुत सी समस्याएं झेलती हैं . “इसके अलावा आजकल गढ़ब्पात कराने वाली दवाइयां कसी भी केमिस्ट के दूकान पर मिल रही हैं जिससे इनक्सा दुरूपयोग हो रहा है “

हाल ही के अध्ययनों से पता चला है की भारत में असुरक्षित गर्भपात से हर घंटे 2 महिलाओं की मौत हो रही है . इसलिए गर्भपात के लिए किसी स्त्री रोग विशेषज्ञ की सलाह जरुर लें .

डॉ मनचंदा 21 हफ़्तों के बाद किये जानेवाले गर्भपात से होने वाले लिस्ट के बारे में बताते हैं जो की निम्नलिखित हैं :

  • बहुत ज्यादा खून का बहना : 21 हफ्ते के गर्भ के बाद किये जाने वाले गर्भपात के बाद के पीरियड्स में बहुत ज्यादा खून बह जता है जिससे महिलाओं में कई तरह की समस्या उत्पन्न हो सकती है . ऐसा हर 1000 गर्भपात में से एक में जरुर होता है . इससे शरीर में लोहे की कमी हो जाती है .हालांकि इससे दोबारा गर्भवती होने में कोई समस्या नहीं होती है .
  • ग्रीवा का क्षतिग्रस्त हो जाना: यह गर्भ के द्वार पर होने वाली क्षति है . विशेषज्ञों के मुताबिक़ ये हर 1000 गर्भपात में से 10 महिलाओं में जरुर होता है . ऐसा भ्रूण को गब्ढ़ से निकलने की प्रक्रिया के दौरान किये सर्जरी के कारण होता है . कई बार गर्भपात करवाने से भी ये हो सकता है .इससे भविष्य मे गर्भवती होने में समस्या उत्पन्न हो सकती है .
  • संक्रमण : बिना मेडिकल सलाह और प्रकिया के करवाया गया गर्भपात बहुत से संक्रमण को बढ़ावा दे सकता है जिससे फर्टिलिटी पर प्रभाव पड़ता है और कई मामलों में मृत्यु भी हो सकती है

dreamstime_s_39703674

नोट : हमें नहीं भूलना चाहिए की असुरक्षित तरीके से किये जाने वाले गर्भपात से फर्टिलिटी पर भी फर्क पड़ता है और भविष्य में गर्भवती होने की क्षमता पर भी लेकिन विशेषज्ञों की निगरानी में किये गर्भपात से ऐसा कुछ नहीं होता है .

गर्भपात के बाद कुलिंग ऑफ पीरियड

डॉ मनचंदा बताते हैं की “गर्भपात के बाद कम से कम 3 महीने रुकना चाहिए . इससे शरीर को ताकत मिलने में और दुबारा गर्भवती होने के लिए तैयार होने का पर्याप्त समय मील जाता है .  ये कुछ कारन है जिसके वजह से गर्भपात के बाद कुछ समय रुकना चाहिए : 

  • इसे मेडिकल रिस्क कम होते हैं: ऐसा इसलिए क्योंकि अगर किसी मेडिकल कारण से गर्भपात किया गया है तो समय देने से आनर बचे और माँ की सेहत दोनों ठीक रह सकेगी .
  • मौत के खतरे को कम करता है : महिलाओं को गर्भपात तब कराना चाहिए जब बच्चे की ज़िन्दगी पहले से खतरे में हो .

डॉ मनचंदा बताते हैं की दोनों ही परिस्थियों में जल्दी दोबारा गर्भवती होने का फैसला बहुत ही खतरनाक साबित हो सकता है .  हालाँकि वो ये भी कहते हैं कि इसके बावजूद गर्भवती होना असंभव नहीं है .

गर्भपात के बाद दुबारा गर्भ धारण करना कितना सुरक्षित है जाने के लिए इस विडियो को देखें :

youtu.be/FgLqVUttYyw

गर्भपात के कितने समय बाद दुबारा गर्भवती हो सकते हैं ?

हालांकि 3 महीने रुकना ही चाहिए लेकिन 7 से 10 दिन के भीतर दुबारा गर्भवती होना भी संभव है . जानिये कैसे :

  • अगर सुरक्षित सेक्स न किया गया हो . इसिस्लिये अगर आप दोबारा गर्भवती नहीं होना चाहती हैं तो सेक्स के दौरान सुरक्षा लें और दुसरे गर्भ के लिए आपने डॉक्टर से बात करें
  • जल्दी गर्भपात जल्दी गर्भावस्था की हालत भी ला सकता है .इसीलिए गर्भपात के बी आड़ कम से कम एक महिना रुकना सही रहता है .

जल्दी ठीक होने के लिए सावधानियां

गर्भपात न सिर्फ शारीरिक रूप से वल्कि मानसिक रूप से भी चुनौती भरा हो सकता है . ऐसे में इन साव्धानिओं का पालन करें :

  • जितना हो सके तरल पेय पदार्थ  लें
  • कम से कम 3 हफ़्तों गटक भारी वजन उठाने से बचें
  • डॉक्टर के द्वारा बताये गए एंटीबायोटिक का सेवन करें
  • गर्भपात से 2 हफ़्तों तक व्यायाम करने से बचें
  • गर्म पानी से नहाने या स्पा आदि में जाने से बचें कुछ दिनों तक ताकि गर्भाशय के अन्दर किसी तरह के संक्रमण होने खतरा न हो
  • गर्भपात के 2 से 4 हफ़्तों तक सेक्स करने से या तम्पून आदि के इस्तेमाल से बचें
  • अगले गर्भ के लिए किसी डॉक्टर से पहले सलाह जरुर लें
  • अगर गर्भपात 9 हफ़्तों के बाद हुआ हो तो स्तन से दूध जैसे तरल पदार्थ का रिसाव हो सकता है .

dreamstime_s_32278688

इन सव्धानिओं का ध्यान रखें उसके बाद ही अगके गर्भ के बारे में सोचें .

गर्भपात के बाद दुबारा गर्भवती कैसे हों ?

  • डॉक्टर से नबात करें और सलाह लें . अपने डॉक्टर से सभी तरह के समस्याओं आदि की बात करें और उसकी बात को समझें भी
  • गर्भपात के दौरान हुए किसी भी तरह के परेशानिओं से बचने के लिए जरूरी सावधानी बरतें . अगर गर्भपात  के दौरान किसी भी प्रकार की क्षति हुई है तो सावधानी बरतें .
  • तंदरूस्त रहे : गर्भपात के कुछ समय बाद व्यायाम तथा योगा करना शुरू कर दें और अपनी सेहत बनाए रखें .
  • सेक्सुअल गतिविधियाँ शुरू कर दें : कुछ सामने के बाद आप अपनी सेक्स लाइफ को एन्जॉय कर सकते हैं . झ्यादा सेक्स करने से आपके गर्भवती होने की संभावना बढती है .
  • कुलिंग-ऑफ पीरियड के दौरान सेक्स न करें . हाँ उसके बाद आप इसकी शुरुवात कर सकते हैं
  • ओवुलेशन किट का इस्तेमाल करें : गर्भपात के बाद आप ओवुलेशन किट  का इस्तेमाल करके अपने ऋतुचक्र आदि की जानकारी पा सकते हैं जिससे आपको दोबारा गर्भवती होने में मदद मिलती है .
  • कुलिंग-ऑफ पीरियड के दौरान आप सीधे लेट कर आराम करें और अपने हिप्स के निचे तकिया रख लें इससे आपको आराम मिलता है .

विशेषज्ञ बताते हैं की अगर आप गर्भपात के बाद दोबारा गर्भवती होना चाहते हैं तो आपको अपने शरीर के प्रति बहुत ही ज्यादा सचेत और सजग रहने की जरूरत है . इसका मतलब ये है की आपको अपने आप को फिट रखने की जरूरत है और साथ ही पोषक आहार लेने की जरूरत है .

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें  

Hindi.indusparent.com द्वारा ऐसी ही और जानकारी और अपडेट्स के लिए  हमें  Facebook पर  Like करें