गर्भावस्था में यूरिन इन्फेक्शन ! कारण, लक्षण और उपचार..जानिए अभी

lead image

प्रेग्नेंसी में गर्भाशय का आकार बढ़ जाता है, जिसकी वजह से ब्लैडर पर ज्यादा दबाव पड़ता है। इस कारण यह इन्फेक्शन होना आम बात है।

यूटीआई यानी यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन। इसका मतलब कि यूरिनरी सिस्टम (मूत्र प्रणाली) में बैक्टीरिया पनप जाना जिस कारण संक्रमण हो जाता है। अगर इसका इलाज ठीक समय पर नहीं हुआ तो यह बढ़कर किडनी और ब्लैडर को भी अपनी चपेट में ले लेता है।

देखा जाए तो इस समस्या से हर दूसरी महिला गुज़री होती है। इसका सबसे पहला कारण एक आम कारण होता है – शौचालय। शौचालय में बैक्टीरिया बहुत जल्दी पनपते हैं तो इस कारण महिलाओं को यह बीमारी जल्दी अपनी चपेट में लेती है। 

यूटीआई वैसे तो किसी भी उम्र की महिला में हो सकता है लेकिन गर्भवती महिलाओं में यह आमतौर पर देखने को मिलती है। क्योंकि यह संक्रमण मूत्र मार्ग में होने वाले बदलावों के कारण होता है। प्रेग्नेंसी में गर्भाशय का आकार बढ़ जाता है, जिसकी वजह से ब्लैडर पर ज्यादा दबाव पड़ता है। इस कारण यह इन्फेक्शन होना आम बात है।

सबसे पहले तो अब यह जान लेते हैं कि इसके लक्षण क्या हैं और यूरीन इन्फेक्शन से क्या क्या समस्याएं एक गर्भवती महिला को देखने को मिलती है।

1. यूरिन इन्फेक्शन का सबसे पहला लक्षण है कि आपको यूरिन पास करते समय गुप्त अंग में जलन और दर्द महसूस होगा।

2. आपको आम दिनों की तुलना में बार-बार यूरिन पास करने की ज़रूरत महसूस होगी। 

3.  पेट के निचले हिस्से में आपको दर्द होना भी इसका एक लक्षण है। 

4. बैक्टीरिया होने के कारण आपको पेशाब से अजीब सी दुर्गंध भी आएगी। 

5. इस समय आपको हल्का बुखार भी हो सकता है। 

7.कमर के निचले हिस्से में दर्द होना भी एक लक्षण है। 

8. यही नहीं, इस इन्फेक्शन से मितली या उल्टियां भी हो सकती हैं। 

ऐसे करें बचाव

1. सफाई रखें

अगर आप गर्भवती हैं यूटीआई संक्रमण से पीड़ित है तो सबसे पहले आपको इस बात का सबसे ज्यादा ध्यान रखना होगा कि आप अपने अंतरवस्त्र बिल्कुल साफ रखें और अपने निचले हिस्से में सफाई रखें। गर्भवती महिलाओं में रोग प्रतिरोधक क्षमता बाकि लोगों के मुकाबले कम होती हैं तो इसलिए उन्हें यूरिन इन्फेक्शन होने का खतरा ज्यादा होता है।

src=https://hindi admin.theindusparent.com/wp content/uploads/sites/10/2017/10/drinking water 1508994782 e1508994811189.jpg गर्भावस्था में यूरिन इन्फेक्शन ! कारण, लक्षण और उपचार..जानिए अभी

flotty / Pixabay

2. ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं

यूरिन इन्फेक्शन में डॉक्टर हमेशा ज्यादा से ज्यादा पानी पीने की सलाह देते हैं। आप जितना ज्यादा पानी पिएंगी यह बैक्टीरिया उतनी ही जल्दी बाहर निकलेंगे। क्योंकि ज्यादा पानी पीने से आपको बार बार पेशाब लगेगा और पेशाब के ज़रिए अंदर फैले हुए बैक्टीरिया बाहर निकलेंगे। पानी के साथ साथ आप बाकी तरल पदार्थ जैसे नारियल पानी, ग्लुकोज, जूस जैसी तरल चीजें भी ले सकती हैं। 

3. पेशाब ना रोकें

कुछ महिलाएं ऐसी होती हैं जो पेशाब को रोक लेती हैं और देर देर में शौच जाती हैं। लेकिन आप इस बात को गांठ बांध लें कि आप जितनी बार पेशाब जाएंगी यह बैक्टीरिया उतनी जल्दी बाहर निकलेंगे।

4. खुद से दवाई ना लें

आपको इस बीमारी के बारे में सबसे पहले अपने डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। कभी भी खुद से दवाई लेने की कोशिश ना करें क्योंकि इससे बच्चे की सेहत पर असर पड़ सकता है।

5. मसालेदार चीज़ें ना खाएं

अगर आपको यूरिन इन्फेक्शन हो गया है तो आप मसालेदार और तली हुई चीज़ें बिल्कुल ना खाएं। इससे आपकी समस्या और भी बढ़ सकती है।