खुशियां ही खुशियां...टेलीविजन कपल माही विज-जय भानुशाली बने मम्मी पापा...बच्चों को लिया गोद

टेलीविजन के सबसे फेवरिट कपल माही विज और जय भानुसाली ने एक लड़की और एक लड़के को गोद लिया है।

टेलीविजन कपल गुरमीत और देबिना मुखर्जी ने दो बच्चियों को गोद लिया था और अब एक और कपल इस राह पर चल पड़े हैं।

जी हां, टीवी के सबसे फेवरिट में से एक, माही विज और जय भानुशाली, ने अपनी शादी की सातवीं सालगिरह के मौके पर अपने केयरटेकर के दो बच्चों, एक बेटे और बेटी को गोद लिया।

हालांकि बालिका वधु की यह एक्ट्रेस उन्हें अपना भांजा-भांजी मानती है लेकिन अब वो दोनों की मां बन गई हैं।

 

A post shared by Mahhi Vij (@mahhivij) on

वो हमारे बच्चे हैं

माही विज ने यह खास खबर एक दैनिक अखबार के साथ शेयर किया और कहा कि कई लोगों ने पूछा कि क्या वो मेरे बच्चे हैं और हम मानते भी हैं कि वो मेरे बच्चे हैं। हम उन्हें अपनी क्षमता के अनुसार बेस्ट देना चाहते हैं। मुझे इसकी परवाह नहीं है कि लोग क्या कहते हैं क्योंकि उनके पास बातें करन का समय होता है। वो हमारे साथ रहते हैं और किसी तरह की कोई समस्या नहीं है। बच्चे बहुत ही प्यारे हैं, मैं और जय दोनों उनसे बहुत प्यार करते हैं।

कपल ने उनके पालन-पोषण का पूरा प्लान भी बना लिया है। माही विज ने कहा कि हम उन्हें पढ़ाना चाहते हैं और आगे जाकर हमारे बच्चे हो गए तो भी हम उन्हें वही जिंदगी देंगे।

हम उन्हें हर चीज में बेस्ट देना चाहते हैं

गोद लेने की वजह से उनके बॉयोलॉजिकल पैरेंट्स बनने के प्लान पर कोई रुकावट नहीं आई है। माही विज ने कहा कि वो अपने केयरटेकर के बच्चों के पैरेंट्स बनकर बेहद खुश हैं लेकिन उनका भविष्य में परिवार बढ़ाने का भी प्लान है।

माही विज ने कहा कि अभी मेरा ध्यान करियर पर हैं। हम परिवार शुरू करने की योजना नहीं बना रहे हैं क्योंकि हम पहले कमाना चाहते हैं और दुनिया को दिखाना चाहते हैं कि हम क्या हैं। ये हमारी आंतरिक इच्छा है जो हमें ऐसा करने के लिए प्रेरित करती है। हम ये दोनों बच्चों को भी हर चीज में बेस्ट देना चाहते हैं जैसे हम अपने बच्चों को देना चाहते हैं।

 

A post shared by Mahhi Vij (@mahhivij) on

दिलचस्प बात ये है कि ये पहली बार नहीं है कि इस कपल ने अपने स्टाफ के बच्चों की जिम्मेदारी ली हो। इसके पहले भी 2015 में जय भानुशाली ने अपनी असिस्टेंट की बेटी खुशी की जिम्मेदारी उठाई थी और खुद को अब्बा का टाइटल दिया था।

ऐसा करके ये कपल उन सेलिब्रिटी की लिस्ट में शामिल हो गए हैं जिन्होंने बच्चों को गोद लिया है जैसे सुष्मिता सेन और रवीना टंडन सालों पहले ऐसा कर चुकी हैं।

लेकिन भारत में बच्चों को गोद लेना बहुत ही धीमी प्रक्रिया है। अगर आप भी बच्चों को गोद लेना चाहते हैं तो इन बातों का ख्याल रखें।

भारत में बच्चों को गोद लेने के नियम

केंद्रीय दत्‍तक-ग्रहण संसाधन प्राधिकरण (कारा) ने भारत में गोद लेने के कई कठोर नियम बनाए हैं। बल्कि पूरी प्रक्रिया भी ऑफिशियल वेबसाइट पर बताया गया है लेकिन जानिए इसकी सबसे खास बातें।

  • कोई भी भारतीय या एनआरआई बच्चे गोद ले सकते हैं। लेकिन इसके लिए उन्हें शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक रूप से मजबूत रहना चाहिए।आर्थिक रूप से संपन्न और बच्चों को गोद लेने की इच्छा होनी चाहिए। इन सब के अलावा उन्हें जिंदगी को खतरे में डालने वाली कोई बीमारी भी नहीं होनी चाहिए।
  • वैवाहिक स्थिति या पहले से बच्चे होने के बाद बच्चे को लिया जा सकता है। लेकिन एक सिंगल पुरूष बेटी को गोद नहीं ले सकता है।
  • विवाहित कपल जिनकी शादी 2 साल से अधिक समय से सफल रूप से चल रही हो वो बच्चों को गोद ले सकते हैं।
  • बच्चे और गोद ले रहे पैरेंट्स के बीच 25 साल का अंतर होना चाहिए।
  • पैरेंट्स की उम्र मिलाकर 110 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए और अगर सिंगल पैरेंट हैं तो 55 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए।