क्यों होता है प्रसव के बाद भी दर्द..कैसे पाएं छुटकारा...जानिए यहां

प्रसव के बाद एक सप्ताह तक आपको युट्रस में सुकड़ाव महसूस हो सकता है। स्तनों में दर्द हो सकता है। सबसे पहले तो आइए यह जान लीजिए कि आखिर क्यों प्रसव के बाद दर्द होता है। 

एक महिला जब गर्भवती होती है तो उसके मन में तब तक अलग सा डर बना रहता है जब तक डिलिवरी ना हो। उसे सबसे ज्यादा डर बार बार डिलिवरी के दौरान होने वाले दर्द को लेकर लगता है। इसी के साथ ही उसके शरीर में इस दौरान काफी बदलाव होते हैं जिसके चलते सेहत में उतार चढ़ाव चलता ही रहता है।
 
आपको बता दें कि जितनी देखभाल गर्भावस्था के दौरान एक महिला की होनी चाहिए उतनी ही देखभाल प्रसव के बाद भी ज़रूरी है। एक ओर जहां गर्भावस्था के दौरान शरीर में हार्मोनल बदलाव होती हैं तो वहीं दूसरी ओर प्रसव के बाद भी कई सारे बदलाव एक महिला के देखने को मिलते हैं। 
 
प्रसव के बाद एक सप्ताह तक आपको युट्रस में सुकड़ाव महसूस हो सकता है। स्तनों में दर्द हो सकता है। सबसे पहले तो आइए यह जान लीजिए कि आखिर क्यों प्रसव के बाद दर्द होता है। 

क्‍यों होता है प्रसव के बाद दर्द

प्रसव के बाद आपको कुछ दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है जैसे संक्रमम और तेज़ रक्त स्राव होना। बात की जाए संक्रमण की तो यह साफ सफाई के या समय से पहले कोशिकाओं को पहुंचे नुकसान के कारण हो सकता है। 
 
अगर आपको डिलिवरी के बाद संक्रमण हुआ है तो इस कारण बुखार, सिरदर्द, पेट के निचले हिस्से में दर्द, योनि से बदबू आना, उल्टी होना जैसे लक्षण दिखाई दे सकते हैं। 
 
इसके अलावा बता दें कि डिलिवरी के बाद यूट्रस सुकड़कर सामान्य अवस्था में आती है जिस कारण दर्द होता है। 
 
वहीं, स्तनों में इसलिए दर्द होता है क्योंकि डिलिवरी के बाद स्तनों में दूध भर जाता है और वो सख्त हो जाते हैं। इस कारण आपको दर्द होता है।
 

अब आइए नज़र डालते हैं कि कैसे आप प्रसव के बाद के दर्द से बच सकती हैं...

आप रक्तस्राव के कारण होने वाले दर्द से राहत पाने के लिए स्प्रे या क्रीम जैसी चीज़ों को इस्तेमाल कर सकती हैं। इससे आपको राहत मिलेगी। 

ऐसे पाएं दर्द से छुटकारा

1. आप श्रोणी क्षेत्र के लिए की जाने वाली एक्सरसाइज जरूर करें। इससे आपका घाव जल्दी भरेगा।
 
2. अगर आपकी डिलिवरी सिज़ेरियन से हुई है तो आपको ज्यादा दर्द होता होगा। अगर आपको लगे कि दर्द बर्दाश्त से बाहर हो रहा है तो अपने डॉक्टर की सलाह से दवा लें। 
 
3. इन्फेक्शन और बदबू को रोकने के लिए योनि और गुदा के आसपास के हिस्से को हमेशा साफ रखें।
 
4. आप पेरीनियल पार्ट के दर्द पर आराम पाने के लिए इस हिस्से की गर्म पानी से सिकाई कर सकती हैं। आपको काफी राहत महसूस होगी।
 
5. पहले दिन के दर्द को कम करने के लिए अपने योनि के आस-पास थोड़ी-थोड़ी देर के लिए बर्फ का पैक रखें। इससे आपको राहत मिलेगी। 
 
6. आप अपने सेनिटरी पैड को समय समय पर बदलती रहें, ताकि संक्रमण का खतरा ना रहे।
 
7. नॉर्मल डिलीवरी के बाद आपको मांसपेशियों में काफी खिंचाव महसूस होती होगी और इसी के साथ काफी कमज़ोरी भी आपको आती होगी।  इसलिए इस दौरान जितना हो सके आराम करें।