क्यों बच्चों को जूस पिलाने की जगह पूरा फल खिलाएं

lead image

फल का जूस बनाने के क्रम में उसे निचोड़ा जाता है जिसकी वजह से इसके कई न्यूट्रिशन खत्म हो जाते है, न्यूट्रिशनिस्ट जूस पीने की जगह पूरा फल खाने को अधिक वरियता देते हैं।

शहर में गर्मी बढ़ती जा रही है, अब समय आ गया है कि अधिक सावधानी बरती जाए ताकी गर्मियों में आप बीमार ना पड़ जाएं। अगर बात बच्चों की आती है तो पैरेंट्स को अधिक ध्यान रखने की जरूरत होती है क्योंकि अधिक गर्मी से कई तरह की स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं होती हैं जैसे भूख मर जाना जो वैसे ही कई बीमारियों की जड़ होता है ।

गर्मियों में शरीर में पानी की कमी ना हो इसलिए जूस पीना सबसे अच्छा उपाया माना जाता है लेकिन न्यूट्रिशनिस्ट जूस पीने की जगह पूरा फल खाने को अधिक वरियता देते हैं। Columbia Asia बैंगलौर की डाइटिश्यन एक्जिक्युटिव पवित्रा एन राज ने इसके पीछे की वजह बताई।

पवित्रा  ने कहा कि फल का जूस बनाने के क्रम में उसे निचोड़ा जाता है जिसकी वजह से इसके कई न्यूट्रिशन खत्म हो जाते है। विटामिन और फाइबर जैसे PECTIN सेव, अमरूद और संतरे में मौजूद रहता है जो आपके बच्चे के विकास के लिए जरूरी है। कई फल होते हैं जिनमें विटामिन सी, विटामिन बी कॉम्पलेक्स,  विटामिन और एंटीऑक्सिडेंट पाए जाते हैं।

डॉ पवित्रा के अनुसार तरबूज, मौसंबी, अनानास जैसे फल जिनमें भरपूर मात्रा में पानी होते हैं ये शरीर में पानी की कमी नहीं होने देते। आम, लीची, पपीता भी गर्मियों में काफी फायदेमंद होते हैं क्योंकि इनमें एस्कॉर्बिक एसिड पाए जाते हैं।

विटामिन ए और फाइबर ना सिर्फ नेचुरल यूवी प्रोटेक्शन देते हैं बल्कि बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ाते हैं। 
क्यों बच्चों को जूस पिलाने की जगह पूरा फल खिलाएं

हर रोज कम से कम दो फल जरूर खाना चाहिए। हर तरह के फलों के अपने फायदे होते हैं इसलिए पैरेंट्स को इस हिसाब से फल देना चाहिए। पवित्र ने जूस की जगह फल खाने के कई फायदे बताए।

1.चकोतरा (Pome Fruits) –

  • इन फलों में एंटी ऑक्सिडेंट और एंटी ट्युमर की विशेषताएं होती हैं। इसमें विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन ई और फॉलिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाई जाती है। हर रोज एक सेव जरूर खाना जरूरी है, इससे शरीर को जरूरी विटामिन मिलता है।
  • खट्टे फल : खट्टे फले (Citrus Fruit) में एसकॉर्बिक एसिड होता है जो विटामिन सी का लेवल सही रखता है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट होता है। संतरा, तरबुज जैसे फल बच्चे हमेशा खाना पसंद करते हैं।
  • ट्रॉपिकल फ्रूट – कैलोरी की वजह से ये फल बच्चों को जरूर देने चाहिए। केला, आम, अनानास ट्रॉपिकल फलों के कुछ उदाहरण हैं।
  • स्टोन फ्रूट – स्टोन फ्रूट में प्रचुर मात्रा में पोटैशियम पाई जाती है इसलिए इससे रक्त कोशिकाएं और मांसपेशियां मजबूत रहती हैं। इनमें भी एंटीऑक्सिडेंट के गुण होते हैं और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं। खुबानी, चेरी, बेर भारत में होने वाले कुछ स्टोन फ्रूट हैं।

कई फल के छिलकों में भी काफी न्यूट्रिशन होते हैं इसलिए इनकी अनदेखी नहीं करनी चाहिए। फलों के गुदों में भी फाइबर और न्यूट्रिशन होते हैं। जैसे संतरे के सफेद पार्ट में फ्लेवनॉयड होते हैं जो जूस निकालने के क्रम में हटा दिया जाता है।

कई फलों के जूस कैलोरी नहीं होती इसलिए ब्लड सुगर जल्दी बढ़ता है जबकि पूरा फल खाने से ऐसा नहीं होता।  इसलिए बच्चों के आहार में पूरा का पूरा फल शामिल करें ताकि उनका संपूर्ण विकास हो सके।

गर्मियों की वजह से बच्चों की एनर्जी जितना सोचते हैं उससे भी ज्यादा कम हो सकती है। यहां हम आपको कुछ फल बता रहे हैं जो आपके बच्चों को जल्दी एनर्जी देगी।

1. आम :  एक आम, जितना विटामिन ए आपके बच्चे के शरीर को रोज चाहिए होता है, उसका 25 प्रतिशत देता है, साथ ही 150 ग्राम आम 86 कैलोरी देता है।

  • फायदे:  इससे रतौंधी, जलन, आखों में खुलजी, सुखापन ठीक रहता है इससे पाचन भी सही रहता है और कैंसर सेल के विकास की संभावना भी कम रहती है और सबसे जरूरी बात की ये यादाश्त बढ़ाता है।
  • न्युट्रिशन की मात्रा :इसमें डाइजेस्टिव इनजाइम्स, फाइबर, एंटीऑक्सिडेंट जैसे मैंगीफेरिन, नोराथाइरॉयल और रिजवेराट्रॉल भी होते हैं। इसमें ग्लुमेटिक एसिड और पेक्टिन भी होता है।

2. तरबूज : गर्मियों को बच्चों को खिलाए जाने वाले फल में ये काफी महत्वपूर्ण फल है। तरबूज के एक बाइट में 92% पानी होता है। इससे शरीर में पानी की कमी नहीं होती है।

  • फायदे : तरबूज निरंतर खाने से शरीर के सारे फंक्शन सही रहते हैं। इलेक्ट्रोलाइट और अच्छी रोशनी तरबूज खाने के बड़े फायदे में से एक हैं। इससे शरीर को एनर्जी मिलती है और न्युरोलॉजिकल फंक्शन भी मजबूत रहता है। इससे गैस्ट्रिक एसिड रिलीज होती है जिसके कारण पाचन क्रिया अच्छी रहती है।
  • न्युट्रिशन की मात्रा : तरबूज में एंटीऑक्सिडेंट होते हैं और साथ है ये इलेक्ट्रोलाइट, सोडियम, पोटैशियन भी पाया जाता है। ये साथ ही विटामिन बी कॉम्पलेक्स और विटामिन ए का अच्छा स्त्रोत है।

3. अमरूद – चूंकि अमरूद को आप इसके छिलके केसाथ खा सकते हैं इसलिए इसके कई सारे फायदे हैं। जैसे अमरूद दिन भर जितना फाइबर चाहिए होता है उसका 12 प्रतिशत फाइबर देती है।

  • फायदे :  इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है खासकर इंफेक्शन होने की संभावना कम होती है। साथ ही कैंसर सेल भी कम होते हैं। पाचन को अच्छा रखने के लिए ये काफी फायदेमंद है और साथ ही आंख की रोशनी भी अच्छी रखता है। मस्तिष्क में रक्त संचार काफी अच्छा रहता है।
  • न्युट्रिशन की मात्रा : अमरूद में विटामिन सी और विटामिन ए होता है। इसके साथ ही फाइबर, पेक्टिन, लाइकोपेन पाया जाता है। अमरूद में विटामिन बी3 और विटामिन बी6 पाया जाता है।

4. अंगूर: अंगूर गर्मियों में सबसे अधिक पॉपुलर फलों में माना जाता है। जूस की जगह सीधे अंगूर खाना ज्यादा फायदेमंद होता है। योगर्ट में फ्रोजेन अंगूर डालकर खाना भी एक बढ़िया नाश्ता है।

  • फायदा : इससे शरीर का पूरा विकास होता है आंखो की रोशनी भी अच्छी रहती है।
  • न्युट्रिशन की मात्रा : अंगूर में विटामिन सी प्रचुर मात्रा में पाई जाती है। इसके सेवन से फैट, कोलेस्ट्रॉल भी नियंत्रित रहता है।

5. खीरा : गर्मियों में बच्चों के खाने में खीरा शामिल करें। इससे बच्चे रिफ्रेश महसूस करेंगे।

  • फायदे : खीरा में पोटैशियम और विटामिन ए, के, और सी पाया जाता है।
  • न्युट्रिशन की मात्रा: इससे रक्तचाप भी कंट्रोल में रहता है कैलोरी भी कम होती है।

6. सेव : सेव में पोषक तत्वों का खजाना है जो हर हाल में खाना चाहिए ना कि जूस पीना चाहिए। इससे इसके ज्यादा फायदे मिलते हैं।
क्यों बच्चों को जूस पिलाने की जगह पूरा फल खिलाएं

  • फायदे :  सेव RBC काउंट सही रखता है और नर्वस सिस्टम भी अच्छा रहता है। इसे खाने से कैंसर सेल का विकास नहीं होता है।
  • न्युट्रिशन की मात्रा : इसमें कई तरह के मिनरल होते हैं जैसे पोटैशियम, कैल्शियम और फोसफोरस। इसमें एस्कॉर्बिक एसिड भी पाया जाता है। इसके अलावा फाइबर, एंटिऑक्सिडेंट भी होता है। सेव में विटामिन बी कॉम्पलेक्स भी पाया जाता है इसलिए सेव को रोज की आहार में शामिल करें।

7. संतरा : हेल्दी डाइट के लिए संतरा को रोज के खाने की सलाद में शामिल करें।

  • फायदा – इससे कैंसर नहीं होता और रक्तचाप बना रहता है।
  • न्युट्रिशन की मात्रा : संतरा में कैल्शियम, पोटैशियम, पेक्टिन और विटामिन सी पाया जाता है।

 

इस आर्टिकल के बारे में अपने सुझाव और विचार कॉमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें | 

Source: theindusparent

app info
get app banner