क्या स्तनदूध निकाल कर शिशु को पिलाना सही है... जानिए दूध ‘एक्सप्रेस’ करने से जुड़ी हर बात

lead image

लेकिन स्तनदूध निकालने के तरीकों के अलावा इसमें सबसे अधिक ध्यान देने वाली बात ये है कि अमृत समान आपका दूध निकालने के बाद उसे सुरक्षित कैसे रखा जाए ताकि इसके पोषक तत्व बरकरार रहें

जब शिशु किसी कारण वश प्राकृतिक रुप से मां का दूध पीने में असमर्थ हो या मां के कामकाजी होने के कारण उन्हें शिशु के करीब लंबे समय तक बैठने का वक्त ना हो तो वैसी परिस्थितियों में शिशु की मदद के बिना ही कई तरीकों से मां का दूध निकाला जा सकता है इसी प्रक्रिया को मिल्क एक्सप्रेस कहा जाता है ।

स्तन से दूध निकाल कर शिशु को बोतल या चम्मच से पिलाना बिलकुल सामान्य है । इससे मां की गैरहाज़री में भी शिशु को पोषण मिल पाता है और मां भी समय-समय पर ब्रेस्ट मिल्क निकाल कर हल्का महसूस कर सकती हैं ।

अगर आपको अधिक सफर करना पड़ता है या कुछ घंटों के लिए बाहर जाना होता है तो उसमें भी आप स्टोर किए हुए स्तनदूध शिशु को बोतल द्वारा पिला सकती हैं इससे आपको शिशु को फीड कराने के लिए कार्नर की ज़रुरत नहीं पड़ेगी ।

लेकिन स्तनदूध निकालने के तरीकों के अलावा इसमें सबसे अधिक ध्यान देने वाली बात ये है कि अमृत समान आपका दूध निकालने के बाद उसे सुरक्षित कैसे रखा जाए ताकि इसके पोषक तत्व बरकरार रहें ।

मिल्क एक्सप्रेस करने के तरीके

Screen Shot 2017 12 27 at 2.43.39 pm क्या स्तनदूध निकाल कर शिशु को पिलाना सही है... जानिए दूध ‘एक्सप्रेस’ करने से जुड़ी हर बात

ब्रेस्ट पंप का प्रयोग करने से आप मिल्क एक्सप्रेस कर सकती हैं । इसका उपयोग बेहद आसान है बस इसकी कीप को अपने स्तन पर ठीक से बिठा कर हैंडल से पंप करना होता है ।

कभी-कभार ही अगर स्तन से दूध निकालने की आवश्यकता पड़ती हो तो हाथ से निचोड़ कर भी आप मिल्क एक्सप्रेस कर सकती हैं । बस ध्यान रहे कि निप्पल की बजाए पिछले हिस्से में निलिकाओं पर दबाब डालना है ।

इस के अलावा इलेक्ट्रिक मशीन भी मिलते हैं जो थोड़ा महंगा विकल्प जरुर है पर उन कामकाजी मांओं के लिए बिलकुल फिट है जिन्हें शिशु की पोषण के अलावा अपने काम के डेडलाइन्स का भी ध्यान रखना होता है ।

स्तनदूध कब तक खराब नहीं होता

  • 4 डिग्री तापमान में इस दूध को लगभग 5 दिनों तक फ्रीज में रख सकती हैं ।
  • फ्रीजर में इसे दो सप्ताह तक सहेजा जा सकता है ।
  • कोशिश ये करनी चाहिए लंबे समय तक फ्रीजर में बंद फ्रोजन दूध शिशु को कम ही पिलाया जाए क्योंकि फ्रोजन दूध से एंटीबॉडीज खत्म हो जाते हैं लेकिन फिर भी ये फार्मूला मिल्क से बेहतर विकल्प होता है  ।
  • ज़ाहिर है आप नहीं चाहेंगी कि आपका कीमती स्तनदूध बेकार हो जाए इसलिए समय सीमा में ही शिशु द्वारा उसकी खपत करवा दें ।   

दूध बर्फ बन गया हो तो कैसे पिघलाएं

  1. डायरेक्ट गर्म करने की बजाए दूध के बैग या बॉटल को गर्म पानी या गर्म बर्तन से सटा कर रखें धीरे-धीर इनका  पिघलना सही रहता है ।
  2. गर्मपानी के कटोरे में भी डाल सकती हैं  ।
  3. बंद बोतल पर गर्म पानी के नल चला दें ।
  4. फ्रीजर में डीफ्रोस्ट होने के लिए छोड़ दें।
  5. जब दूध पिघल जाए तो इसका इस्तेमाल तुरंत ही कर लेना चाहिए ।
  6. शिशु के पीने के बाद बोतल में बचे दूध को दुबारा पिलाना स्वास्थ के लिए ठीक नहीं होगा ।