क्या आप हैं पैरेंट् बनने के लिए तैयार..खुद से पूछिए ये 10 सवाल

lead image

अगर आप बेबी चाहते हैं तो इसके लिए बहुत सारी प्लानिंग के साथ ये भी जानने की जरूरत है क्या आप इस जिम्मेदारी के लिए तैयार हैं?

अगर आप बेबी चाहते हैं तो इसके लिए बहुत सारी प्लानिंग के साथ ये भी जानने की जरूरत है क्या आप इस जिम्मेदारी के लिए तैयार हैं?

1.आप अपने झगड़े कैसे खत्म करते हैं?

दिलचस्प बात ये है कि झगड़ा होने का मतलब ये नहीं होता कि कुछ गड़बड़ है, बल्कि आप कितनी जल्दी झगड़े सुलझा लेते हैं और समस्या का हल खोज लेते हैं ये मायने रखता है।

अगर झगड़े खत्म होने के बाद भी आप दोनों एक दूसरे पर गुस्सा है और अपने पार्टनर से अभी भी शिकायत है तो आपके लिए बेबी प्लान करने से पहले इन चीजों को भी सुलझाना बेहतर होगा। बेबी होने का मतलब है एक टीम की तरह कहीं अधिक चुनौतियों का सामना करना ना कि दुश्मनों की तरह।

2.माता/पिता होने की जिम्मेदारियों से आप अवगत हैं?

बेबी होने से पहले अपने पार्टनर से बात करें कि पैरेंट होने का क्या अर्थ है। आपको जानने की जरूरत है कि आप पैरेंट बनने के लिए और सारी जिम्मेदारियों से अवगत हैं। आप दोनों पहले आश्वस्त हो लें कि दोनों माता/पिता बनने के लिए तैयार हैं।

बेबी होने का अर्थ होता है एक छोटा सा बच्चा आपके हाथ में होना। आपको समझना होगा कि बेबी को जन्म देने का फैसला कितना महत्व रखता है।

3.आप अपने आराम के दायरे से बाहर निकलने के लिए तैयार हैं

बेबी होने का मतलब है कि वो आपको आपने कंफर्ट जोन से बाहर लेकर जाएंगे। जन्म देने से लेकर डायपर बदलने, बेबी का ख्याल रखने, कहीं वो बीमार ना पड़ जाएं इत्यादि का खास ख्याल रखना पड़ता है। आप कई अलग अलग तरह के अनुभवों से गुजरेंगे जो हो सकता है आपको शॉक कर दें और आराम के दायरे से बाहर लेकर जाएं।

जरूरी है कि आप और आपके पार्टनर पहले मानसिक रूप से तैयार हो जाएं कि आप हर रोज कुछ ना कुछ नया सीखेंगे।हो सकता है कुछ चीजों में बतौर पैरेंट आप फेल भी हो जाएं लेकिन ये भी इसका हिस्सा ही है।

4.क्या आप अक्सर हंसते हैं

अपनी गलतियों पर हंसना और हर चीज का सकारात्मक पहलू देखना भी बहुत महत्वपूर्ण है। इससे आपको तनाव और बेबी का ख्याल रखने में मदद मिलती है। इस तरह की कठिन परिस्थिति में भी खूबसूरती नजर आती है।

5.क्या आपके रिश्तेदार तैयार हैं?

ये भी जानना जरूरी है कि रिश्तेदार आपके बेबी को कैसे लेते हैं। विस्तृत परिवार का भी होना जरूरी है ताकि बच्चे को सपोर्ट मिले और साथ वो रिश्तेदार जिनसे आप बेबी  के केयर के लिए कभी भी मदद ले सकती हैं उनके बारे में जाने कि क्या वो तैयार हैं।

6.क्या आप दोनों काम करेंगे, या कोई एक घर पर रहेगा?

आप पहले ये प्लान कर लें कि परिवार कैसा होगा। अगर आप दोनों बेबी के आने के बाद भी अपने करियर पर फोकस करना चाहते हैं तो आपको नैनी की जरूरत पड़ेगी वो भी ऐसी नैनी जो बिल्कुल विश्वासपात्र हो कि आपके बच्चे का केयर करेगी। इसका ये मतलब भी है कि आप ओवरटाइम काम नहीं कर सकते क्योंकि बेबी को आपकी भी जरूरत होगी।

अगर कोई एक घर में रहने का फैसला करते हैं तो इसमें कई बलिदान देने पड़ते हैं। अगर आप या आपके पार्टनर ऐसा करने के लिए तैयार है तो आपको हमेशा चौंकन्ना रहना होगा। आपको खुद ही सबकुछ करना होगा। बहुत ज्यादा मेहनत और रातों में भी ना सो पाना इसमें शामिल है। इसलिए इन जिम्मेदारियों के लिए भी तैयार रहें ।

7.क्या आप दोनों अपने लिए समय निकाल लेंगे

आपका बच्चा आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण है तो भी एक कपल के तौर पर ये जरूरी है कि एक दूसरे के लिए समय निकालने से आपके परिवार की बॉन्डिंग मजबूत होगी। इसलिए बेबी के आ जाने के बाद भी एक दूसरे के साथ समय बिताना बेहद जरूरी है।

8.अनुशासन को कैसे बनाएं रखेंगे?

अपने बच्चे को अनुशासन सिखाना बेहद आवश्यक है। इसलिए पहले इसपर चर्चा करें कि आप दोनों कैसे स्थिति को संभाल लेंगे खासकर तब जब आपका बच्चा गलत व्यवहार करेगा।

आप दोनों के विचार इस मामले में बिल्कुल एक से होने चाहिए ताकि बच्चे को कोई सिग्नल ना मिले या संशय की स्थिति में ना जाए।

9. आप दोनों जिम्मेदारियों को कैसे शेयर करेंगे?

भले कि आप में से कोई एक घर में रहना पसंद करेगा और एक काम करना। फिर भी ये जरूरी है कि आप अपने पार्टनर के साथ कैसे जिम्मेदारियों को निभाएंगे।

घर का काम भी बराबर शेयर करें। बेबी के लिए भी बिल्कुल बराबर जिम्मदारी उठाएं। ये जरूरी है कि दोनों एक दूसरे का ध्यान रखें।

10. क्या आप आर्थिक रूप से तैयार हैं?

बेबी होने का अर्थ है खर्चे बढ़ जाना। बेबी के साथ आर्थिक जिम्मेदारी भी आती है जो बेबी के केयर करने जितना ही महत्वपूर्ण है।

ये भी महत्वपूर्ण है कि आप और आपके पार्टनर पहले आश्वस्त कर लें कि आप दोनों आर्थिक रूप से बेबी के लिए तैयार हैं, कम से कम आप बेबी के मूलभूत जरूरतों को पूरा कर पाएं।

आपको अपने बच्चे की शिक्षा के लिए पैसों की बचत की जरूरत पड़ेगी। इसलिए पैसों के साथ जिम्मेदार बनें। अगर आप और आपके पार्टनर बिना किसी परवाह के पैसे खर्च करती हैं तो खर्च करने की आदत को बदलें।

बच्चे के लिए एज्युकेशन प्लान में इन्वेस्ट करना भी एक अच्छा आइडिया है। इससे आप पैसे की बचत कर सकते हैं।

Source: theindusparent.com